माना, इसकी निढाल चाल नहीं
ठीक लेकिन जहाँ का हाल नहीं

रचनाकार परिचय:-


प्राण शर्मा वरिष्ठ लेखक और प्रसिद्ध शायर हैं और इन दिनों ब्रिटेन में अवस्थित हैं।
आप ग़ज़ल के जाने मानें उस्तादों में गिने जाते हैं। आप के "गज़ल कहता हूँ' और 'सुराही' - दो काव्य संग्रह प्रकाशित हैं, साथ ही साथ अंतर्जाल पर भी आप सक्रिय हैं।


कौन है दोस्त, है सवाल मेरा
कौन दुश्मन है, ये सवाल नहीं

काश , हमदर्द भी कोई होता
दोस्तों का यहाँ अकाल नहीं

यूँ तो खाते हैं सब नमक यारो
हर कोई पर नमक हलाल नहीं

उससे उम्मीद कोई क्या रक्खे
जिसको अपना कोई ख़याल नहीं

कुछ न कुछ तो कमाल है सब में
माना, हर शख्स पर जमाल नहीं

"प्राण" छलकेगा ये भला क्योंकर
दूध में एक भी उबाल नहीं

21 comments:

  1. "काश , हमदर्द भी कोई होता
    दोस्तों का यहाँ अकाल नहीं

    यूँ तो खाते हैं सब नमक यारो
    हर कोई पर नमक हलाल नहीं"
    खूबसूरत और गहरी ग़ज़ल .. एक बार फिर .. प्राण साहब ने दिखाया कि उन्हें उस्ताद क्यूँ कहते हैं .. :-)
    छोटे बेहर पे गहरी बात कहना थोडा मुश्किल होता है

    उत्तर देंहटाएं
  2. किस शेर को कम कहूँ ,किसे ज्यादा........एक एक शेर पढ़ते गए और मुंह से वाह !! निकलता गया....
    बेहतरीन ग़ज़ल....बहुत ही खूबसूरत...

    उत्तर देंहटाएं
  3. काश , हमदर्द भी कोई होता
    दोस्तों का यहाँ अकाल नहीं

    यूँ तो खाते हैं सब नमक यारो
    हर कोई पर नमक हलाल नहीं
    waah bahut nayab baat kahi.lajawab gazal

    उत्तर देंहटाएं
  4. आदरणीय अग्रज !
    प्रणाम

    किस पन्क्ति का उल्लेख करुं और किसका नहीं. सभी का वजन इस नासमझ के लिये बहुत है. गज़ल बहुत अच्छी लगी इतना कहने भर से मन का आभार प्रकट होता नहीं लगता . हां एक शब्द अन्तिम पंक्ति में बार बार मेरे जेहन में अपने आप चला आ रहा है

    "प्राण" छलकेगा ये भला क्योंकर
    दूध में एक भी (अब) उबाल नहीं

    कृपया बताने की कृपा करें कि क्या (अब) का प्रयोग गज़ल में हो सकता है मुझे प्रतीत होता है कि अब का प्रयोग मात्तृभूमि के दूध के सन्दर्भ और युवाओं में आज की परिस्थिति में उबाल के निरुपण से एक व्यापक और विस्तृत अर्थ प्रकट करता प्रतीत होता है

    अस्तु ... अनुज से यदि धृ‍‍ष्टता हो तो क्षमा करें.

    आदर

    उत्तर देंहटाएं
  5. प्राण जी से पहला अनुरोध कि गज़ल की कक्षाओं में भी लौटिये। आपकी ग़ज़ल की प्रशंसा करने जितनी क्षमता तो नहीं, यही कहूंगी कि आपको पढना अच्छा लगता है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. काश , हमदर्द भी कोई होता
    दोस्तों का यहाँ अकाल नहीं

    बहुत अच्छी ग़ज़ल, बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  7. यूँ तो खाते हैं सब नमक यारो
    हर कोई पर नमक हलाल नहीं

    संजीदा गज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  8. Shri Kaant jee,
    kuchh shabd aese hain jinka
    upyog nahin bhee karo to
    vakya mein koee antar nahin padta
    hai.jaese --jabse vah gayaa hai,
    vaapas nahin aayaa hai.Is vakya
    mein "Tab se " undestood hai.Ab
    bhee aesaa hee shabd hai."Vah ghar
    nahin aayegaa se arth hee yahee hai
    ki vah ab ghar nahin aayegaa.

    उत्तर देंहटाएं
  9. "काश , हमदर्द भी कोई होता
    दोस्तों का यहाँ अकाल नहीं


    "प्राण" छलकेगा ये भला क्योंकर
    दूध में एक भी उबाल नहीं


    बहुत खूबसूरत ग़ज़ल....

    आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  10. ’कौन है दोस्त, है सवाल मेरा’

    प्राण जी बहुत खूब. गजल सम्राट हैं. लगता है कि गजल के लिए ’वातायन’ आपको स्वीकार्य नहीं.

    साहित्य शिल्पी और आपको - दोनों को ही बधाई.

    चन्देल

    उत्तर देंहटाएं
  11. ......सहज, सुन्दर और त्वरित उत्तर के लिये आभार

    सादर् शुभकामना

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुंदर गज़ल प्राण साब...ये शेर "काश , हमदर्द भी कोई होता/दोस्तों का यहाँ अकाल नहीं" क्या बात है और मक्‍ता तो बस जान लेवा है...
    शुक्रिया साहित्य-शिल्पी का

    उत्तर देंहटाएं
  13. आदरणीय प्राण शर्मा जी की गज़ल अपने उँचे प्रतिमानों के लिये जानी जाती है। आपकी पंक्तियों में कथ्य और शिल्प का अध्भुत सामंजस्य देखने को मिलता है।

    कौन है दोस्त, है सवाल मेरा
    कौन दुश्मन है, ये सवाल नहीं

    काश , हमदर्द भी कोई होता
    दोस्तों का यहाँ अकाल नहीं

    उससे उम्मीद कोई क्या रक्खे
    जिसको अपना कोई ख़याल नहीं

    उत्तर देंहटाएं
  14. उससे उम्मीद कोई क्या रक्खे
    जिसको अपना कोई ख़याल नहीं
    अच्छी ग़ज़ल है।

    उत्तर देंहटाएं
  15. आपको पढ़ना हमेशा पूर्णानंद मे डूब जाना है।
    कुछ कहने लिखने के लिये प्रेरणानुभूति
    है।
    आप कहते रहें, मैं सुनता रहूं। कह भी सका तो बड़भागी।

    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  16. हर शेर एक से बढ कर एक है..

    काश , हमदर्द भी कोई होता
    दोस्तों का यहाँ अकाल नहीं

    कौन है दोस्त, है सवाल मेरा
    कौन दुश्मन है, ये सवाल नहीं

    प्राण" छलकेगा ये भला क्योंकर
    दूध में एक भी उबाल नहीं

    उत्तर देंहटाएं
  17. सभी शेर अच्छे हैं।

    उससे उम्मीद कोई क्या रक्खे
    जिसको अपना कोई ख़याल नहीं

    उत्तर देंहटाएं
  18. कौन है दोस्त, है सवाल मेरा
    कौन दुश्मन है, ये सवाल नहीं

    wah Guru ji ye baat sach kahi

    काश , हमदर्द भी कोई होता
    दोस्तों का यहाँ अकाल नहीं

    hmm bahut ghara khyaal

    यूँ तो खाते हैं सब नमक यारो
    हर कोई पर नमक हलाल नहीं

    wah wah kamaal ki baat


    Aapki gazal tak der tak pahunchi kashma chahti hoon aajkal net par aana bahut kam ho gaya hai

    aapko padhna bhaut achha laga

    उत्तर देंहटाएं
  19. भले ही आप बेमिसाल नहीं।

    मगर है आपकी मिसाल नहीं॥

    प्राण की गजल सलिल ने पढ़ ली।

    बाकी न पढने का मलाल नहीं॥

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget