"हेलो "

" हेलो... आज इतने दिनों बाद "

" हाँ आज तुम्हारा स्मरण बहुत आवेग के साथ कर रहा था "

" सच पूछो तो मैं भी कल से ...."

" क्लासेस ...? डिस्टर्ब तो नहीं ..... "

" नहीं .. नहीं ... अभी फ्री हूँ. स्टूडेंट्स एनुअल फंक्शन की रिहर्सल में बिजी हैं . इतने दिनों बाद कम से कम आधा घंटा तो हम बात कर ही सकते हैं. वैसे भी तुम बात करने में बहुत कंजूस हो "

" ... सच पूछो कल से बहुत ही अन्यमनस्क अनुभव कर रहा था"

" फिर इतना बिलम्ब कैसे ..? कल ही क्यों नहीं काल किया. तबियत ठीक है ना.. तुम भी .. "

" नहीं नहीं .. ऐसा कुछ नहीं. बस पिछले कुछ दिनों बहुत अकेला सा अनुभव किया. जीवन की आपाधापी भरी तंग गलियों से जब भी गुजरा.. हरबार संभवतः उसी मोड़ पर पहुँच गया जहाँ पर कई बार अपनी परछाई तलाश करने लगता हूँ ... मेरा स्वभाव तुम्हें पता ही है "

" वैसे मैं भी इस बार तुमसे बहुत नाराज़ हूँ ... शायद थी अब नहीं. सोचा इस बार कोई फोन नहीं करूंगी... बहुत स्वार्थी हो गए हो .... बस नाम... नाम और काम. शायद मेरा अस्तित्व अब कहीं नहीं. इन दिनों तुम्हारे बारे में बहुत सोचा. जब भी याद किया... बस यही तय किया कि जब तक तुम्हारा काल नहीं आएगा, फोन नहीं करूंगी "

" थैंक्स… पता नहीं इसे क्या कहें जब भी मुझे या तुम्हें, दूसरे की तीव्र अनुभूति होती है, अगले की काल अपने आप ही आ जाती है "


" तो स्वयं की परछाई मिली ......"

" ... संभवतः एक नाम .... एक सुखद सा अहसास ... जब मन में थोड़ा झाँका और पास गया ..पहचाना ... यह तो तुम्हारा ही चेहरा था....."

" ऐसा कैसे होता है .... ? "

" कैसा ...!!! "

" हम दोनों जीवन में अब तक मात्र एक बार मिले हैं और वह भी एक सार्वजनिक कार्यक्रम में. निजी जीवन में अपने अलग अलग क्षेत्रों में व्यस्त होने के बाद भी लगता है कि युगों से एक साथ ही चल रहे हैं. है ना यह आश्चर्यजनक ? "

" हाँ यह है तो ... शायद ही कोई हमारी बात पर विश्वास कर सके ..... "

" किंतु हम जानते हैं कि यही सत्य है .. उस एक बार की हमारी संक्षिप्त सी भेंट और औपचारिक हाथ मिलाने का स्पर्श ... लगता है जीवन की सबसे बड़ी पूंजी है. जीता जा रहा हूँ तब से..... अब तक का लंबा अंतराल कैसे गुजर गया पता ही नहीं चला "

" तुम्हारी सारी बातें मुझे अब तक याद हैं. एक दिन तुमने कहा था ‘मुझे लगता है कि हमारे मानवीय जीवन की डगर का कोई ऐसा आयाम भी है जो सर्द रात्रि में भावना की गरमी और जीवन के जटिल संघषों की तपिश में एक घनेरी छाँव बनकर आकारहीन और आधारहीन होते हुए भी एक स्वरुप बनकर हमारे साथ हो लेता है ’ "

" ..... सच में जब भी थकता हूँ ... खोजता हूँ स्वयं को ... अंतस में तुम्हारा चेहरा उभरने लगता है.  "

" .. हूँम्मऽ.. बस कहते रहो .... मन का सारा प्रस्तार बाहर आने दो "

"तुमने अपने बारे में आज तक मात्र एक बार इतना ही बताया कि तुम विवाहित हो. आगे तुम्हारी अनिच्छा के कारण मैंने अब तक तुम्हारे बारे में कुछ भी जानने की चेष्टा नहीं की. किंतु आज बताना चाहता हूँ कि जब भी अपना अस्तित्व तलाश करने का प्रयास करता हूँ.. अंतस में बस तुम्हारा ही स्मरण आता है और मैं ध्येय कामना विहीन निराबोध शिशु सा तुम्हारी ओर निहारने लगता हूँ "

"... हा हा… तुम इतने निराबोध हो ...? "

" इसका उत्तर तो तुम ही दे सकती हो, स्वयं को और मुझे भी. फिर भी संभवतः सर्वज्ञ होने का हमारा दंभ ही हमें बहुत बेचैन करता रहता है. यही कारण है कि तुम्हारे सान्निध्य में एक निराबोध शिशु सा होकर मैं बहुत ही सहज अनुभव करता हूँ…......"

" रहने भी दो...आनलाइन ही सही किन्तु वर्षों से तुम्हें जानती हूँ, लगता है चाटुकारिता के विद्यालय में पहली बार प्रवेश लिया है. यह तुम्हारे वश की बात नहीं. तुम जैसे हो वैसे ही अच्छे लगते हो ... "

" नहीं ....ऐसा नहीं है. कह लेने दो मुझे.. आज जो अनुभव हो रहा है वही तुमसे कहा .... "
Photobucket कवि परिचय:-

श्रीकान्त मिश्र 'कान्त' का जन्म 10 अक्तूबर 1959 को हुआ। 

आप आपात स्थिति के दिनों में लोकनायक जयप्रकाश के आह्वान पर छात्र आंदोलन में सक्रिय रहे। आपकी रचनाओं का विभिन्न समाचार पत्रों, कादम्बिनी तथा साप्ताहिक पांचजन्य में प्रकाशन होता रहा है। वायुसेना की विभागीय पत्रिकाओं में लेख निबन्ध के प्रकाशन के साथ कई बार आपने सम्पादकीय दायित्व का भी निर्वहन किया है। 

वर्तमान में आप वायुसेना मे सूचना प्रोद्यौगिकी अनुभाग में वारण्ट अफसर के पद पर कार्यरत हैं तथा चंडीगढ में अवस्थित हैं।




" हूँम्मऽ…. आज सोचती हूँ कि साइबर संपर्कों में गाम्भीर्य का नितांत अभाव और शाब्दिक नग्नता से आहत जब मैंने यह तय किया था कि तुम्हारे जैसे गंभीर रचनाकार की नेट पर वास्तविकता को परख कर ही रहूंगी तो यह कभी नहीं सोचा था कि तुम नेट पर भी संन्यासी जैसी बातें ही करोगे. राष्ट्रप्रेम, दर्शन .. अध्यात्म और यही सब दुरूह बातें.साईबर वर्ल्ड में तुम्हें दूसरों से भिन्न पाकर आरम्भ में आश्चर्यचकित थी.... अन्यथा मैंने बड़े बड़ों को दो या तीन बार आनलाइन होते ही उनकी औकात पर आते हुए देखा था. सोचती थी कि तुम भी देर सवेर वैसे ही निकालोगे किंतु ऐसा न हुआ "

"छोडो वह सब ... हमें पता है कि हमारे जीवन अपने अपने मार्ग पर सहज ढंग से चल रहे हैं. आगे भी इसी प्रकार चलते रहेंगे. कदाचित यह समय समय पर पारस्परिक भावनात्मक निर्भरता हमें बांधे हुए है.इसकी अनुभूति संसार की सभी परिभाषाओं से परे होकर भी अप्रतिम है. क्या है यह ...? "

" मैं नहीं जानती … इस बात का उत्तर भी बहुधा तुमने स्वयं ही दिया है. तुम्हारे शब्द ही दोहरा रही हूँ .... यह जीवन की एकाकी नीरसता को भंग करते हुए वय के उत्तरार्ध की, हमारे मन की नैसर्गिक खोजी प्रवृत्ति ही है.... यह शारीरिक आकर्षण न होकर ... विशुध्द बौद्धिक और भावनात्मक आवश्यकता है जो जीवन के नीरस ठहराव, स्थायित्व और उससे उपजी जड़ता को चैतन्य प्रदान करने लगती है ... उससे लड़ने के लिए वय के ढलाव के प्रतिकूल उसमें ऊर्जा भरती है..... तुमने ही तो इसे परिभाषित किया है कई बार.. फिर ...? "

" कहो तुम्हारे मुंह से सुनना अच्छा लगता है... "

" तुमने आज तक विवाह क्यों नहीं किया ...?"

" बस ... यूँ ही. जब विवाह की अभिलाषा हुयी लगा भावनात्मक जीवन में...मैं तुम्हारी कक्षा में प्रवेश ले चुका था. और वह शिक्षा अब तक पूरी नहीं हुयी"

“ठीक है ठीक है .... अभी स्टूडेंट्स को देखना है.. बर्षों बाद ही सही फ़िर कभी आनलाइन आना होगा ..? ”

" शायद नहीं, बहुत लम्बा अन्तराल हो चुका है. मन्दिर के पार्श्व की सीढियां मुक्तिद्वार से होकर नदी के किनारे बढ़ती हुयी मुख्यधारा से मोक्ष मार्ग तक तो ले जाती हैं परन्तु विज्ञान और बिजली जैसी कोई सुविधा ... यहाँ नहीं है "

" ओह गाडऽ .... ! तो तुम किसी स्थान पर मन्दिर के किनारे.... क्या संसार में कोई विश्वास कर सकेगा कि अपने समय का ख्यातिनाम ब्लागर और रचनाकार... कंप्यूटर और अंतरजाल से परे किसी अनाम आश्रम का वासी होकर... !!! "

" नहीं नहीं .. ऐसी कोई बात नहीं है बस प्रकृति की गोद में... जगत्जननी पृथ्वी और स्रष्टि के आलोक में... इसके सान्निध्य में स्वयं को ढूंढ रहा हूँ .... तुम ई - मेल कर सकती हो ... मैं साप्ताहिक रूप से किसी श्रद्धालु के लैपटाप पर..... "

" क्या लैपटॉप बाबा बनने का विचार है "

" नहीं नहीं .. वह बेचारा तो राष्ट्रवाद के उन्मुक्त भावना प्रवाह में बहकर सही होकर भी अनुचित दिशा में बह गया. मेरा विचार ऐसा नहीं है. सही विचार को सही मार्ग और दिशा पर चलकर ही वांछित फल प्राप्त करना श्रेयस्कर है अस्तु .... "

" ... तुम नहीं सुधरोगे "

" चलती हूँ. इस संवाद को ब्लाग की अपेक्षा हो सकती है. डाल दूँ ?"

" तुम्हारे लौकिक जीवन में मेरा कोई हस्तक्षेप नहीं रहा जो भी करोगी अच्छा लगेगा "

" ठीक है चलती हूँ अभी... अपना ध्यान रखना और यदि सम्भव हो तो काल करते रहना. वैसे मैं भी फोन करती रहूंगी. ... अब लगता है... तुम मेरे जीवन की कक्षा के चिरंतन विद्यार्थी हो ... तुमसे दूसरी भेंट सीधे मुक्तिद्वार की सीढ़ियों पर शीघ्र ही होगी.. "

“अर्थात ...…!!!"

“यह बताने के लिए कि मैंने तुमसे मात्र एक ही झूठ बोला था कि मैं विवाहित हूँ …"

" ओह गाडऽ .... ! तुम भी …   हरिओमऽऽ.... "

24 comments:

  1. जीवन की एकाकी नीरसता को भंग करते हुए वय के उत्तरार्ध की, हमारे मन की नैसर्गिक खोजी प्रवृत्ति ही है.... यह शारीरिक आकर्षण न होकर ... विशुध्द बौद्धिक और भावनात्मक आवश्यकता है जो जीवन के नीरस ठहराव, स्थायित्व और उससे उपजी जड़ता को चैतन्य प्रदान करने लगती है ... उससे लड़ने के लिए वय के ढलाव के प्रतिकूल उसमें ऊर्जा भरती है..

    Sundar baat...
    Achchi kahani..

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छा मनोमंथन है। एक मनोयोग से लिखी गयी मनोवैज्ञानिक कहानी।

    उत्तर देंहटाएं
  3. कहानी में विचार विचार और विचार हैं। संवाद बहुत जटिल हैं और क्लिष्ट भी। कहानी का अंत ठीक है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. अच्छे भाव और प्रेम के उच्च रूप को दर्शाती अच्छी कहानी लिखी है आपने ...निरंतर एक खोज जारी रहती है और सब उसको अपने तरीके से तलाश कर की कोशिश में लगे रहते हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुन्दर मुक्त भाव से बहती हुई रचना...

    ये किसी ने यूंहीं नहीं कहा

    मुहब्बत के लिये कुछ खास दिल मखसूस होते हैं
    ये वो नगमा है जो हर साज पर गाया नहीं जाता

    दिल को दिल से राह होती है.. बस टटोलनी पडती है

    उत्तर देंहटाएं
  6. अच्छी कथा है। विचारों का प्रवाह बहुत सुन्दर उभरा है। कहीं कुछ बहुत करीब सा लगा।

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपकी कहानी में बहुत कुछ एसा है जो इसे कविता बनाता है। कहानी अपने फॉर्म में परिपूर्ण है व पठनीय है। हर किसी को स्वयं से जुडी महसूस होगी।

    उत्तर देंहटाएं
  8. तुमसे दूसरी भेंट सीधे मुक्तिद्वार की सीढ़ियों पर शीघ्र ही होगी.. "

    “अर्थात ...…!!!"
    “यह बताने के लिए कि मैंने तुमसे मात्र एक ही झूठ बोला था कि मैं विवाहित हूँ …"

    " ओह गाडऽ .... ! तुम भी … हरिओमऽऽ.... "

    इन पंक्तियों में कहानी के नायक के प्रति अफ़सोस झलकता है!
    और कहानी बहुत ही सुंदर तथा मनमोहनी है ! मेरी बधाई स्वीकार करे !

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह! अति सुंदर कहानी बहुत ही रोचक तथा रहस्यमई है,
    पढ़ कर अंत को जानने के लिए उत्सुकता जागृत होती है, परन्तु अंत काफी संवेदनशील है!
    आगे की रचनाओ की प्रतीक्षा रहेगी!

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह! अति सुंदर कहानी बहुत ही रोचक तथा रहस्यमई है,
    पढ़ कर अंत को जानने के लिए उत्सुकता जागृत होती है, परन्तु अंत काफी संवेदनशील है!
    आगे की रचनाओ की प्रतीक्षा रहेगी!

    उत्तर देंहटाएं
  11. श्रीकांत जी
    आप के शब्दों का चयन अति उत्तम है तथा कहानी बहुत रोमांचक व आकस्मिक है !
    ऐसे ही लिखते रहिये !

    उत्तर देंहटाएं
  12. सर,
    आपकी कहानी काफी अच्छी है, पढ़ कर आनंद आ गया !
    आगे भी ऐसे ही लिखते रहिये.
    ज्योति

    उत्तर देंहटाएं
  13. चलिये आपको पान्चजन्यी रचनाकार मिल ही गये।
    आपकी खोज वहीं पहुँची जिसकी आशंका थी।

    विदा

    उत्तर देंहटाएं
  14. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  15. श्रीकांत जी नमस्कार,


    आपकी कहानी बहुत ही बढिया लगी लेकिन संवादों में कहीं-कहीं शुद्ध हिन्दी के शब्दों के बजाय अगर आम बोलचाल की भाषा के शब्द होते तो कहानी और ज़्यादा असरदार और प्रभावी बनती।
    वैसे ये मेरा निजी विचार है.....

    उत्तर देंहटाएं
  16. अति सुंदर और रोचक कहानी है। विचारों का प्रवाह देखते ही बनता है।

    उत्तर देंहटाएं
  17. भावना और बुद्धि का नैसर्गिक संगम ।
    उत्कृष्ट प्रस्तुति।

    अत्यंत रोमांचपूर्ण परिणति।
    श्रीकांत जी ! आपकी विशुद्ध शैली अपना परिचय स्वयं दे जाती है।

    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  18. काल्पनिक प्यार जो आज कहाँ मिलता है
    जिसे मिले दुनिया में खुशनसीब है
    बहुत कम होता है जब कोई कहानी एक ही साँस में ख्तम की जाए
    और दोबारा पढ़ी जाए
    मैने इसे बार बार उपर जाकर कोई लाइन को तो तीन तीन बार पढ़ा

    उत्तर देंहटाएं
  19. मैं तो जैसे खो कर रह गयी...
    मन कह रहा है बार-बार पढूँ...

    एक अलग सी अनुभूति हो रही है....
    मानसिक भोजन पाने की संतुष्टि सी....
    क्या कहूँ ....समझ नहीं पा रही......

    आभार....

    बधाई आपको....श्रीकांत जी,

    उत्तर देंहटाएं
  20. shrikaant ji
    namaskaar

    kahani me nayapan hai aur hamaare aaj ki duniya ki jhalak bhi

    aap ko badhai

    उत्तर देंहटाएं
  21. पांच्जन्य में छपना कोई अपराध है क्या? अजीब बात है? कौन हैं ये पाण्डे महाराज? नाम वाम तो सुना नहीं कभी, लेकिन टिप्पणी इनकी तल्ख होती है? बडे ज्ञानी प्रतीत होते हैं। माफ कीजियेगा श्रीकांत जी अच्छी कहानी है और कहानी से हट कर गाली-गलौच करने वाले लोग दरासल कुण्ठाग्रस्त होते हैं। इनकी कुण्ठा से आपके लेखन का महत्व घटता नहीं।

    उत्तर देंहटाएं
  22. " हूँम्मऽ…. आज सोचती हूँ कि साइबर संपर्कों में गाम्भीर्य का नितांत अभाव और शाब्दिक नग्नता....वास्तविकता को परख कर ही रहूंगी ......साईबर वर्ल्ड में तुम्हें दूसरों से भिन्न पाकर आरम्भ में आश्चर्यचकित थी.... अन्यथा मैंने बड़े बड़ों को दो या तीन बार आनलाइन होते ही उनकी औकात पर आते हुए देखा था. .... किंतु ऐसा न हुआ "

    एक अच्छी कहानी ...... और आज के समय का चरित्र चित्रण
    ...................शायद नेट के विषय और उससे जुड़े लोगों पर पहली कहानी हो.

    शिविंदर गोयल

    उत्तर देंहटाएं
  23. सुधी मित्रो!

    टिप्पणियों के माध्यम से मुक्तिद्वार की सीढियां .... कहानी पर आप सब की प्रतिक्रिया के लिए आभारी हूँ. अब बिन्दुवार बात करते हैं

    मित्र अनिल जी और बन्धुवर राजीव तनेजा जी का मेरी शैली में क्लिष्टता की और ध्यानाकर्षण करने के लिए आभार. इस सन्दर्भ में मेरा यही निवेदन है कि कहानी में प्रयुक्त शब्द और शैली भी हमारी हिन्दी का ही एक स्वरुप है. दुर्भाग्य से विगत में इन शब्दों और शैली को संस्कृतनिष्ठ बताने के नाम पर संभवतः इन शब्दों का भी साम्प्रदायीकरण हो गया है. इन शब्दों का निरंतर उपेक्षित होना प्रचलन से दूर होते जाना भी भाषा की क्लिष्टता का कारण है. सहजता और सरलता के नाम पर हम अपनी एक बहुमूल्य भाषा संस्कृत को पहले ही विल्पुतप्राय कर चुके हैं. हमें स्मरण रखना होगा कि किसी भी भाषा का जीवन, उसकी श्वासें, उसका सर्वनुरूप प्रयोग ही है. मैं आप सबके सुझावों को अपने लिए आपका स्नेह मानते हुए उनका आदर करता हूँ. साथ ही यह निवेदन करना चाहता हूँ कि यदि मैं भी इन शब्दों को छोड़कर और सरलता अपनाता हूँ तो निजी तौर पर मेरे पाठक वर्ग में अवश्य ही संख्या वृद्धि होगी. फ़िर भी निजी लाभ और भाषा के स्वरुप को जीवित रखने के इस लघु प्रयास में मैं सदैव भाषा के हित को ऊपर रखता आया हूँ. इस शैली का निरंतर प्रयोग ही इसे क्लिष्ट से सहज बना सकेगा. एनी टिप्पणियों पर शेष मित्रों से संवाद यहीं पर बाद में करूँगा ....

    उत्तर देंहटाएं
  24. श्रीकांत जी नमस्कार !आपकी कहानी के माध्यम से आपका परिचय भी प्राप्त हुआ !आपकी कहानी बहुत पसंद आई !भविष्य में भी आपकी कहानियाँ पढने की उम्मीद रखती हूँ !मेरी शुभकामनायें आपके साथ हैं !धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget