चारो और लाशो का ढेर था। जिन लाशों को उनके अपनों ने पहचान लिया था, गोद में ले विलाप कर रहे थे।  लाशें जो बेसहारा थीं, अनजान हाथ उनको शव गृह तक पहुँचा रहे थे। कुछ अंदर कुछ बाहर लाशों का ढेर लगा था। इनके बीच खड़ा मै, ख़ुद को भी जिन्दा लाश समझने लगा था। इस तरह होनी है जो मौत तो जीना किस काम का? अधिकारी आ के निर्देश देते जा रहे थे। हम इनका पालन बस एक कठपुतली की तरह करते जा रहे थे। शवों के रख-रखाव का काम मेरा था, पर किस तरह करूँ समझ नही पा रहा था। घटना के २ दिन गुजरने के बाद भी बहुत सी लाशों को कोई भी पूछने वाला नही था। शव गृह अभी भी भरा हुआ था। साहब ने तभी मुझको बुलाया। कहा "मुन्ना, सुनो इन लाशों को रखने में बहुत खर्च आ रहा है।  ऊपर से आदेश है कि इनको पास वाली जो नदी है, उस में बहा दो "

"पर साहब ऐसे कैसे ."

"अरे मुझसे क्यों कह रहे हो? मुझे तो ऊपर से आदेश है। पालन तो करना ही है ना! तुम कोई गाड़ी ले आओ और इनको ठिकाने लगाओ "

"ठीक है साहब"

साहित्य शिल्पीरचनाकार परिचय:-


रचना श्रीवास्तव का जन्म लखनऊ (यू.पी.) में हुआ। आपनें डैलास तथा भारत में बहुत सी कवि गोष्ठियों में भाग लिया है। आपने रेडियो फन एशिया, रेडियो सलाम नमस्ते (डैलस), रेडियो मनोरंजन (फ्लोरिडा), रेडियो संगीत (हियूस्टन) में कविता पाठ प्रस्तुत किये हैं। आपकी रचनायें सभी प्रमुख वेब-पत्रिकाओं में प्रकाशित हैं।

बड़ी मुश्किल से एक बंद गाड़ी मिली।  सभी लाशों को उस पर लाद के मै जाने को था कि  एक आदमी मेरे पास आ कर बोला "सुनो मेरा नाम सुधीर है। लाशों को बहाने जा रहे हो न! मै कई दिनों से इस अस्पताल के चक्कर लगा रहा था। जानता था कि एक दिन तुम यही करने वाले हो। इन को फेंकने से अच्छा है कि इन को मेडिकल कॉलेज में बेच दो। मै अच्छे पैसे दिलवा दूँगा। तुम बस मेरा कमीशन दे देना। देखो मै जानता हूँ कि तुम को पैसे की ज़रूरत है।  तुम्हारा काम भी हो जायेगा, कुछ मुझको भी मिल जायेगा और इन लाशों को सही ठिकाना मिल जाएगा.... अरे!सोच क्या रहे हो? पुण्य का काम है। मेडिकल कॉलेज में पढने वाले इन से कुछ सीखेंगे, फ़िर डाक्टर बन के निकलेंगे, लोगों की सेवा करेंगें। तुम को भी इस पुण्य का फल मिलेगा।"

'हटो मुझे जाने दो। ये डाक्टर सेवा करेंगे .........जरूर करेंगे पर केवल अमीरों की। हम गरीबों को कभी कोई नही पूछता। पिछले महीने ही मेरे बेटे ने तड़प तड़प के दम तोडा है ........किसी डाक्टर ने हाथ तक नहीं लगाया। कहने लगे पहले पैसे लेके आओ या सरकारी अस्पताल में ले जाओ ........ मै गिडगिडाता रहा ......साहब देख लो। वो अस्पताल बहुत दूर है .......पर मेरी चीख उनके लालच को पार नही कर पाई। मेरी आँखों के सामने वो मासूम मेरी ही बाँहों में दुनिया को अलविदा कह चला। मै कुछ और तो कर नहीं सकता पर........मैं अपने आँसू पोंछता हुआ गाड़ी में बैठ गया और गाड़ी नदी की और मोड़ दी। 

14 comments:

  1. डाक्टर संवेदनशून्य होते जा रहे हैं, एसे में यह विद्रोह मन के दर्द की स्वाभावित परिणति है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. मै कुछ और तो कर नहीं सकता पर........मैं अपने आँसू पोंछता हुआ गाड़ी में बैठ गया और गाड़ी नदी की और मोड़ दी।
    " यही कुछ ....पलकों को भिगो गया....."

    Regards

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत अच्छे। विवश आम आदमी यही कर सकता है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर व सार्थक लघुकथा है। आपने बहुत अच्छी तरह प्रस्तुत भी किया है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. kya kahani hai ek aam admi ki bebasi uska akrosh sabhi kuchh
    achchha likha hai
    mita

    उत्तर देंहटाएं
  6. कहानी सुन्दर है ,संवेदनशील है ,सोचने पर मजबूर करती है
    रचना जी बधाई
    महेश

    उत्तर देंहटाएं
  7. aap sabhi ki abhari hon ki aap ne kahani ko padha aur pasand kiya .
    aap logon ka sneh aur sahyog yun hi bana rahega asi asha hai
    dhanyavad

    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  8. आम आदमी से सरोकार रखती एक भावपूर्ण रचना.. अच्छी लगी..

    उत्तर देंहटाएं
  9. अति सुन्दर और मर्म स्पर्शी कथा लिखी है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. समाज का सच बयां करती एक प्रशंसनीय लघुकथा के लिए बधाई स्वीकारें।

    -विश्व दीपक

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत अच्छी,
    मर्म स्पर्शी लघुकथा ....



    रचना जी ,
    बधाई।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget