Photobucket कवि परिचय:-


योगेश समदर्शी का जन्म १ जुलाई १९७४ को हुआ।
बारहवी कक्षा की पढाई के बाद आजादी बचाओ आंदोलन में सक्रिय भागीदारी के कारण औपचारिक शिक्षा बींच में ही छोड दी. आपकी रचनायें अब तक कई समाचार पत्र और पत्रिकाओं में प्रकाशित होती रही हैं। 

आपकी पुस्तक “आई मुझको याद गाँव की” शीघ्र प्रकाशित होगी।

नाखुश इतने, नफरत कर कर.
रक्त पीपासा, उर में भर कर.
अपना नया ईश्वर रच कर,
जीना चाहते हैं वह मर कर.

हाथ नहीं हथियार हैं उनके,
मस्तक धड से अलग चले है.
ईच्छा और विवेक से अनबन,
आस्तीन में सांप पले हैं.
काम धर्म का मान लिया है.
जाने कौन किताब को पढ कर.

अपना नया, ईश्वर रच कर.
जीना चाहते, हैं वह मर कर.

खून और चीतकार का जिसने,
अर्थ बदल कर उन्हे बताया.
निर्दोशों को मौत का तौहफा,
दे कर जिसने रब रिझाया.
मां के खून को किया कलंकित,
झूंठे निज गौरव को गढ कर.

अपना नया ईश्वर रच कर.
जीना चाहते हैं वह मर कर.

बचपन की मुस्कान है जीवन,
कांश उन्हें भी कोई बताये.
रास रस उलास है जीवन,
कोई उनको यह समझाये.
क्यों खुद को आहूत कर रहे,
भ्रमित उस संसार में फंसकर.

अपना नया ईश्वर रच कर.
जीना चाहते हैं वह मर कर.

17 comments:

  1. रास रस उलास है जीवन,
    कोई उनको यह समझाये.
    क्यों खुद को आहूत कर रहे,
    भ्रमित उस संसार में फंसकर.

    अपना नया ईश्वर रच कर.
    जीना चाहते हैं वह मर कर.

    आपके संकेत समझने की जरूरत है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत अच्छी कविता है योगेश जी, बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बचपन की मुस्कान है जीवन,
    कांश उन्हें भी कोई बताये.
    रास रस उलास है जीवन,
    कोई उनको यह समझाये.
    क्यों खुद को आहूत कर रहे,
    भ्रमित उस संसार में फंसकर.

    कविता की ये लाइनें बहुत भायी मुझको।
    योगेश जी बहुत ही सुन्दर कविता के लिए बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  4. अपना नया ईश्वर रच कर,
    जीना चाहते हैं वह मर कर.

    बहुत सुन्दर।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही सार्थकता और प्रभावी ढंग से आपने वर्तमान की विडंबना को दर्शाया है....
    प्रभावोत्पादक अतिसुन्दर इस रचना हेतु साधुवाद.
    काश कि इसे रक्तपिपासु धर्मांध लोग पढ़ समझ पाते......

    उत्तर देंहटाएं
  6. नाखुश इतने, नफरत कर कर.
    रक्त पीपासा, उर में भर कर.
    अपना नया ईश्वर रच कर,
    जीना चाहते हैं वह मर कर

    भाषा शैली और कथन सब प्रभावशाली।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही उम्दा कविता , एकदम सही कहा

    उत्तर देंहटाएं
  8. अपना नया ईश्वर रच कर.
    जीना चाहते हैं वह मर कर.

    गहरी अभिव्यक्ति है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत बढ़िया। बहुत सही बात कह रहे हैं।
    घुघूती बासूती

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुंदर श्ब्दों में आपने
    बहुत कुछ कह दिया....

    काश ! किसी के समझ आ जाये...

    बहुत सुंदर रचना...
    आपको बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर रचना के लिये बधाई स्वीकारें। आपकी अन्य रचनाओं से इस कविता की शैली भिन्न है और प्रभावी है।

    उत्तर देंहटाएं
  12. आत्मघाती हमलावरों के बारे में आपकी कविता बहुत कुछ कह जाती है

    उत्तर देंहटाएं
  13. अपना नया, ईश्वर रच कर.
    जीना चाहते, हैं वह मर कर.

    chhuti hain ye panktiya

    उत्तर देंहटाएं
  14. मानवीय मुल्यों को नकारते मनुष्य के मुख से मुखौटा हटाती एक सशक्त रचना

    उत्तर देंहटाएं
  15. yogesh ji , is baar to kuch naya hi likha hai .. do baar pad chuka hoon , tareef ke liye shabd nahi mil rahen hai .. phir bhi " jai ho " is poem ke liye ..meri taraf se..

    vijay
    http://poemsofvijay.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget