चनाकार परिचय:-


मोहिन्दर कुमार का जन्म 14 मार्च, 1956 को पालमपुर, हिमाचल प्रदेश में हुआ। आप राजस्थान यूनिवर्सिटी से पब्लिक- एडमिन्सट्रेशन में स्नातकोत्तर हैं।

आपकी रचनायें विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होती रही हैं साथ ही साथ आप अंतर्जाल पर भी सक्रिय हैं। आप साहित्य शिल्पी के संचालक सदस्यों में एक हैं। वर्तमान में इन्डियन आयल कार्पोरेशन लिमिटेड में आप उपप्रबंधक के पद पर कार्यरत हैं।

कुछ दर्द मेरे अपने
कुछ अश्क पराये भी
कुछ खामोश पीये मैंने
कुछ खुल के बहाये भी

कुछ शोखी हसीनों की
कुछ अंदाज जमाने के
कुछ कौल मेरे टूटे
कुछ वादे निभाये भी

कुछ बातें कह डाली
कुछ किस्से छुपाये भी
कुछ काटी अंधेरों में
कुछ चिराग जलाये भी

कुछ दोस्त मिले मुझको,
कुछ झूठे सौदाई
कुछ याद रहे अब तक
कुछ नाम भुलाये भी

कुछ अरमां बर आये
कुछ उम्मीदें मुर्झाई
कुछ जीत के मैं हारा
कुछ हार सजाई भी

कुछ दर्द मेरे अपने
कुछ अश्क पराये भी
कुछ खामोश पीये मैंने
कुछ खुल के बहाये भी

16 comments:

  1. बहुत बढिया मोहिंदर जी, कामाला की रचना है. सारा मन का वृतांत कहा डाला आपने तो और बहुत सुन्दर ढंग से.. बधाई स्वीकार करें..

    उत्तर देंहटाएं
  2. कुछ दर्द मेरे अपने
    कुछ अश्क पराये भी
    कुछ खामोश पीये मैंने
    कुछ खुल के बहाये भी

    बहुत ही बढिया

    उत्तर देंहटाएं
  3. कुछ दोस्त मिले मुझको,
    कुछ झूठे सौदाई
    कुछ याद रहे अब तक
    कुछ नाम भुलाये भी

    बहुत अच्छी पंक्तियाँ

    उत्तर देंहटाएं
  4. छूने वाली कविता पढवा दी मोहिन्दर जी। हम तो पुराने दिनों में हो लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  5. कुछ दोस्त मिले मुझको,
    कुछ झूठे सौदाई
    कुछ याद रहे अब तक
    कुछ नाम भुलाये भी
    waah dil ko chu gayi kavita,sunder.

    उत्तर देंहटाएं
  6. कुछ बातें कह डाली
    कुछ किस्से छुपाये भी
    कुछ काटी अंधेरों में
    कुछ चिराग जलाये भी

    बहुत बढिया मोहिंदर जी......बहुत अच्छी पंक्तियाँ

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह मोहिन्दर जी, संवेदनाओं का पूरा गुलद्स्ता सजा दिया आपनें।

    कुछ दर्द मेरे अपने
    कुछ अश्क पराये भी
    कुछ खामोश पीये मैंने
    कुछ खुल के बहाये भी

    उत्तर देंहटाएं
  8. जन्‍मदिन की बधाई
    मोहिन्‍दर भाई
    समदर्शी जी ने कामाला की रचना बताई
    इस कामाला से मुझे भी मिलवाओ
    मैं कामाला से रचना लिखवाना चाहता हूं।

    उत्तर देंहटाएं
  9. MOHINDER JEE,
    AAPKEE KAVITA ACHCHHEE BANTE-
    BANTE RAH GAYEE HAI,KUCHH PANKTIYON
    MEIN CHHAND KAA SAHEE NIRVAAH N
    HO PAANE KE KAARAN.JAESE --
    KUCHH KHAAMOSH PEEYE MAINE
    IS PANKTI MEIN "KUCHH" KEE 2
    MAATRAAYEN BADH GAYEE HAIN.PANKTI
    VAZAN MEIN HOTEE AGAR ISE YUN
    LIKHAA JAATAA--
    KHAAMOSH PIYE MAINE
    YAA
    KUCHH CHUPKE PIYE MAINE
    AAPKEE NIMN PANKTIYON MEIN BHEE
    YAHEE DOSH HAI--
    KUCHH ANDAAZ ZAMAANE KE

    KUCHH UMMEEDDEN MURJHAYEE
    ASHA HAI KI AAP ISE
    ANYATHA N LEKAR SWASTH TIPPANI
    MAANEGE.

    उत्तर देंहटाएं
  10. कुछ शोखी हसीनों की
    कुछ अंदाज जमाने के
    कुछ कौल मेरे टूटे
    कुछ वादे निभाये भी
    bahut sundar. janam din ki bahut bahut badhayi.

    उत्तर देंहटाएं
  11. प्राण जी की सलाह पर भी ध्यान दीजियेगा। कविता भावपूर्ण है व अच्छी है।

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुंदर गीत आसान कोमल शब्दों में रची-बसी एक बेहतरीन रचना
    बहुत अच्छा मोहिंदर जी

    उत्तर देंहटाएं
  13. सभी मित्रों का टिप्पणी के लिये आभार.

    प्राण जी मैं विषेश रूप से आपका आभारी हूं जिन्होंने मेरा ध्यान रचना की त्रुटियों की और खींचा.. कोशिश रहेगी कि भविष्य में इसको न दोहराऊं

    उत्तर देंहटाएं
  14. कुछ दर्द मेरे अपने
    कुछ अश्क पराये भी
    कुछ खामोश पीये मैंने
    कुछ खुल के बहाये भी


    मोहिंदर जी,
    बहुत सुन्दर रचना ...

    बधाई स्वीकार करें..

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget