Photobucket


रचनाकार परिचय:-


देवेश वशिष्ठ उर्फ खबरी का जन्म आगरा में 6 अगस्त 1985 को हुआ। लम्बे समय से लेखन व पत्रकारिता के क्षेत्र से जुडे रहे हैं। आपने भोपाल के माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रिकारिता विश्वविद्यालय से मॉस कम्युनिकेशन में पोस्ट ग्रेजुएशन की और फिर देहरादून में स्वास्थ्य महानिदेशालय के लिए डॉक्यूमेंट्री फिल्में बनाने लगे। दिल्ली में कई प्रोडक्शन हाऊसों में कैमरामैन, वीडियो एडिटर और कंटेन्ट राइटर की नौकरी करते हुए आपने लाइव इंडिया चैनल में असिस्टेंट प्रड्यूसर के तौर पर काम किया। बाद में आप इंडिया न्यूज में प्रड्यूसर हो गय्रे। आपने तहलका की हिंदी मैगजीन में सीनियर कॉपी एडिटर का काम भी किया है। वर्तमान में आप पत्रकारिता व स्वतंत्र लेखन कर रहे हैं।


चुप है मन,
थकियारा तन,
चुपचाप चला जाता जीवन॰॰
कम होता है,
धीरे-धीरे
साँसों का चलता घर्षण।

कैसा सुख?
फिर कैसा दुःख ?
उदासीनता का आँचल।
कहाँ सांझ है ?
कहाँ सवेरा ?
आ बैठा है अस्ताचल।

चलता हूँ,
रुक जाता हूँ,
मुडकर देखूँ क्या पीछे... ?
शायद कोई छूट गया है,
मिटकर भावों के नीचे।

लेकिन दिखता नहीं कहीं कुछ,
दूर-दूर तक उडती धूल,
चेहरा मेरा खिला कहाँ है?
कहाँ खिले दिल में
दो शूल?

बतलाओगे कैसा सूखा ?
कैसी होती है कलकल ?
मैंने कब का ओढ लिया है
उदासीनता का आँचल।
***** 

19 comments:

  1. मन:स्थिति का अच्छी तरह चित्रण करती है कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बतलाओगे कैसा सूखा ?
    कैसी होती है कलकल ?
    मैंने कब का ओढ लिया है
    उदासीनता का आँचल।

    अच्छी कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रभावित करती है आपकी कविता।

    लेकिन दिखता नहीं कहीं कुछ,
    दूर-दूर तक उडती धूल,
    चेहरा मेरा खिला कहाँ है?
    कहाँ खिले दिल में
    दो शूल?

    बतलाओगे कैसा सूखा ?
    कैसी होती है कलकल ?
    मैंने कब का ओढ लिया है
    उदासीनता का आँचल।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बतलाओगे कैसा सूखा ?
    कैसी होती है कलकल ?
    मैंने कब का ओढ लिया है
    उदासीनता का आँचल

    मनोस्तिथि का चित्रण करती एक अच्छी कविता कविता

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत अच्छी कविता के लिये बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बतलाओगे कैसा सूखा ?
    कैसी होती है कलकल ?
    मैंने कब का ओढ लिया है
    उदासीनता का आँचल।

    सुन्दर अहसास से भरी कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  7. अंतर्मन को तलाशती अच्छी कविता है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. लेकिन दिखता नहीं कहीं कुछ,
    दूर-दूर तक उडती धूल,
    चेहरा मेरा खिला कहाँ है?
    कहाँ खिले दिल में
    दो शूल?

    बतलाओगे कैसा सूखा ?
    कैसी होती है कलकल ?
    मैंने कब का ओढ लिया है
    उदासीनता का आँचल।
    सुन्दर लिखा है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. चुप है मन,
    थकियारा तन,
    चुपचाप चला जाता जीवन॰॰


    बतलाओगे कैसा सूखा ?
    कैसी होती है कलकल ?
    मैंने कब का ओढ लिया है
    उदासीनता का आँचल।


    बहुत अच्छी कविता ...
    बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  10. व्यथित, व्याकुलता व अस्थिरता के मनोभाव लिये सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  11. wah

    kya baat hai Devesh ji aapko padhna bhaut achha laga

    बतलाओगे कैसा सूखा ?
    कैसी होती है कलकल ?
    मैंने कब का ओढ लिया है
    उदासीनता का आँचल।

    bahut khoob

    उत्तर देंहटाएं
  12. चुप है मन,
    थकियारा तन,
    चुपचाप चला जाता जीवन॰॰
    कम होता है,
    धीरे-धीरे
    साँसों का चलता घर्षण।

    अच्छी कविता कविता है...बधाई.

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget