साहित्य शिल्पीकवि परिचय:-


उदयेश रवि का जन्म झारखंड में हुआ। आप प्राणी विज्ञान में स्नातक हैं। वर्तमान में आप एक प्रतिष्ठित आई. टी पत्रिका में कार्यकारी संपादक के तौर पर कार्य कर रहे हैं, साथ ही स्वतंत्र पत्रकारिता भी कर रहे हैं।
समझ ही ना पाया हूँ, दिल क्यों टूटा
जो बेहद था अपना वो, यार क्यों रूठा
भुलाने की तुमको, कीमत क्या लोगे
यादों को मेरी ये, ताकत कब दोगे
झूठे थे वादे, मोहब्बत था झूठा
समझ ही ना पाया....

अकेले में भी मुझको, तुम क्यों सताते
मैं लाचार होता, तेरे आते-आते
खुशियों का तार कैसे हाथों से छूटा
समझ ही ना पाया....

न कोशिश कभी की समझने की इसको
लड़ाई में मन से हार गया दिल तो
पत्थर का अक्स क्यों शीशे से फूटा
समझ ही ना पाया....

ख्वाबों खयालों से तंग आ गया हूँ
ग़म और मौत के संग आ गया हूँ
किस्मत ने यूँ क्यों सरेआम लूटा
समझ ही ना पाया हूं, दिल क्यों टूटा
जो बेहद था अपना वो, यार क्यों रूठा।

12 comments:

  1. Bahut achha geet
    bahut sare sawal liye

    shayad har toote man ke sawal..........

    उत्तर देंहटाएं
  2. ख्वाबों खयालों से तंग आ गया हूँ
    ग़म और मौत के संग आ गया हूँ
    किस्मत ने यूँ क्यों सरेआम लूटा
    समझ ही ना पाया हूं, दिल क्यों टूटा
    जो बेहद था अपना वो, यार क्यों रूठा।

    अच्छी पंक्तियाँ हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  3. prem ki shaandar abhivyakti hai aapki ye kavita , dil se badhai ho

    vijay
    http://poemsofvijay.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  4. गीत लाजवाब है कोई गाये तो बात बन जाये।

    उत्तर देंहटाएं
  5. लड़ाई में मन से हार गया दिल तो
    पत्थर का अक्स क्यों शीशे से फूटा
    समझ ही ना पाया....
    कुछ पंक्तियाँ अच्छी हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  6. कमजोर रचना है. साहित्य शिल्प के स्तर के अनुरूप नहीं है... संपादित कर दी जानी चाहिये थी...
    खास कर देखिये इस लिंगभेद पर क्या पाठक अटकेगा नहीं...

    यादों को मेरी ये, ताकत कब दोगे
    झूठे थे वादे, मोहब्बत था झूठा

    "मोहब्बत था झूठा"

    (मोहब्बत हो गई तो सुना है मोहब्बत हो गया कभी नही सुना..?)

    माफ कीजिये.. उदयेश जी अभी बहुत मंझने की जरूरत लगती है.. मुझे तो.. खेद सहित...

    उत्तर देंहटाएं
  7. Yogesh Jee
    Aap jaise Vidwan logon ki jaroorat hardam mehsoos hoti hai. Achchhi galti pakdi hai meri aapne. Main chahunga kee aap mere blog per bhi visit karein aur apni raay dein.
    Mujhe achchha lagega.

    Mera Namaskar sweekarein.

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget