रचनाकार परिचय:-


डॉ॰ कुँअर बेचैन का जन्म ग्राम उमरी, जिला मुरादाबाद, उत्तर प्रदेश में 01 जुलाई 1942 को हुआ। आपका मूल नाम कुँअर बहादुर सक्सेना है। आप के प्रमुख प्रकाशित कृतियाँ हैं - गीत-संग्रह: पिन बहुत सारे (1972), भीतर साँकलः बाहर साँकल (1978), उर्वशी हो तुम, (1987), झुलसो मत मोरपंख (1990), एक दीप चौमुखी (1997), नदी पसीने की (2005), दिन दिवंगत हुए (2005), ग़ज़ल-संग्रह: शामियाने काँच के (1983), महावर इंतज़ारों का (1983), रस्सियाँ पानी की (1987), पत्थर की बाँसुरी (1990), दीवारों पर दस्तक (1991), नाव बनता हुआ काग़ज़ (1991), आग पर कंदील (1993), आँधियों में पेड़ (1997), आठ सुरों की बाँसुरी (1997), आँगन की अलगनी (1997), तो सुबह हो (2000), कोई आवाज़ देता है (2005);कविता-संग्रह: नदी तुम रुक क्यों गई (1997), शब्दः एक लालटेन (1997); पाँचाली (महाकाव्य)

कोई रस्ता है न मंज़िल न तो घर है कोई
आप कहिएगा सफ़र ये भी सफ़र है कोई

'पास-बुक' पर तो नज़र है कि कहाँ रक्खी है
प्यार के ख़त का पता है न ख़बर है कोई

ठोकरें दे के तुझे उसने तो समझाया बहुत
एक ठोकर का भी क्या तुझपे असर है कोई

रात-दिन अपने इशारों पे नचाता है मुझे
मैंने देखा तो नहीं, मुझमें मगर है कोई

एक भी दिल में न उतरी, न कोई दोस्त बना
यार तू यह तो बता यह भी नज़र है कोई

प्यार से हाथ मिलाने से ही पुल बनते हैं
काट दो, काट दो गर दिल में भँवर है कोई

मौत दीवार है, दीवार के उस पार से अब
मुझको रह-रह के बुलाता है उधर है कोई

सारी दुनिया में लुटाता ही रहा प्यार अपना
कौन है, सुनते हैं, बेचैन 'कुँअर' है कोई

20 comments:

  1. डॉ. साहब

    आपकी ग़ज़ल
    नवगीत की तरह

    लाजवाब

    बेहतरीन

    ताजातरीन

    महीन

    जहीन।

    उत्तर देंहटाएं
  2. पास-बुक' पर तो नज़र है कि कहाँ रक्खी है
    प्यार के ख़त का पता है न ख़बर है कोई

    समय सचमुच बदल गया है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. arneey dr sahab aap waqai bahut pyar lutaate hain mujhe bhi aapne khoob pyar diya aur likhne me to aapka gar main jawaab du to meri nadani hogi

    ki
    आप ही का तो दिया हुआ है ये अदब मिरा
    आपको जानते हो,क्या आपको खबर है कोई

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्यार से हाथ मिलाने से ही पुल बनते हैं
    काट दो, काट दो गर दिल में भँवर है कोई
    आज के नेताओं को चाँटा। वाह! लाजवाब!

    उत्तर देंहटाएं
  5. प्यार से हाथ मिलाने से ही पुल बनते हैं
    काट दो, काट दो गर दिल में भँवर है कोई

    कुँअर बेचैन जी का जब हर शेर उम्दा हो तो बेहतरीन गज़ल अपने आप बन जाती है

    उत्तर देंहटाएं
  6. जब कुंवर जी रचना हो तो क्या कहना

    उत्तर देंहटाएं
  7. MERE PRIY GAZALKAAR Dr.KUNVAR
    BECHAIN KEE EK AUR YAADGAAR GAZAL.
    BADHAAEE.

    उत्तर देंहटाएं
  8. पास-बुक' पर तो नज़र है कि कहाँ रक्खी है
    प्यार के ख़त का पता है न ख़बर है कोई

    waah lajawab

    उत्तर देंहटाएं
  9. दिल को छूती हुई ग़ज़ल ..
    हर शेर अपने आप में बेमिसाल है..

    उत्तर देंहटाएं
  10. डॉ.साहिब,


    आपकी हर ग़ज़ल एक नया जोश पैदा करती है और सीने में हलचल मचा देती है । कल ही तो आपकी एक और ग़ज़ल पर अटक गया था-

    दोनों ही पक्ष आए हैं तैयारियों के साथ

    हम गर्दनों के साथ हैं वो आरियों के साथ


    शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  11. डॉ.कुँअर बेचैन को पढ़ना हमेशा ही एक सुखद अहसास रहा है। भावनाओं को जिस खूबसूरत और प्राभावशाली ढंग से वे उकेरते हैं, वह पाठकों के दिल में सीधे उतर जाता है।
    एक और सशक्त रचना के लिये आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  12. एक भी दिल में न उतरी, न कोई दोस्त बना
    यार तू यह तो बता यह भी नज़र है कोई

    waah..waah...!!

    उत्तर देंहटाएं
  13. kya kahane ... ab aapke baare me kya kahun.. itne mahaan gazalkaar ke baare me ... har she'r jaise khud me ek gazal ho... waah ... bas dhero badhaaeee aapko...


    arsh

    उत्तर देंहटाएं
  14. bahut khoob ek ek sher lajavab hai .hamesha yad rahen asae.
    saader
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  15. डॉ.कुँअर बेचैन जी की ग़ज़लें क्या कहूँ ---

    एक भी दिल में न उतरी, न कोई दोस्त बना
    यार तू यह तो बता यह भी नज़र है कोई
    या
    पास-बुक' पर तो नज़र है कि कहाँ रक्खी है
    प्यार के ख़त का पता है न ख़बर है कोई

    वाह-वाह सिर्फ वाह-वाह और कुछ नहीं

    सुधा

    उत्तर देंहटाएं
  16. ग़ज़ल का हर शेर बेहतरीन है।
    प्यार से हाथ मिलाने से ही पुल बनते हैं
    काट दो, काट दो गर दिल में भँवर है कोई

    उत्तर देंहटाएं
  17. कुंवर बेचैन सामने हैं, तो सुनते रहिये या पढ़ते रहिये।
    कहिये क्या?

    प्रवीण पंडित

    उत्तर देंहटाएं
  18. हर शेर बेहतरीन....


    कोई रस्ता है न मंज़िल न तो घर है कोई
    आप कहिएगा सफ़र ये भी सफ़र है कोई


    वाह!

    शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  19. कुँअर बैचैन जी की शायरी पर टिप्पणी करने की क्षमता नहीं है। आप संस्था हैं।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget