हिन्दी के सर्वाधिक लोकप्रिय गीतकार नीरज का जन्म ८ फरवरी १९२६ को पुरावली, इटावा उत्तर प्रदेश में हुआ था। नीरज आरंभ से ही मेधावी रहे थे, उन्होंने एम. ए. तक की अपनी सभी परीक्षायें ससम्मान उत्तीर्ण की। फ़िल्मों में गीत लेखन आपका वह पक्ष है जो आपको जनप्रिय बनाता है साथ ही हिन्दी जगत आपके योगदान को कभी भुला नहीं सकेगा। आपके गीतों में एसा माधुर्य है कि श्रोता मंत्रमुग्ध हो कर उन्हें सुनते हैं और इतने गहरे हैं आपके गीत कि उनके भावार्थ युगों तन आपको चर्चा का विषय बनाये रखेंगे। आपको दिनकर हिन्दी की वीणा कहते हैं तो आपकी आलोचना करने वाले आपको निराशावादी भी कहते हैं।

आपकी प्रमुख रचनाएँ हैं 'दर्द दिया', 'प्राण गीत', 'आसावरी', 'बादर बरस गयो', 'दो गीत', 'नदी किनारे', 'नीरज की गीतिकाएँ', संघर्ष, विभावरी, नीरज की पाती, लहर पुकारे, मुक्तक, गीत भी अगीत भी इत्यादि। आज नीरज जी के जन्मदिवस पर प्रस्तुत है देवेश वशिष्ठ ‘खबरी’ की नीरज से बातचीत (साहित्य शिल्पी पर पूर्व प्रकाशित) का ऑडियो, सुनने के लिये कृपया प्लेयर पर चटखा लगायें:





साथ ही सुनें नीरज की आवाज में काव्यपाठ





इस गीत को एक फिल्म के लिये स्वर्गीय रफ़ी साहब ने भी गाया था। आइये उनकी आवाज़ में भी ये गीत सुनते चलें:-



पाठकों की सुविधा के लिये नीरज जी के स्वर में उपर दिये गये प्लेयर में गायी गये गीत की पंक्तियाँ भी हम प्रस्तुत कर रहे हैं:-

कारवाँ गुज़र गया गुबार देखते रहे।

स्वप्न झरे फूल से, मीत चुभे शूल से
लुट गये सिंगार सभी बाग़ के बबूल से
और हम खड़े-खड़े बहार देखते रहे।
कारवाँ गुज़र गया गुबार देखते रहे।

नींद भी खुली न थी कि हाय धूप ढल गई
पाँव जब तलक उठे कि ज़िन्दगी फिसल गई
पात-पात झर गये कि शाख़-शाख़ जल गई
चाह तो निकल सकी न पर उमर निकल गई
गीत अश्क बन गए छंद हो दफन गए
साथ के सभी दिऐ धुआँ पहन पहन गये
और हम झुके-झुके मोड़ पर रुके-रुके
उम्र के चढ़ाव का उतार देखते रहे।
कारवाँ गुज़र गया गुबार देखते रहे।

क्या शबाब था कि फूल-फूल प्यार कर उठा
क्या जमाल था कि देख आइना मचल उठा
इस तरफ़ जमीन और आसमाँ उधर उठा
थाम कर जिगर उठा कि जो मिला नज़र उठा
एक दिन मगर यहाँ ऐसी कुछ हवा चली
लुट गयी कली-कली कि घुट गयी गली-गली
और हम लुटे-लुटे वक्त से पिटे-पिटे
साँस की शराब का खुमार देखते रहे।
कारवाँ गुज़र गया गुबार देखते रहे।

हाथ थे मिले कि जुल्फ चाँद की सँवार दूँ
होठ थे खुले कि हर बहार को पुकार दूँ
दर्द था दिया गया कि हर दुखी को प्यार दूँ
और साँस यूँ कि स्वर्ग भूमी पर उतार दूँ
हो सका न कुछ मगर शाम बन गई सहर
वह उठी लहर कि ढह गये किले बिखरबिखर
और हम डरे-डरे नीर नयन में भरे
ओढ़कर कफ़न पड़े मज़ार देखते रहे।
कारवाँ गुज़र गया गुबार देखते रहे।

माँग भर चली कि एक जब नई नई किरन
ढोलकें धुमुक उठीं ठुमक उठे चरन-चरन
शोर मच गया कि लो चली दुल्हन चली दुल्हन
गाँव सब उमड़ पड़ा बहक उठे नयन-नयन
पर तभी ज़हर भरी गाज एक वह गिरी
पुँछ गया सिंदूर तार-तार हुई चूनरी
और हम अजान से दूर के मकान से
पालकी लिये हुए कहार देखते रहे।
कारवाँ गुज़र गया गुबार देखते रहे।

साहित्य शिल्पी परिवार नीरज जी को शुभकामनायें देता है। हम आपकी लम्बी उम्र व स्वास्थ्य की कामना करते हैं।


रचनाकार परिचय:-

देवेश वशिष्ठ उर्फ खबरी का जन्म आगरा में 6 अगस्त 1985 को हुआ। लम्बे समय से लेखन व पत्रकारिता के क्षेत्र से जुडे रहे हैं। आपने भोपाल के माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रिकारिता विश्वविद्यालय से मॉस कम्युनिकेशन में पोस्ट ग्रेजुएशन की और फिर देहरादून में स्वास्थ्य महानिदेशालय के लिए डॉक्यूमेंट्री फिल्में बनाने लगे। दिल्ली में कई प्रोडक्शन हाऊसों में कैमरामैन, वीडियो एडिटर और कंटेन्ट राइटर की नौकरी करते हुए आपने लाइव इंडिया चैनल में असिस्टेंट प्रड्यूसर के तौर पर काम किया। बाद में आप इंडिया न्यूज में प्रड्यूसर हो गय्रे। आपने तहलका की हिंदी मैगजीन में सीनियर कॉपी एडिटर का काम भी किया है। वर्तमान में आप पत्रकारिता व स्वतंत्र लेखन कर रहे हैं।

24 comments:

  1. नीरज जी को उनके जन्मदिवस पर हार्दिक शुभ कामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस महान कवि को जन्म दिन की बधाई और आपको शुक्रिया !

    उत्तर देंहटाएं
  3. महाकवि नीरज को जन्मदिवस की हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  4. My wishes to neeraj jee. Thanks for this presentation.

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  5. नीरज जी हिन्दी के वे मूर्धन्य हैं जिनकी उपस्थिति भर से साहित्य जगत स्वयं को समृद्ध महसूस करता है। नीरज को प्रणाम व जन्म दिवस की हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  6. नीरज जी को जन्मदिवस की शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस महान कवि को नमन और जन्मदिन की शुभकामनाएं। नीरज जी के जन्मदिन पर यह आलेख देने के लिए "साहित्य शिल्पी" को भी बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  8. नीरज को नमन। आपकी दीर्घायु व स्वास्थ्य की कामना के साथ आपको जन्मदिवस की कोटिश: बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  9. महान कवि नीरज जी को उनके जन्मदिवस पर हार्दिक शुभकामनाएँ.यह आलेख देने के लिए "साहित्य शिल्पी" को शुक्रिया !!!

    उत्तर देंहटाएं
  10. महाकवि नीरज को जन्मदिवस की शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  11. नीरज जी से मेरा परिचय इसी गीत से हुआ था। उन्हे मेरा प्रणाम। हार्दिक शुभकामनायें।

    अनुज कुमार सिन्हा
    भागलपुर

    उत्तर देंहटाएं
  12. aadarniya neeraj ji ek mahaan kavi hai ...

    abhi ,kal main "sharmilee'film ka geet sun raha tha , "o meri sharmilee" ..
    unke lekhan ko salaam...aur unhe mera pranaam..
    mere pariwaar aur sahitya shilpi pariwaar ki oor se unhe janmdin ki shubkaamnaayen ..

    vijay
    hyderabad

    उत्तर देंहटाएं
  13. हिन्दी साहित्य में नीरज जी का एक विशेष स्थान है।उनकी रचनाएँ पाठकों में हौसला एवं उद्देश्य भरती हैं। ऎसे मूर्धन्य साहित्यकार को जन्म-दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    नीरज जी पर आलेख प्रस्तुत करने के लिए पूरी साहित्य-शिल्पी टीम, विशेषकर खबरी जी, का शुक्रिया।

    -विश्व दीपक

    उत्तर देंहटाएं
  14. नीरज के बिना हिन्दी साहित्यकाश की कल्पना भी संभव नहीं। नीरज और नीरज के गीत अमर हैं। हिन्दी की वीणा को जन्मदिवस की शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  15. महाकवि नीरज को जन्मदिवस की हार्दिक और आपको शुक्रिया !

    उत्तर देंहटाएं
  16. महाकवि नीरज

    किशोर अवस्था से शाहजहांपुर में उन दिनों रामलीला के समय होने वाले अखिल भारतीय कवि सम्मेलन से आपको सुनता पढ़ता आया हूँ. आज के रचना संसार में आप प्रतिपल हमारे प्रेरणा स्रोत हैं. आपके जन्म दिवस पर मेरा शत शत नमन और साहित्यशिल्पी परिवार का साधुवाद.
    सादर

    श्रीकान्त मिश्र 'कान्त'

    उत्तर देंहटाएं
  17. नीरज जी को पढ़ना और सुनना हमेशा ही सुखद रहा है। वे अपने काव्य से आनन्द रस की वर्षा करते रहें यही कामना है।

    उत्तर देंहटाएं
  18. महाकवि नीरज को पढ़ना और सुनना किसी सुखद अहसास से कम नहीं है। यह हमारा सौभाग्य है कि वह हमारे समय में वर्तमान हैं।
    हिन्दी की वीणा को उनके जन्मदिवस पर कोटिश: नमन और हार्दिक शुभकामनाये!

    उत्तर देंहटाएं
  19. KAVIVAR GOPALDAS NEERAJ KO UNKE
    JANMDIVAS KE SHUBH AVSAR PAR
    NAANAA BADHAAEEAN.

    उत्तर देंहटाएं
  20. नीरज जी का ये गीत १९६५ की फिल्म ’नई उमर की नई फसल’ के लिये स्वर्गीय रफ़ी साहब ने गाया था। आज इसे नीरज जी के स्वर में सुनना भी बहुत अच्छा लगा।
    आदरणीय नीरज जी को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  21. नीरज जी को उनके जन्मदिवस पर शुभकामनाएं तथा उनके दीर्घायु होने की कामना के साथ.

    उत्तर देंहटाएं
  22. महा कवि नीरज जी को नमन ....
    और ....

    जन्मदिवस की
    हार्दिक शुभ कामनाएँ...

    उत्तर देंहटाएं
  23. Is sadi ke Maha Kavi ko Janam din par sat sat naman.
    You are not a person to be forgotten, you always remain a nice cheap in my heart corner.

    उत्तर देंहटाएं
  24. Is sadi ke mahantam kavi to janam divas par bahut bahut badhaian.

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget