दिल की कलम से
लिखती हूँ रोज़
एक पाती नेह की
और तुम्हें बुलाती हूँ

पर तुम नहीं आते
शायद वो पाती
तुम तक जाती ही नहीं
दिल की पाती है ना-

ना जाने कितनी बार
द्वार खटखटाती होगी
तुम्हें व्यस्त पाकर
बेचारी द्वार से ही
लौट आती होगी

तुम्हारी व्यस्तता
विमुखता लगती है
और झुँझलाहट
उस पर उतरती है

इसको चीरती हूँ
फाड़ती हूँ
टुकड़े-टुकड़े
कर डालती हूँ

मन की कातरता
सशक्त होती है
बेबस होकर
तड़फड़ाती है

और निरूपाय हो
कलम उठाती है
भावों में भरकर
पाती लिख जाती है

ओ निष्ठुर !
कोई पाती तो पढ़ो
मन की आँखों से
देखो----
तुम्हारे द्वार पर
एक ऊँचा पर्वत
उग आया है

मेरी पातियों का
ये पर्वत--
बढ़ता ही जाएगा
और किसी दिन
इसके सामने
तुम्हारा अहम्
बहुत छोटा हो जाएगा

20 comments:

  1. और निरूपाय हो
    कलम उठाती है
    भावों में भरकर
    पाती लिख जाती है

    बेहतरीन कविता के लिए आपको बारम्‍बार बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर कविता है. वधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  3. मेरी पातियों का
    ये पर्वत--
    बढ़ता ही जाएगा
    और किसी दिन
    इसके सामने
    तुम्हारा अहम्
    बहुत छोटा हो जाएगा
    सुंदर कविता है.
    बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  4. पंकज सक्सेना5 जनवरी 2009 को 2:41 pm

    मेरी पातियों का
    ये पर्वत--
    बढ़ता ही जाएगा
    और किसी दिन
    इसके सामने
    तुम्हारा अहम्
    बहुत छोटा हो जाएगा

    बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  5. संवेदन शील कविता है। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  6. मेरी पातियों का
    ये पर्वत--
    बढ़ता ही जाएगा
    और किसी दिन
    इसके सामने
    तुम्हारा अहम्
    बहुत छोटा हो जाएगा


    सुंदर और शशक्त अभिव्यक्ती.
    बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर परिकल्पना है। अच्छी कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  8. Very Nice poem. Thanks.

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  9. संवेदनशील पंक्तियाँ है। बहुत अच्छी और गहरी रचना है।

    मेरी पातियों का
    ये पर्वत--
    बढ़ता ही जाएगा
    और किसी दिन
    इसके सामने
    तुम्हारा अहम्
    बहुत छोटा हो जाएगा

    उत्तर देंहटाएं
  10. गहन भावपूर्ण इन सुंदर पंक्तियों ने ऐसे बांधा है कि बस क्या कहूँ......कुछ कहते नही बन रहा........

    यह भी ईश्वर की कृपा ही है कि भावों के उफानते धारा को वे लेखन के माध्यम से अभिव्यक्ति और संतोष का मार्ग दे देते हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर! बहुत भावपूर्ण ! परन्तु आज तक कोई ऐसा पहाड़ उगा है क्या, प्रेम का या पातियों का, जिसके सामने उसका अहम् छोटा पर जाए। अहम् को सींचना या अनदेखा करना ही उपाय जान पड़ते हैं।
    घुघूती बासूती

    उत्तर देंहटाएं
  12. SHOBHA JEE,AAPKEE KAVITA MEIN
    SHOBHA HEE SHOBHA HAI.BADHAAEE.

    उत्तर देंहटाएं
  13. काश:...कोई हमें भी लिखे ऐसी पाती...

    अपनी मैडम जी तो एक आध धमकी भर एस.एम.एस ही करती हैँ और अपुन हैँ कि सिर के बल चल कर उनके दरबार में तुरंत ही हाज़िर हो जाते हैँ।

    भावना से ओत-प्रोत हो लिखी गई एक सुन्दर कविता

    उत्तर देंहटाएं
  14. मेरी पातियों का
    ये पर्वत--
    बढ़ता ही जाएगा
    और किसी दिन
    इसके सामने
    तुम्हारा अहम्
    बहुत छोटा हो जाएगा

    bahut sunder rachana

    उत्तर देंहटाएं
  15. सुन्दर भावभरी रचना..
    स्नेह पाती को कोई रुकावट नहीं रोक सकती.. एक दिन यह जरूर अपने गंतव्य स्थल पर पंहुचेगी और हिमखंड को पिघला कर उसमें प्रेम धारा प्रवाहित कर देगी.

    उत्तर देंहटाएं
  16. संवेदनाओं को भाव भरा रूप दे दिया आपने ।
    सुंदर ।

    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत हीं सारगर्भित रचना है। कविता धीरे-धीरे असर करती है और अंतत: सम्मोहित कर जाती है।

    बधाई स्वीकारें।

    -विश्व दीपक

    उत्तर देंहटाएं
  18. shobha ji ,is behatreen kavita ke liye aapko bahut badhai ..

    man ki aankho se dekho... bahut sundar upma hai ...

    bahut bahut badhai ..

    aapka
    vijay
    http://poemsofvijay.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget