ख्वाब देखा था जो मैने वो मुकम्मल होगा,
मुझ को उम्मीद है आबाद मेरा कल होगा!

धीरे धीरे ही सही नूर की आमद होगी,
दिल की आंखोँ से धुआं एक दिन ओझल होगा!

आ! इबादत में मुहब्बत को भी शामिल कर लें,
हम से मिलने को खुद अल्लाह भी बेकल होगा!

रन्ज की आग में जलता है तो जलने दो बदन,
कल मसर्रत से भिगोता हुआ बादल होगा!

इस से पहले कि ख़िज़ा खाक में दफ़्ना दे उसे,
गुल को, माला में पिरो लें तो मुकम्मल होगा!

नींद लौटा दे ये मखमल का बिछौना ले ले,
आँख लग जाएगी तो संग भी मखमल होगा!

दिल के बहलाने को इक़रार ए मुहब्बत कर ले,
दिल तो नाज़ुक है खरी बात से घायल होगा!

चैन की नींद जो आये तो गुमाँ होता है :धीर:,
हो न हो सर पे तेरे ख्वाब का आँचल होगा!


कवि परिचय:-



धीरज आमेटा का तखल्लुस 'धीर' है। 

आप राजस्थान के उदयपुर शहर के रहने वाले हैं। वर्तमान में आप गुड़गाँव (हरियाणा) में एक हार्डवेयर कम्पनी में इन्जिनियर हैं। 

आप अंतर्जाल पर सक्रिय हैं तथा ई-पत्रिकाओं में प्रकाशित होते रहते हैं।

18 comments:

  1. आपका उर्दू की नज़ाकत पर भी अच्छा दख़ल है। गुणी जन की फार्म कर अपने विचार रख सकेंगे। मुकम्मल शब्द की एक गज़ल में दो बार आवृत्ति से यदि बचा जाता तो अच्छा था। उम्दा गज़ल।

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस से पहले कि ख़िज़ा खाक में दफ़्ना दे उसे,
    गुल को, माला में पिरो लें तो मुकम्मल होगा!

    Nice.

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  3. लिखते रहें धीरज जी। यह अच्छा रहता कि कुछ उर्दू शब्दों का अर्थ भी साथ में दिया जाता।

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह ! वाह ! वाह !
    लाजवाब.........इतनी सी उम्र में इतनी परिपक्व ग़ज़ल लिखी है आपने कि आपके लिए माँ वीणापाणी से यही दुआ है ,वो आपके जोर कलम को और बुलंद करें.....
    आशा से भरी सुंदर शब्द शिल्प युक्त अतिसुन्दर रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  5. धीरे धीरे ही सही नूर की आमद होगी,
    दिल की आंखोँ से धुआं एक दिन ओझल होगा!

    इस से पहले कि ख़िज़ा खाक में दफ़्ना दे उसे,
    गुल को, माला में पिरो लें तो मुकम्मल होगा!

    नींद लौटा दे ये मखमल का बिछौना ले ले,
    आँख लग जाएगी तो संग भी मखमल होगा

    आप अपार संभावनाओं से भरे शायर हैं। बहुत अच्छी और परिपक्व ग़ज़ल है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस से पहले कि ख़िज़ा खाक में दफ़्ना दे उसे,
    गुल को, माला में पिरो लें तो मुकम्मल होगा!
    wah! wah!
    inke baare me kya kaheN masha allah bahut ache shayar hain.

    उत्तर देंहटाएं
  7. दिल के बहलाने को इक़रार ए मुहब्बत कर ले,
    दिल तो नाज़ुक है खरी बात से घायल होगा!
    "
    "बात सच मे खरी है.....खुबसुरत ग़ज़ल"

    Regards

    उत्तर देंहटाएं
  8. नींद लौटा दे ये मखमल का बिछौना ले ले,
    आँख लग जाएगी तो संग भी मखमल होगा!

    बहुत खूब।

    उत्तर देंहटाएं
  9. इस से पहले कि ख़िज़ा खाक में दफ़्ना दे उसे,
    गुल को, माला में पिरो लें तो मुकम्मल होगा!



    नींद लौटा दे ये मखमल का बिछौना ले ले,
    आँख लग जाएगी तो संग भी मखमल होगा

    सुंदर ग़ज़ल....

    उत्तर देंहटाएं
  10. भाई कमाल है .... "धीर" जी को सलाम.. बहुत उम्दा शेर. बहुत अच्छी ग़ज़ल.

    उत्तर देंहटाएं
  11. पहले तो धीरज जी को इतनी उम्दा गज़ल लिखने के लिए बधाई और बाद में निवेदन कि वो उर्दू के कठिन कठिन शब्दों के अर्थ भी साथ में दें तो ज़्यादा बेहतर होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  12. ख़ूबसूरत कलाम है। अंदाज़े-बयां और अल्फ़ाज़ का चुनाव भी ख़ूबसूरत है।
    सारे ही अशा'र दिलकश हैं। दाद क़ुबूल करें।

    उत्तर देंहटाएं
  13. तमाम मित्रों और महानुभावों को धीर का नमस्कार!
    मेरी दो कौड़ी की काविश पर आपने अपने स्नेह की बौछार कर के जो बड़प्पन दिखाया है उस्के लिये मैं आप सभी का हार्दिक आभार व्यक्त करता हुँ! साथ ही "साहित्य-शिल्पी" को भी धन्यवाद देता हुँ , जिन्होने मुझे इस मंच पे आमन्त्रित किया!
    अगली बार काविश के साथ उर्दु के मुश्किल अल्फ़ाज़ के अर्थ भी लिख दुंगा!
    आभार!
    धीर

    उत्तर देंहटाएं
  14. धीर जी ! बहुत अच्छे अशा'र,बहुत उम्दा ग़ज़ल ।
    भई वाह !

    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  15. dheeraj bhai ,

    daad kabul karen...

    दिल के बहलाने को इक़रार ए मुहब्बत कर ले,
    दिल तो नाज़ुक है खरी बात से घायल होगा!

    oyeeeeeeeeeeee. kya baat hai ji

    wah ji wah

    badhai

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget