मेरी ज़िन्दगी के दश्त,
बड़े वीराने है
दर्द की तन्हाईयाँ ,
उगती है
मेरी शाखों पर नर्म लबों की जगह.......!!
तेरे ख्यालों के साये
उल्टे लटके ,
मुझे क़त्ल करतें है ;
हर सुबह और हर शाम .......!!

किसी दरवेश का श्राप हूँ मैं !!

अक्सर शफ़क शाम के
सन्नाटों में यादों के दिये ;
जला लेती हूँ मैं ...

लम्हा लम्हा साँस लेती हूँ मैं
किसी अपने के तस्सवुर में जीती हूँ मैं ..

सदियां गुजर गयी है ...
मेरे ख्वाब ,मेरे ख्याल न बन सके...
जिस्म के अहसास ,बुत बन कर रह गये.
रूह की आवाज न बन सके...

मैं मरीजे- उल्फत बन गई हूँ
वीरानों की खामोशियों में ;
किसी साये की आहट का इन्तजार है ...

एक आखरी आस उठी है ;
मन में दफअतन आज....
कोई भटका हुआ मुसाफिर ही आ जाये....
मेरी दरख्तों को थाम ले....

अल्लाह का रहम हो
तो मैं भी किसी की नज़र बनूँ
अल्लाह का रहम हो
तो मैं भी किसी की " हीर " बनूँ...

विजय कुमार सपत्ति:

साहित्य शिल्पी रचनाकार परिचय:-


विजय कुमार सपत्ति के लिये कविता उनका प्रेम है। विजय अंतर्जाल पर सक्रिय हैं तथा हिन्दी को नेट पर स्थापित करने के अभियान में सक्रिय हैं। 

आप वर्तमान में हैदराबाद में अवस्थित हैं व एक कंपनी में वरिष्ठ महाप्रबंधक के पद पर कार्य कर रहे हैं।

16 comments:

  1. हीर बनो अच्‍छा है

    पर कविता से अपनी

    सबकी पीर हरो

    सब हरा हरा
    लगता है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छी कविता है। सुन्दर भाव है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुंदर शब्दों से रची खूबसूरत रचना...

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  4. अल्लाह का कर होगा विजय जी, अच्छी कविता है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. Vijay jee,
    achchhe kavita ke liye
    aapko badhaaee

    उत्तर देंहटाएं
  6. जिन्दगी की विरानगी में यादों और एहसास के बहुत खूबी से जिया है आपने अपनी इस रचना में

    उत्तर देंहटाएं
  7. अल्लाह का रहम हो
    तो मैं भी किसी की नज़र बनूँ
    अल्लाह का रहम हो
    तो मैं भी किसी की " हीर " बनूँ...
    तथास्तु। ऐसा ही हो। ः)

    उत्तर देंहटाएं
  8. विजय जी आप भी कितने सुन्दर भाव लाते है‍। जी खुश हो जाता है ।
    अल्लाह का रहम हो
    तो मैं भी किसी की नज़र बनूँ
    अल्लाह का रहम हो
    तो मैं भी किसी की " हीर " बनूँ...

    मीठा सा।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत अच्छा लिखा है आपने, बधाई स्वीकार करें.

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहौत अच्छी कविता है, विजय जी बहुत लिखते हैं उन्हें पहले भी पढ़्ता रहा हूँ...

    ---
    ---
    गुलाबी कोंपलें

    उत्तर देंहटाएं
  11. Waah !!! सुंदर भाव,सुंदर रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  12. भाई विजय

    आपकी नज़म बहुत अच्छी लगी।

    मेरी शाखों पर नर्म लबों की जगह.......!!
    तेरे ख्यालों के साये
    उल्टे लटके ,
    मुझे क़त्ल करतें है ;
    हर सुबह और हर शाम .......!!

    मगर एक छोटा सा सवाल, सच बताइये कि कितने हिन्दी भाषियों को ये तीन शब्द समझ आए होंगे - दश्त, शफ़क, दफअतन।

    तेजेन्द्र शर्मा
    लन्दन

    उत्तर देंहटाएं
  13. सुंदर रचना....
    सुंदर भाव.....


    बधाई स्वीकार करें....

    उत्तर देंहटाएं
  14. अच्छी कविता है लेकिन उर्दू का प्रयोग अनावशक है

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget