मेरे ज़हन में कई पोशीदा से पल रहते हैं,
यहाँ न दिन होता है न रात.
वक्त अपनी नाव को खूंटे से
साहिल पे बाँध के भूल जाता है.
लहरें आती तो हैं लेकिन जाती नही.
बालू के बवंडर उठते रहते हैं,
और बुझते भी हैं.
मानो आग निरंतर जल बुझ रही हो.

रचनाकार परिचय:-


उपासना अरोड़ा का जन्म 24/6/1986 को नयी दिल्ली में हुआ। आपने एम. बी. ए तक की शिक्षा प्राप्त की है। आप 11 वर्ष की उम्र से ही कवितायें लिख रही हैं। आप वर्तमान में हेनले इंडस्ट्रीज नामक संस्था में कार्यरत हैं।

एक लम्हा है लेकिन;
एक मासूम अच्छे बच्चे जैसा,
दिन रात का फर्क मालूम है उससे.
सेहर चढ़े उठता है और,
दिन दिन जैसा रात रात जैसी गुजारता है.
तुम तो मुझे जैसे “स्टेच्यु” करके चले गए हो.
वो लम्हा लेकिन मेरी पलकों तले अब तक पडा है;
कितना हसीन खेल है तुम्हारा;
सिर्फ़ पलकें हिला सकते हैं....

17 comments:

  1. upasana ji

    kya likha hai ,waah waah ..
    तुम तो मुझे जैसे “स्टेच्यु” करके चले गए हो.
    वो लम्हा लेकिन मेरी पलकों तले अब तक पडा है;

    life has strange movements and this shows a forgotton movement , frozen in time..

    us lamhe ko yaad karte karte hi jeevan gujar jaata hai ..jis lamhe me prem hota hai..

    waah ji waah .. maine aaj hi aisi ek kavita post ki hai ..

    dil se badhai sweekar karen .

    उत्तर देंहटाएं
  2. दिन दिन जैसा रात रात जैसी गुजारता है.
    तुम तो मुझे जैसे “स्टेच्यु” करके चले गए हो.
    वो लम्हा लेकिन मेरी पलकों तले अब तक पडा है;
    कितना हसीन खेल है तुम्हारा;
    सिर्फ़ पलकें हिला सकते हैं....

    प्यार भरे अहसास और उतने ही सुन्दर आपके शब्द।

    उत्तर देंहटाएं
  3. upasna ji ..
    वो लम्हा लेकिन मेरी पलकों तले अब तक पडा है;
    कितना हसीन खेल है तुम्हारा;
    सिर्फ़ पलकें हिला सकते हैं....

    aapki poetry mujhe ungali paker ker bahut peeche le gai....
    akser ek chota sa lamha ...na jaane kitne saalo tak gujer ke bhi nahi gujerta......

    khoobsorat likha hai

    उत्तर देंहटाएं
  4. upasna ji ..
    वो लम्हा लेकिन मेरी पलकों तले अब तक पडा है;
    कितना हसीन खेल है तुम्हारा;
    सिर्फ़ पलकें हिला सकते हैं....

    aapki poetry mujhe ungali paker ker bahut peeche le gai....
    akser ek chota sa lamha ...na jaane kitne saalo tak gujer ke bhi nahi gujerta......

    khoobsorat likha hai

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुख और दुःख दोनों अजीब से चीज हैं, कहीं से भी उपज जाते हैं. और कहाँ से क्या उपजेगा, पहले से बताया नहीं जा सकता.

    उत्तर देंहटाएं
  6. भावों से परिपूर्ण रचना के लिए उपासना जी को बहुत-बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  7. उपासना जी बिम्बों का बहुत सउंदर और संवेदनशील ता के साथ आपने उपयोग किया है. बहुत सुंदर शुभकामना

    उत्तर देंहटाएं
  8. तुम तो मुझे जैसे “स्टेच्यु” करके चले गए हो.
    वो लम्हा लेकिन मेरी पलकों तले अब तक पडा है;

    दिल के जज्बातों को उतार कर शशक्त रचना है यह
    बहूत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  9. एक सुंदर, भावों से ओत-प्रोत प्रभावशाली रचना के लिए बधाई।
    बड़ी मार्मिक अभिव्यक्ति है:-
    वो लम्हा लेकिन मेरी पलकों तले अब तक पडा है;
    कितना हसीन खेल है तुम्हारा;
    सिर्फ़ पलकें हिला सकते हैं....

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुन्दर भाव अभिव्यक्ति
    काश जिन्दगी के हसीन पलों को स्टेचू कर के उन्हें लम्बे अरसे तक महसूस किया जा सकता और वक्त के कांटे को रोका जा सकता...

    उत्तर देंहटाएं
  11. कितना हसीन खेल है तुम्हारा;
    सिर्फ़ पलकें हिला सकते हैं....

    रचना छूती है अंदर तक।
    बधाई स्वीकारें।

    -विश्व दीपक

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget