रचनाकार परिचय:-


अनिल पाराशर उर्फ़ मासूम शायर का जन्म 20 मई 1961 को भिलाई में हुआ। कला के प्रति इनका रुझान इनकी कविताओं में झलकता है। आजकल ये दिल्ली में बिड़ला ग्रूप में डेप्युटी मॅनेजर के पद पर कार्यरत है।
पिछ्ले तीस सालों से काव्य में रूचि रखते हैं और कई मंचों पर अपनी कविताएँ सुना चुके हैं। इनकी कविताएँ रेडिओ के विभिन्न कार्यक्रमों में आती रहती हैं।

ये कह कर मुझ को रुला दिया
कि तूने माज़ी भुला दिया
जो किया तूने बुरा किया
उस से बुरा कि बता दिया

तुझ को हमेशा प्यार था
मुझे कितना ये ऐतबार था
बुरा किया ये प्यार तोड़े के
उस से बुरा कि जता दिया

ख्वाबों को तेरी जो दीद थी
मेरी नींदों की वही तो ईद थी
बुरा किया ख्वाब छीन के
उस से बुरा कि सुला दिया

तेरी आँखों के ये जो चिराग़ थे
मेरी मंज़िलों के सुराग थे
बुरा किया निगाहें फेर लीं
उस से बुरा चाँद भी छिपा दिया

तूने कितने ही मुझ को ग़म दिए
मैने आँसू फिर भी कम लिए
बुरा किया कि दामन छुड़ा लिया
उस से बुरा कि मुस्कुरा दिया

कुछ मासूम थी कुछ ज़हीन थी
मेरी रूह की जो भी ज़मीन थी
बुरा किया यहाँ हल चला दिया
उस से बुरा दर्द भी उगा दिया

जो भी मेरा अब हाल है
तेरी मुहब्बतों का कमाल है
बुरा किया मुझ को सँवारा नहीं
उस से बुरा आईना दिखा दिया

मिट्टी का दिल का गाँव था
हर दीवार पर तेरा नाम था
बुरा किया तूने पढ़ा नहीं
उस से बुरा कि मिटा दिया

जिसका भी अब ये गुनाह था
वक़्त सुबूत लम्हा गवाह था
बुरा किया हर गवाह हटा दिया
उस से बुरा सुबूत मिटा दिया

अगॅर्चे अब रिश्ता नहीं
ये दर्द पर जाता नहीं
जो कुछ हुआ वो बुरा हुआ
उस से बुरा कि तूने किया

37 comments:

  1. Anil ji ko bahut padha hai unki kavitaye hamesha saral shabdon ghari baat kaha karti hai

    ye panktiyan khas kar pasand aayi

    कुछ मासूम थी कुछ ज़हीन थी
    मेरी रूह की जो भी ज़मीन थी
    बुरा किया यहाँ हल चला दिया
    उस से बुरा दर्द भी उगा दिया

    उत्तर देंहटाएं
  2. मासूम शायर्क़ का साहित्य शिल्पी पर स्वागत है। सचमुच मासूम शायरी है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. ये कह कर मुझ को रुला दिया
    कि तूने माज़ी भुला दिया
    जो किया तूने बुरा किया
    उस से बुरा कि बता दिया

    तूने कितने ही मुझ को ग़म दिए
    मैने आँसू फिर भी कम लिए
    बुरा किया कि दामन छुड़ा लिया
    उस से बुरा कि मुस्कुरा दिया

    बहुत खूब।

    उत्तर देंहटाएं
  4. ख्वाबों को तेरी जो दीद थी
    मेरी नींदों की वही तो ईद थी

    तेरी आँखों के ये जो चिराग़ थे
    मेरी मंज़िलों के सुराग थे

    बहुत सुंदर एहसास हैं ।

    देवमणि पाण्डेय

    उत्तर देंहटाएं
  5. Anil saHeb! hamaare liye naye naheeN hai. is manch par khushaamdeed!

    Dheeraj Ameta "dheer"

    उत्तर देंहटाएं
  6. "कुछ मासूम थी कुछ ज़हीन थी
    मेरी रूह की जो भी ज़मीन थी
    बुरा किया यहाँ हल चला दिया
    उस से बुरा दर्द भी उगा दिया"
    मासूम और कोमल भावों से परिपूर्ण कविता |
    ख्याल बहुत बेहतरीन ढंग से रखे गए हैं ....
    "बुरा किया ख्वाब छीन के
    उस से बुरा कि सुला दिया"
    कटाक्ष और वेदना दोनों का पुट है ... इस तरह की टूटन मोमिन खां मोमिन की ग़ज़लों में अमूमन देखि गयी है.... और शायद इसी साम्य की वजह से आप की ये रचना कहीं कहीं पाठक को असमंजस में भी दाल देती है , कि ये दरअसल क्या है ... क्यूंकि इस की आत्मा एक ग़ज़ल की है और ये बेहर के बहुत करीब हो कर भी बे बेहर है .. इस पर और तर्क आमंत्रित हैं ...
    बहार हाल एक भावुक और हृदयस्पर्शी रचना के लिए बधाई ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. मिट्टी का दिल का गाँव था
    हर दीवार पर तेरा नाम था
    बुरा किया तूने पढ़ा नहीं
    उस से बुरा कि मिटा दिया

    विरह और प्रेमिका की पत्थरदिली को बखूबी बताया है आपने अपनी नज़्म में।

    उत्तर देंहटाएं
  8. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  9. पंकज सक्सेना19 मार्च 2009 को 5:46 pm

    वाह, क्या बात है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत अच्छी कविता है, बधाई। मासूम शायर का साहित्य शिल्पी में स्वागत।

    उत्तर देंहटाएं
  11. अनिल जी...आपकी हर रचना एक से बढकर एक होती है...

    पढने के साथ-साथ अगर आपकी आवाज़ भी सुनने को मिल जाती तो आनन्द कई गुणा बढ जाता

    उत्तर देंहटाएं
  12. शर्द्धा तुम्हारा तो विशेष आभार तुम ने मेरे रूचि को सदा सहारा दिया है कविता कहने में भी और उस के लिए अच्छे घर तलाश करने में भी. यहाँ भी आया हूं तुम एक कारण हो
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  13. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  14. अनन्या जी आलोक जी, निधि जी, देवमणि जी,पाइयर छोटे भाई धीर,हम नाम अनिल कुमार जी,पंकज जी,अभिषेक,राजीव जी मेरे साथी आप लोगों का बहुत बहुत धन्यवाद पहले ही दिन इतने प्यार से अपना पं देने के लिए रचना को

    दिव्यांशु जी बहुत महीनता से अपने पं से मेरी रचना को पढ़ने के लिए गहरे दिल से आभार है आप का आत्मा ग़ज़ल की है पर ग़ज़ल ना हो सकी इतना मैं जनता हूं आप लोगों का साथ सदा माँगी रहेगी मेरी रचना

    मासूम जैसा शायर यूं शहर में नहीं है
    अपनी ही धुन उस की बहर में नहीं है

    उत्तर देंहटाएं
  15. आदरणीय अनिल पराशर जी,
    मेरा मानना है कि कविता अपने कहन से पहले जानी जाती है। आपकी यह रचना दिल को बहुत मासूमियत से छूती है। जहाँ "उससे बुरा" वाली बात आती है वहाँ कविता तो चमत्कृत करती ही है भाव और गहरे डुबा ले जाते हैं।

    आपका साहित्य शिल्पी पर अभिनंदन।

    उत्तर देंहटाएं
  16. वाह !!! क्या बात कही !!

    भावुक और सुंदर रचना !!

    बधाई ...

    उत्तर देंहटाएं
  17. मिट्टी का दिल का गाँव था
    हर दीवार पर तेरा नाम था
    .....बहुत सुन्दर रचना .

    उत्तर देंहटाएं
  18. साहित्य शिल्पी पर आपका स्वागत है। सुंदर रचना के लिये बधाई स्वीकारें!

    उत्तर देंहटाएं
  19. जिसका भी अब ये गुनाह था
    वक़्त सुबूत लम्हा गवाह था
    बुरा किया हर गवाह हटा दिया
    उस से बुरा सुबूत मिटा दिया
    सचमुच मासूम

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत ख़ूब मज़ा आ गया बहुत ही बढ़िया कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  21. अनिल जी,

    बहुत ही सुन्दर नज्म..
    आपसे एक बार मिल कर आपकी रचनाओं का भरपूर आनन्द ले चुका हूं..आपका साहित्य शिल्पी पर स्वागत है.. आशा है अब आप अक्सर इस मंच पर नजर आयेंगें... जल्दी मिलने की आशा के साथ..

    उत्तर देंहटाएं
  22. Anil ji....Aap ki yeh nazm padhi hai pehle bhi aur har baar jo ehsaas jagaane ki kshamta hai ismein...usi se bhaav ki nazaakat aur gehraai pata chalti hai....

    aapke khayal aur bhaavo mein jo saumyata aur paripakvata aksar milti hai...uske liye aapko shubhkaamnayein....aapse parichay bhi hamare liye bahut khushi ka sabab hai....

    उत्तर देंहटाएं
  23. बुरा किया ख्वाब छीन के
    उस से बुरा कि सुला दिया...

    बुरा किया कि दामन छुड़ा लिया
    उस से बुरा कि मुस्कुरा दिया...

    nishabd kar diya hai aapne....

    उत्तर देंहटाएं
  24. अगॅर्चे अब रिश्ता नहीं
    ये दर्द पर जाता नहीं
    जो कुछ हुआ वो बुरा हुआ
    उस से बुरा कि तूने किया


    yah bahut hi achchha likha hai wah

    उत्तर देंहटाएं
  25. AAPKI RACHNAO KI MAI STHAYI PATHIKA HU. HAR PANKTI AAP DIL SE LIKHTE HAIN JIN KA SACH ME KOI SAANI NAHI HOTA. AISE HI HUME AAPKI RACHNAYE PADHNE KO MILTI RAHE YE HI AASHA HAI.

    उत्तर देंहटाएं
  26. राजीव रंजन जी बहुत बहुत शुक्रिया

    रंजना सराहना के लिए बहुत बहुत धन्यवाद

    अतुल्य यहाँ आने का बहुत बहुत ध्न्यवाद

    मा पलायनम जी बहुत बहुत धन्यवाद

    अजय जी हौलसा बढ़ने का शुक्रिया

    मानविंदर जी आप का दिल से आभारी हूं

    प्रकाश जी ध्न्यवाद आप का

    अनिल मासूमशायर

    उत्तर देंहटाएं
  27. मोहिंदर कुमार जी आप का शुक्रिया आज उस दिन की याद ताज़ा हो गयी

    रागिनी बहुत बहुत शुक्रिया और मन ही गहराई से

    धीरेन्द्र बहुत बहुत धन्यवाद

    अपर्णा शुक्रिया

    अनिल

    उत्तर देंहटाएं
  28. मिट्टी का दिल का गाँव था
    हर दीवार पर तेरा नाम था
    बुरा किया तूने पढ़ा नहीं
    उस से बुरा कि मिटा दिया..
    bahut hi achhi rachna

    उत्तर देंहटाएं
  29. कुछ मासूम थी कुछ ज़हीन थी
    मेरी रूह की जो भी ज़मीन थी
    बुरा किया यहाँ हल चला दिया
    उस से बुरा दर्द भी उगा दिया

    बहुत खूब सर जी, आपको पड़ना सदैव अच्छा लगा है, इस रचना की हर पंक्ति और पंक्ति का एक-एक शब्द आपने चुन चुन कर लिखा है, मासूम सी एक रचना, दिल खुश कर गयी,
    हर बार की तरह ये रचना भी ला-ज़वाब है.
    हार्दिक-शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  30. मिट्टी का दिल का गाँव था
    हर दीवार पर तेरा नाम था
    बुरा किया तूने पढ़ा नहीं
    उस से बुरा कि मिटा दिया

    anil ji.....

    aapko parna hamesha ek alag hi ahesaas deta .....khasiyat hai ye ki jitni saral hoti hai utni hi gaherai bhi....

    divyanshu ji ka parne ka andaz bahut pasand aaya

    उत्तर देंहटाएं
  31. Anil ji aap to jaante hi hain ki main aapki kitni badi fan hoon.aur aapki rachnaye padhne ke baad main bas ek shabd kah paati hoon ,Uffffffffffff..wakai aap kamaaal likhte hain .
    2 line meri taraf se...
    ik to tu masoom hai, duje naam se main neelam,
    iss sheeshe ke shahar main tera mera koi sarokaar nahi hai .
    Nilima

    उत्तर देंहटाएं
  32. thujse milker kabhi na bithdoo
    yeh dua apni jagah
    tere mere beach ka fasla
    apni jagah

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget