रचनाकार परिचय:-


सतपाल ख्याल ग़ज़ल विधा को समर्पित हैं। आप निरंतर पत्र-पत्रिकाओं मे प्रकाशित होते रहते हैं। आप सहित्य शिल्पी पर ग़ज़ल शिल्प और संरचना स्तंभ से भी जुडे हुए हैं तथा ग़ज़ल पर केन्द्रित एक ब्लाग आज की गज़ल का संचालन भी कर रहे हैं। आपका एक ग़ज़ल संग्रह प्रकाशनाधीन है। अंतर्जाल पर भी आप सक्रिय हैं।
बात छोटी सी है पर हम आज तक समझे नही
दिल के कहने पर कभी भी फ़ैसले करते नहीं

सुर्ख़ रुख़्सारों पे हमने जब लगाया था गुलाल
दौड़कर छत्त पे चले जाना तेरा भूले नहीं

हार कुंडल , लाल बिंदिया , लाल जोड़े मे थे वो
मेरे चेहरे की सफ़ेदी वो मगर समझे नहीं

हमने क्या-क्या ख़्वाब देखे थे इसी दिन के लिए
आज जब होली है तो वो घर से ही निकले नहीं

अब के है बारूद की बू चार -सू फैली हुई
खौफ़ फैला हर जगह आसार कुछ अच्छे नहीं.

उफ़ ! लड़कपन की वो रंगीनी न तुम पूछो `ख़याल'
तितलियों के रंग अब तक हाथ से छूटे नहीं

16 comments:

  1. हमने क्या-क्या ख़्वाब देखे थे इसी दिन के लिए
    आज जब होली है तो वो घर से ही निकले नहीं

    होली की शुभकामना।

    उत्तर देंहटाएं
  2. चन्दन की खुशबु
    रेशम का हार
    सावन की सुगंध
    बारिश की फुहार
    राधा की उम्मीद
    "कन्हैया' का प्यार
    मुबारक हो आपको
    होली का त्यौहार

    Regards

    उत्तर देंहटाएं
  3. होली मुबारक
    उफ़ ! लड़कपन की वो रंगीनी न तुम पूछो `ख़याल'
    तितलियों के रंग अब तक हाथ से छूटे नहीं

    अच्छे शेर कहे हैं आपने होली पर।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत अच्छी गज़ल है सतपाल जी, होली की शुभकामना।

    सभी शेर अच्छे हैं। रंग से सरोबार।

    हार कुंडल , लाल बिंदिया , लाल जोड़े मे थे वो
    मेरे चेहरे की सफ़ेदी वो मगर समझे नहीं

    अब के है बारूद की बू चार -सू फैली हुई
    खौफ़ फैला हर जगह आसार कुछ अच्छे नहीं.

    उत्तर देंहटाएं
  5. हार कुंडल , लाल बिंदिया , लाल जोड़े मे थे वो
    मेरे चेहरे की सफ़ेदी वो मगर समझे नहीं

    वाह ख़याल साहिब वाह क्या बात कही आपने... बहोत खूब... होली पे आपको तथा आपके पुरे परिवार को मेरे तरफ से ढेरो बधाईयाँ और शुभकामनाएं ...

    अर्श

    उत्तर देंहटाएं
  6. ओहो...सतपाल जी क्या खूब है
    पहले तो इसे अनुभूति पर पढ़ कर झूम उठा था और अब यहाँ अपने उद्‍गार व्यक्त कर रहा हूँ।
    हम तो मर-मिटे सर इस गज़ल की खास नज़ाकत और अंदाज़े-बयां पर। एक=एक शेर हाय रे~~~~
    और ये दो तो खास कर " सुर्ख़ रुख़्सारों पे हमने जब लगाया था गुलाल/दौड़कर छत्त पे चले जाना तेरा भूले नहीं" और फिर ये "हमने क्या-क्या ख़्वाब देखे थे इसी दिन के लिए/आज जब होली है तो वो घर से ही निकले नहीं"
    और मकते पे तो बस उफ़्फ़्फ़-उफ़्फ़्फ़ किये जा रहा हूँ...
    साहित्य-शिल्पी के इस खास पन्ने से आपने पूरे ब्लौग-जगत को होली के रंग में रंग डाला...

    आपको को,राजीव जी को और साहित्य-शिल्पी की पूरी टीम को होली की ढ़ेरों मुबारक बाद

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत अच्छी ग़ज़ल है सतपाल जी, बधाई। होली मुबारक।

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुर्ख़ रुख़्सारों पे हमने जब लगाया था गुलाल
    दौड़कर छत्त पे चले जाना तेरा भूले नहीं
    वाह सतपाल जी वाह..."वो तेरा कोठे पे नंगे पावन आना याद है...." ग़ज़ल याद आ गयी...सारे शेर खूबसूरत हैं बधाई..
    आपको होली की ढेरों रंग बिरंगी शुभ कामनाएं.
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  9. काफी सारे रंग लिए हुए है आप की ग़ज़ल , ख्याल साहब ... कहीं शरारत , कहीं शिकायत ,कहीं nostalgia ..... होली के मौके पर बिलकुल उपयुक्त :-) साथ ही होली वाला शेर अत्यंत प्रभावी लगा |

    सुर्ख़ रुख़्सारों पे हमने जब लगाया था गुलाल
    दौड़कर छत्त पे चले जाना तेरा भूले नहीं.. से हज़रात मोहानी की " चुपके चुपके रात दिन " की भी याद हो आयी .. सुन्दर अभिव्यक्ति ..

    उत्तर देंहटाएं
  10. मैं कसम खा कर कहता हूँ कि जब मैंने टिप्पणी लिखना आरम्भ किया था तब नीरज जी कि टीप वहाँ नहीं थी.. :-)

    उत्तर देंहटाएं
  11. रंगों के पर्व होली के अवसर पर आपको और आपके परिवारजनों को हार्दिक शुभकामनाये

    उत्तर देंहटाएं
  12. सतपाल जी, होली पर बहुत असरदार ग़ज़ल है:
    सुर्ख़ रुख़्सारों पे हमने जब लगाया था गुलाल
    दौड़कर छत्त पे चले जाना तेरा भूले नहीं

    हार कुंडल , लाल बिंदिया , लाल जोड़े मे थे वो
    मेरे चेहरे की सफ़ेदी वो मगर समझे नहीं
    वाह! क्या बात है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. होली का माहौल उस पर गजल.. मजा आ गया

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget