अभी धुँधलका है
पगडंडी पर बिछी
ओस बिखराते चतुष्पद
फ़िर चले
एक वृत्त रचने-

पुटठों पर लदा
बोझ , आदत-
वलक्ष काया पर लिखी
कोड़े की फ़ितरत
पगहे से रिसता जूट का स्वाद
त्वचा में चुभतीं पसलियाँ
फ़िर भी-
अप्रतिहत, अनवरत चलते पाँव-

सर्वविदित,
तथ्य,
कोल्हू ऐसे ही चलता है
बूँद भर
तेल बनाने को
पाव भर
खून जलता है

रचनाकार परिचय:-


आलोक शंकर का जन्म रामपुरवा बिहार में २५ अक्तूबर १९८३ को हुआ। 

आपने विकास विद्यालय रांची में बारहवी तक पढाई करने के पश्चात कोचीन यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी से सूचना प्राद्यौगिकी में अभियांत्रिकी का अध्य्यन किया है| वर्त्तमान में आप बेंगलुरु में सिस्को सिस्टम्स में सॉफ्टवेर इंजिनियर के रूप में कार्यरत हैं| 

आप विभिन्न कवि सम्मेलनों , मुशायरों में काव्य पाठ करने के अलावा रेडियो और विभिन्न वेब साईट पर कवितायें प्रसारित - प्रकाशित करते रहे हैं।

लिप्सा का एक केन्द्र
त्रिज्या में बँधे- अन्यथा कूष्माण्ड,
परिधि पर लिखते रह्ते
स्वेद का व्यक्तित्त्व-
कोल्हू ऐसे ही तो चलता है!!

दिनात्यय पर,
गिनता है कोई
परिधि बनाते बिंदुओं को ?
मृत्तिका पर लिखी-
डंडे की चोट पर भागती- पशु-प्रवृत्ति
बेमानी है,
असल बात तो यह है
कि
एक पसेरी तेल निकला।

वृत्त फिर भी चलता है-
और
पास ही खड़ा
डंडे मारता
आदमी
समझता है -
वह नहीं बँधा कोल्हू में ।

16 comments:

  1. बस, यही तो आभास है..

    बहुत उम्दा और गहरी रचना के लिए हार्दिक बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  2. वृत्त फिर भी चलता है-
    और
    पास ही खड़ा
    डंडे मारता
    आदमी
    समझता है -
    वह नहीं बँधा कोल्हू में

    जिस तन लागे ...वोही तन जाने

    गहराई लिए एक बेहतरीन रचना

    उत्तर देंहटाएं
  3. वृत्त फिर भी चलता है-
    और
    पास ही खड़ा
    डंडे मारता
    आदमी
    समझता है -
    वह नहीं बँधा कोल्हू में ।

    सही दृष्टिकोण में प्रस्तुत किया है आपनें।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत बढिया रचना है।बधाई।

    वृत्त फिर भी चलता है-
    और
    पास ही खड़ा
    डंडे मारता
    आदमी
    समझता है -
    वह नहीं बँधा कोल्हू में ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. The poem relates to every one.

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  6. पंकज सक्सेना7 फ़रवरी 2009 को 12:05 pm

    बात सही है। आदमी कोल्हू का बैल हो गया है लेकिन गफ़लत का कोई क्या करे। सुन्दर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  7. आलोक जी आप अभी भाषा से भी प्रभावित करते हैं। कविता आपकी भाषा में जी उठती है।

    वृत्त फिर भी चलता है-
    और
    पास ही खड़ा
    डंडे मारता
    आदमी
    समझता है -
    वह नहीं बँधा कोल्हू में ।

    ये पंक्तियाँ सच बोल रही हैं।

    ***राजीव रंजन प्रसाद

    उत्तर देंहटाएं
  8. आलोक की कविता आलोकित करती है। कविता पर कोई टिप्पणी नहीं बस इतना ही कि हिन्दी का भविष्य उज्ज्वल है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. दिनात्यय पर,
    गिनता है कोई
    परिधि बनाते बिंदुओं को ?
    मृत्तिका पर लिखी-
    डंडे की चोट पर भागती- पशु-प्रवृत्ति
    बेमानी है,
    असल बात तो यह है
    कि
    एक पसेरी तेल निकला।

    बहुत अच्छे बंधु। कलम की सेवा जारी रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  10. भाषा प्रभावशाली है। कविता प्रशंसनीय।

    उत्तर देंहटाएं
  11. उत्कृष्ट रचना!

    आलोक जी आपको आपके अंदाज़ में देखकर खुशी हुई।

    बधाई स्वीकारें!

    -विश्व दीपक

    उत्तर देंहटाएं
  12. Aap sabhi ka bahut shukriya, isi tarah hausla badhate rahiye

    http://alokshankar.tk

    उत्तर देंहटाएं
  13. gahrai liye hue rachna likhi hain apne
    shbd bahut sarthak istemal kiye gaye hain
    bahut achhi lagi
    ye rachna kavu sammelan.org par bhi padi thi badiya lekhan or anusharan karne layak shaili hain

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget