आंखों में कभी अश्कों को भर कर नहीं जाते
दुःख-दर्द सुनाने कभी घर-घर नहीं जाते

लेकर कोई हथिआर या पत्थर नहीं जाते
लड़ने के लिए दूसरों के घर नहीं जाते

हैं और भी गलियां कई जाने के लिए दोस्त
दुश्मन की गली से कभी हो कर नहीं जाते

जाओ वहां पर जिस जगह दिल चाहें तुम्हारे
नफरत के मगर दोस्तों दफ्तर नहीं जाते

इतना नही अच्छा तेरा ये डर मेरे साथी
सर ओखली में देने से तो मर नहीं जाते

ऐ दोस्त, ज़रा बैठके औरों की भी तू सुन
गुस्से में सभा से कभी उठ कर नहीं जाते

ऐ दोस्त,मिटाने की तू कौशिश नहीं करना
हर मून से खुदे प्यार के अक्षर नहीं जाते

ऐ बादलो ,बरसो कभी हर और ही खुलकर
सूखे हुए तालाब यूँ ही भर नहीं जाते

औरों की तरह "प्राण" भले ही करो कौशिश
गंगा में नहाने से सभी तर नहीं जाते

22 comments:

  1. आदरणीय प्राण साहब नमस्कार ,
    मेरे जैसा अदना क्या आपकी तारीफ करे मगर ये क्या करे के कुछ न करे... बेहद उम्दा लिखा है आपने साहब बहोत ही शानदार....ढेरो बधाई कुबूल करें...


    आभार
    अर्श

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत अच्छी ग़ज़ल। बहुत बधाई प्राण जी।

    इतना नही अच्छा तेरा ये डर मेरे साथी
    सर ओखली में देने से तो मर नहीं जाते

    उत्तर देंहटाएं
  3. नसीहतों भरी ग़ज़ल है। जैसे दोहे होते थे जिनमें संदेश संन्निहित होते थे। बहुत अच्छा लगा इसे पढना।

    उत्तर देंहटाएं
  4. Its Ultimate. Thanks.

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  5. आदरणीय प्राण सर,

    ग़ज़ल पर आपके आलेख पढ कर इस विधा पर मेरी आजमाईश जारी है, आपकी ग़ज़ल पढना भी एक अनुभव ही है। सर शेर गहरा है, गंभार है और आत्मसात करने जैसा है।

    ***राजीव रंजन प्रसाद

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत अच्छी रचना है जनाब बधाई

    ऐ बादलो ,बरसो कभी हर और ही खुलकर
    सूखे हुए तालाब यूँ ही भर नहीं जाते

    उत्तर देंहटाएं
  7. pran saheb,

    aap ustaad ho , guru ho , aapki tareef ,yaani ki suraj ko diya dikhana ...

    आंखों में कभी अश्कों को भर कर नहीं जाते
    दुःख-दर्द सुनाने कभी घर-घर नहीं जाते

    wha wah ji ..


    bus kya kahun...behatreen ...umda

    bahut bahut badhai ..

    aapka
    vijay
    http://poemsofvijay.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  8. जाओ वहां पर जिस जगह दिल चाहें तुम्हारे
    नफरत के मगर दोस्तों दफ्तर नहीं जाते

    इतना नही अच्छा तेरा ये डर मेरे साथी
    सर ओखली में देने से तो मर नहीं जाते

    ऐ दोस्त, ज़रा बैठके औरों की भी तू सुन
    गुस्से में सभा से कभी उठ कर नहीं जाते
    वाह बहुत सुंदर अभिव्यक्ति है. अति सुंदर.

    उत्तर देंहटाएं
  9. Namaskaar Pran ji,
    khoobsoorat ghazal ke liye dhanyvaad.
    आंखों में कभी अश्कों को भर कर नहीं जाते
    दुःख-दर्द सुनाने कभी घर-घर नहीं जाते

    उत्तर देंहटाएं
  10. Pran ji
    Charan sparsh,
    Aapki gazal ki tarif karna suraj ko diya dikhane jaisa hai

    ye aash'r bahut man bhaye

    इतना नही अच्छा तेरा ये डर मेरे साथी
    सर ओखली में देने से तो मर नहीं जाते

    shrddha

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत साफगोई से अपनी बातेँ गज़लोँ मेँ सुनाना आप का ही हुनर है प्राण जी
    - लावण्या

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपके लेख को पढ़ने के बाद इस ग़ज़ल का और भी लुत्फ़ बढ़ गया है। पहले लेख को पढ़ें और फिर इस ग़ज़ल को, तो बहर सीखने में भी सहायता मिलती है। बस, इसी तरह काव्यानंद की वर्षा करते रहें और हम सब इसी प्रकार आनंद विभोर होते रहें।
    धन्य है आप।

    उत्तर देंहटाएं
  13. लेकर कोई हथिआर या पत्थर नहीं जाते
    लड़ने के लिए दूसरों के घर नहीं जाते

    इतना नही अच्छा तेरा ये डर मेरे साथी
    सर ओखली में देने से तो मर नहीं जाते

    ऐ बादलो ,बरसो कभी हर और ही खुलकर
    सूखे हुए तालाब यूँ ही भर नहीं जाते

    वाह वाह। धन्यवाद प्राण साहब।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत अच्छी ग़ज़ल है, संजीदा बातों को समेटे हुए।

    उत्तर देंहटाएं
  15. खूबसूरत ख्यालात का मुजाहरा करती हुई गजल..

    इतना नही अच्छा तेरा ये डर मेरे साथी
    सर ओखली में देने से तो मर नहीं जाते

    ऐ दोस्त,मिटाने की तू कौशिश नहीं करना
    हर मन से खुदे प्यार के अक्षर नहीं जाते

    औरों की तरह "प्राण" भले ही करो कौशिश
    गंगा में नहाने से सभी तर नहीं जाते

    उत्तर देंहटाएं
  16. आदरणीय प्राण साहब,

    आपके इन नक़्शे-पा पर, सब क्यूं कर, नहीं जाते
    जो चल पड़ते तो क्या अभी तक,पार तर, नहीं जाते

    आपकी ये ग़ज़ल, कितना ख़ूबसूरत सन्देश, कितने सादेपन से दे रही है. ये बस आप ही के बस की बात है सर. इससे नए लोगों प्रेरणा लेकर अपनी रचनाओं को संवारना, सजाना और प्रस्तुत करना चाहिए. आपका आशीर्वाद बना रहे हम पर, इसी दुआ के साथ.

    उत्तर देंहटाएं
  17. अच्छी सीख और प्रेरणा देती गज़ल...

    उत्तर देंहटाएं
  18. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  19. प्राण जी की गज़ल देखी।गज़ल की तो उन्हें महारत है ही, मेरा उस पर कुछ कहना शोभा नहीं देता। भाव और व्यंजना के स्तर पर जीवन पर पकड़ को व्यक्त करती है यह रचना और अनुभवजन्यता भी स्पष्ट दिखाई देती है। उन्हें बधाई!

    मेरे ख्याल से इसमें कुछ टायपिंग की कुछ चूकें रह गई हैं,चन्द्रबिन्दु व अनुस्वार का तो कई जगह प्रयोग गड़बड़ाया हुआ है।

    १)
    मेरे खयाल से ‘मून’ जहाँ छपा है वहाँ ‘मन’ होना चाहिए था. बहर भी टूट रही है ‘मून’ की एक मात्रा बढ़ जाने से। साथ ही मून कोई सार्थक अभिव्यक्ति नहीं दे रहा।

    २)
    ‘कौशिश’ की जगह ‘कोशिश’ कर दें यह चूक २ जगह रह गई है।

    ३)
    ऐ बादलो,बरसो कभी हर और ही खुलकर ... में ‘और’ (and) की जगह‘ओर’ (तरफ़) आएगा

    ४)
    ’हथिआर’ की जगह हथियार होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  20. हुज़ूर ,आपकी ग़ज़ल पर वाह यूं तो छोटा सा लफ़्ज़ है लेकिन है दिल से ।

    स्वीकार करें।

    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  21. आंखों में कभी अश्कों को भर कर नहीं जाते
    दुःख-दर्द सुनाने कभी घर-घर नहीं जाते
    लेकिन आपको पढने के लिए हम कहीं भी जा सकते हैं
    आभार

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget