रचनाकार परिचय:-


दीपक गुप्ता का जन्म 15 मार्च 1972 को दिल्ली में हुआ। आप दिल्ली विश्वविद्यालय से कला में स्नातक हैं।
आपकी प्रकाशित कृति हैं:- सीपियों में बंद मोती (कविता संग्रह) – 1995
आप की रचनायें देश के सभी प्रमुख पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित व टेलीविजन कार्यक्रमों में प्रसारित होती रही हैं।
आपको प्राप्त प्रमुख सम्मान व पुरस्कार हैं: साहित्यिक कृति सम्मान – हिन्दी अकादमी, दिल्ली – 1995-96 (कविता संग्रह – सीपियों में बंद मोती हेतु)
राष्ट्रीय राजीव गाँधी युवा कवि अवार्ड – 1992 2वं 1994 सरस्वती रत्न सम्मान, अखिल भारतीय स्वतंत्र लेखक मंच – 2004 संस्कार भारती, हापुड द्वारा सम्मानित – 2006 आदि। आप अंतर्जाल पर भी सक्रिय हैं।

ऊपरवाला फल देगा
आज नहीं तो कल देगा

जिसने प्यासे होंठ दिए
वो ही इनको जल देगा

रातों का अंधियारा ही
एक सुनहरा कल देगा

जीवन की हर मुश्किल का
जीवन ही कुछ हल देगा

ग़ज़ले कहते कहते ही
'दीपक' जग से चल देगा

13 comments:

  1. रातों का अंधियारा ही
    एक सुनहरा कल देगा

    जीवन की हर मुश्किल का
    जीवन ही कुछ हल देगा

    वाह वाह..

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सकारात्‍मक और प्रेरणादायक विचारों से युक्‍त रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  3. जीवन की हर मुश्किल का
    जीवन ही कुछ हल देगा
    खूबसूरत भाव।

    उत्तर देंहटाएं
  4. DEEPAK BHAEE JI KO PADHANAA HAMESHA HI ACHHA LAGA HAI... ACHHI GAZAL KE LIYE FIR SE BADHAAEE...


    ARSH

    उत्तर देंहटाएं
  5. जीवन की हर मुश्किल का
    जीवन ही कुछ हल देगा

    bahut bahut sach

    Deepak ji ki gazal bahut pasand aati hai
    kam shabdon mein badi baaten

    उत्तर देंहटाएं
  6. .......

    जीवन की हर मुश्किल का
    जीवन ही कुछ हल देगा

    सुन्दर और प्रेरक पंक्तियां

    उत्तर देंहटाएं
  7. bahut achchhee ghazal hai saHeb! saadagee se pareepurna!

    meree hazaar_haa daad qabool keejiye!

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही प्रेरणात्मक अभिव्यक्ति.......आभार

    उत्तर देंहटाएं
  9. मान्यवर आपने बहुत ही अच्छी गजल कही है
    ग़ज़ले कहते कहते ही
    'दीपक' जग से चल देगा
    kya baat hai

    आपका वीनस केसरी

    उत्तर देंहटाएं
  10. WAAH DEEPAK JI WAAH ,

    ऊपरवाला फल देगा
    आज नहीं तो कल देगा

    KYA LIKHA HAI SIR , KYA KHOOB LIKHA HAI .. MAZA AA GAYA , PADHKAR HI RUHAANI AHSAAS HO GAYA . WAAH JI WAAH . MUJHE MERI POEM "MAULA " YAAD AA GAYI ..

    BAHUT HI PYAARI BAAT KAHI HAI AAPNE ..

    DIL SE BADHAI SWEEKAR KAREN ..

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget