12 comments:

  1. मगरमच्‍छ का कहना है कि
    कलेजा में जुड़ा है लेजा
    तू चाहे कितना ही कहे जा
    पर मुझे देगा सुनाई लेजा लेजा
    अब बतला कब देगा तू मुझे
    अपना भेजा भेजा भेजा।

    उत्तर देंहटाएं
  2. अभी पाकिस्तान के कलेजे से पेट भरा है :) फिलहाल दोस्ती है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. ये तो देखा हुआ कार्टून लग रहा है. कहाँ, याद नहीं आ रहा.

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपने उड़ते उड़ाते देख लिया हुआ
    पर कविता तो नहीं सुनी हुई लगी।
    वैसे जो कहानी है इसमें वो जानी
    है पूरी तरह, अनजानी नहीं कुछ।।

    उत्तर देंहटाएं
  5. अमरीकी वास्‍तविकता को उजागर करता, अच्‍छा कार्टून।

    उत्तर देंहटाएं
  6. कुछ बातें तो खून में होती हैं.. और अंग्रेजी खून में तो खास कर दगाबाजी और फ़ूट डालने के किटाणू है.. इसलिये कलेजा पेड पर टांग कर ही दोस्ती करने में भलाई है :)

    उत्तर देंहटाएं
  7. कहीं फंसा ही दिया दोस्त(?) ने ,तो कलेजा घर भूल आने की बात याद रखेंगे।
    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget