बस एक लम्हा ही काफ़ी है
भूल जाने को या याद आने को
मानो जैसे किसी के जादू सा कर दिया हो
चुटकी बजी सुई हिली और बस
छू मंतर ही हो जाते हैं ना
तन्हाई में बैठे बैठे
या भीड़ में ही सही कहीं
लेकिन जब एक दम से खो से जाते हैं
किसी और दुनिया में निकल जाते हैं
कुछ होश नहीं होता किसी का
पलक झपकी या नही.. साँस ली की नही
खा पी रहे हो या नहीं..
मानो खुली आँखों से
सोते हुए खाब देख रहे हैं
फिर क्या होना है..

चाय में डुबोया हुआ बिस्कुट जब
मुँह तक आते आते गोद में गिर जाता है
हड़बड़ा के होश में आते हैं
और लगभग भूल ही जाते हैं कि
कहाँ थे....क्य सोच रहे थे
रह जाती है तो एक मुस्कान या गहरी साँस
कि चलो बैठे बिठाए घूम आए...
है ना...!
*****

15 comments:

  1. चाय में डुबोया हुआ बिस्कुट जब
    मुँह तक आते आते गोद में गिर जाता है
    हड़बड़ा के होश में आते हैं
    और लगभग भूल ही जाते हैं कि
    कहाँ थे....क्य सोच रहे थे
    रह जाती है तो एक मुस्कान या गहरी साँस
    कि चलो बैठे बिठाए घूम आए...
    है ना...!

    कोमल अहसासों से सजी अच्छी कविता है उपासना जी।

    उत्तर देंहटाएं
  2. चाय की उपासना
    बिस्‍कुट डुबाने में
    सावधानी
    या कविता की
    है राजधानी।

    उत्तर देंहटाएं
  3. ham bhi aksar kho jate hain jab lecture sunte sunte neend aane lagti hai aur haath se kalam gir jati hai tab hosh aata hai... chai ka naam aapki rachna mein aaya to ham ab chai pine ja rahe hain :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. अच्छी भावाभिव्यक्ति के लिये साधुवाद स्वीकारें...

    उत्तर देंहटाएं
  5. चाय में डुबोया हुआ बिस्कुट जब
    मुँह तक आते आते गोद में गिर जाता है
    हड़बड़ा के होश में आते हैं
    और लगभग भूल ही जाते हैं कि
    कहाँ थे....क्य सोच रहे थे
    रह जाती है तो एक मुस्कान या गहरी साँस
    कि चलो बैठे बिठाए घूम आएbahut achhi aur dil ko chhu lene wali kavita

    उत्तर देंहटाएं
  6. bahut badiyaa likha hai chalo ab ham bhi kahin ghoom aate hain namaskaar

    उत्तर देंहटाएं
  7. अपने साथ भी अक्सर ऐसा हो जाता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. बस एक लम्हा ही काफ़ी है
    भूल जाने को या याद आने को.....

    बहुत अच्छी भावाभिव्यक्ति है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. हल्की-फुल्की दिल को छूती रचना।अंत आते-आते चेहरे पर हँसी छोड़ जाती है।

    बधाई स्वीकारें।

    -विश्व दीपक ’तन्हा’

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत खूब। अहसास को सुदर शब्द मिले हैं इस कविता में।

    उत्तर देंहटाएं
  11. चुटकी बजी सुई हिली और बस
    छू मंतर ही हो जाते हैं ना

    सच है। अच्छी कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  12. मन इतना चंचल है की क्षण भर में न जाने कहाँ कहाँ भ्रमण कर आता है.. इसकी गति को जिसने काबू में कर लिए वही सिकंदर. सुंदर भाव भरी कविता के लिए बधाई

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget