तेरी आँखों में आसमाँ आकर यूँ भर गया,
तूने उठाई पलकें जो, सूरज सँवर गया।
तारों के तार बुन रही पलकों के कोर पर,
उस चाँदनी का हुस्न, गिरकर निखर गया।

चिलमन से छन-छनकर,
मुझको निहारती,
तेरी इस रोशनी से मैं
जी-जीकर मर गया,
तूने उठाई पलकें जो, सूरज सँवर गया।

रचनाकार परिचय:-


विश्वदीपक ’तन्हा’ का जन्म बिहार के सोनपुर में २२ फरवरी १९८६ को हुआ था। आप कक्षा आठवीं से कविता लिख रहे हैं। 

बारहवीं के बाद आपका नामांकन भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान खड़गपुर के संगणक विज्ञान एवं अभियांत्रिकी विभाग में हो गया। अंतरजाल पर कुछ सुधि पाठकगण और कुछ प्रेरणास्रोत मित्रों को पाकर आपकी लेखनी क्रियाशील है।

कुहरे-सा एक-एक पल,
तेरे करीब में,
वक्त की सड़क पर यूँ
जम कर बिखर गया,
तूने उठाई पलकें जो, सूरज सँवर गया।

अलकों में रातरानी,
भौंह पर यह रात फ़ानी,
गालों पर आसमानी
सिंदुर की कहानी।

दर्पण थमा-थमाकर,
मेरी निगाह को,
सीसे-सा तेरा नूर तो
कई रूप धर गया,
तूने उठाई पलकें जो, सूरज सँवर गया।

ओठों पर भर-भराकर,
तुम्हारे लोच से
क्षितिज से टूटकर वो
इन्द्रधनक उतर गया,
तूने उठाई पलकें जो, सूरज सँवर गया।

गरदन पर धूप मानी,
काँधों पर छाँव दानी,
कटि पे बे-म्यानी
तलवार की निशानी।

नख-शिख यूँ रूमानी तुझे देखकर शायद,
जहाँ का हरेक शय,तुझमें हीं जड़ गया,
तेरी आँखों में आसमाँ आकर यूँ भर गया,
तूने उठाई पलकें जो, सूरज सँवर गया।

18 comments:

  1. तूने उठाई पलकें जो, सूरज सँवर गया।

    सुंदर अभिव्यक्ति है........मन के भावों को कलम से उतारने की भरपूर कला

    उत्तर देंहटाएं
  2. भारतीय कव्यपरंपरा में नख-शिख वर्णन के अनेकों उदाहरण विद्यमान हैं यह कविता अपने उपमानों के कारण विशेष है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रकृति का बिम्ब और नायिका का रूप चित्रण, बहुत सुन्दर।

    उत्तर देंहटाएं
  4. तूने उठाई पलकें जो, सूरज सँवर गया।

    सूरज के संवर जाने की बात अनूठी है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. khas baat ye hai ki behad romantic hai , rythmic hai aur hamesha ki tarah umda hai ...
    koi rafi avaz de de to zinda bani rahe hamsesha hamesha ke liye ..
    :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. नख-शिख यूँ रूमानी तुझे देखकर शायद,
    जहाँ का हरेक शय,तुझमें हीं जड़ गया,
    तेरी आँखों में आसमाँ आकर यूँ भर गया,
    तूने उठाई पलकें जो, सूरज सँवर गया।

    sundar.

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत अच्छी कविता है तनहा जी, बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  8. चिलमन से छन-छनकर,
    मुझको निहारती,
    तेरी इस रोशनी से मैं
    जी-जीकर मर गया,
    वाह! क्या बात है...

    उत्तर देंहटाएं
  9. एसी उत्कृष्ट कोटि की प्रेम कवितायें कम पढने को मिलती हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  10. तनहा जी की कवितायें अब संग्रह हो कर प्रकाशन चाहती हैं उन्हे बडे पाठक वर्ग तक पहुँचाना आवश्यक हो गया है। उनके भीतर का कवि न केवल परिपक्व है अपितु अपने अनूठे शब्द प्रयोग व भाव संसार के प्रस्तुतिकरण से काव्य जगत को ताजगी भी प्रदान कर रहा है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. wah kitni sundar abhivayakti
    bhaut kaamaal likhte ho

    shabad jaise moti ki tarah hote hain

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुन्दर उपमानों से सजी रचना.. बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  13. गरदन पर धूप मानी,
    काँधों पर छाँव दानी,
    कटि पे बे-म्यानी
    तलवार की निशानी।

    bahut badiya
    achhi lagi sir

    उत्तर देंहटाएं
  14. चिलमन से छन-छनकर,
    मुझको निहारती,
    तेरी इस रोशनी से मैं
    जी-जीकर मर गया,
    तूने उठाई पलकें जो, सूरज सँवर गया।


    वाह....


    तनहा जी,
    बधाई।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget