तुमने
मेरी यादों की धरती पर
अपना घर बना रखा है
घर कि
जिसके द्वार
खुले रहते हैं सदैव।

जब जी चाहता है
तुम आ जाते हो इस घर में
जब जी चाहता है
चले जाते हो इससे बाहर।

तुम्हारे आने का
न कोई समय तय है
न जाने का।

तुम्हारे आते ही
जीवंत हो उठता है यह घर
तुम्हारे चले जाने से
पसर जाता है इसमें
मरघटों-सा सन्नाटा।

तुम्हें हाथ पकड़ कर
रोक लेने की
चाहत भी तो पूरी नहीं होती
क्योंकि
न जाने कहाँ छोड़ आते हो
तुम अपनी देह
इस घर में आने से पहले।
00

28 comments:

  1. सुभाष नीरव एक अच्छे कथाकार के साथ एक अच्छे कवि और गजलकार हैं. उनकी प्रस्तुत कविता मन में उथल-पुथल मचा देती है.

    चन्देल

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुभाष नीरव एक अच्छे कथाकार के साथ एक अच्छे कवि और गजलकार हैं. उनकी प्रस्तुत कविता मन में उथल-पुथल मचा देती है.

    चन्देल

    उत्तर देंहटाएं
  3. तुम्हें हाथ पकड़ कर
    रोक लेने की
    चाहत भी तो पूरी नहीं होती
    क्योंकि
    न जाने कहाँ छोड़ आते हो
    तुम अपनी देह
    इस घर में आने से पहले।

    सुन्दर संवेदना

    उत्तर देंहटाएं
  4. बधाई के साथ एक सुझाव

    कि घर में खिड़कियां भी

    लगवा लें, वह भी आने

    जाने के काम में आएंगी

    और घर को सुंदर बनाएंगी।

    उत्तर देंहटाएं
  5. कोमल कविता बहुत अच्छी तरह बुनी गयी।

    उत्तर देंहटाएं
  6. तुम्हारे आते ही
    जीवंत हो उठता है यह घर
    तुम्हारे चले जाने से
    पसर जाता है इसमें
    मरघटों-सा सन्नाटा।

    मन को छू गयी लाईनें।

    उत्तर देंहटाएं
  7. महादेवी के जन्मदिवस को इस तरह मनाया जाता देख मन प्रफुल्लित हो गया है। साहित्य शिल्पी सही दिशा में आगे बढ रही है।

    सुभाष नीरव जी की कविता बहुत प्रभावित करती है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. एक भावभीनि रचना...

    तुम्हें हाथ पकड़ कर
    रोक लेने की
    चाहत भी तो पूरी नहीं होती
    क्योंकि
    न जाने कहाँ छोड़ आते हो
    तुम अपनी देह
    इस घर में आने से पहले।

    सचमुच तन पर तो अधिकार हो सकता है.. मन को पकडना मुशकिल है..

    उत्तर देंहटाएं
  9. मन को पकड़ना सचमुच बहुत मुश्किल होता है ...बहुत अच्छी रचना पढ़वाई आपने

    मेरी कलम - मेरी अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  10. कविता का माध्यम विभिन्न तरीके से मन के भाव प्रगट कर सकता है
    खूबसूरत है आपका माध्यम, नवीन शब्दों में सजा

    उत्तर देंहटाएं
  11. तुम्हें हाथ पकड़ कर
    रोक लेने की
    चाहत भी तो पूरी नहीं होती
    क्योंकि
    न जाने कहाँ छोड़ आते हो
    तुम अपनी देह
    इस घर में आने से पहले


    संवेदनशील रचना


    जैसा कि अविनाश जी ने सुझाव दिया है कि आप घर में खिड़कियाँ लगवा लें...तो सस्ती और टिकाऊ खिड़कियों के लिए मेरी सेवाएँ हाज़िर हैँ

    उत्तर देंहटाएं
  12. aap ki sari rachnaye bahut sunder hoti hai .
    ye kavita bhi bhi bahut sunder hai
    saader
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  13. सुंदर भावपूर्ण रचना है। बधाई स्वीकारें।

    उत्तर देंहटाएं
  14. सुभाष भाई बहुत ही अच्‍छी कविता लिखी है आपने मजा आ गया पढकर बहुत धन्‍यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  15. सुभाष जी की रचना हृदय की गहराईयों तक उतर गई.
    तुम्हें हाथ पकड़ कर
    रोक लेने की
    चाहत भी तो पूरी नहीं होती
    क्योंकि
    न जाने कहाँ छोड़ आते हो
    तुम अपनी देह
    इस घर में आने से पहले।
    बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  16. ..........

    तुम्हें हाथ पकड़ कर
    रोक लेने की
    चाहत भी तो पूरी नहीं होती
    क्योंकि
    न जाने कहाँ छोड़ आते हो
    तुम अपनी देह
    इस घर में आने से पहले।

    अति सुंदर .....

    उत्तर देंहटाएं
  17. TUM HAATH PAKAD KAR
    ROK LENE KEE
    CHAAHAT BHEE TO
    POOREE NAHIN HOTEE
    KYON KI
    N JAANE KAHAN
    CHHOD AATE HO
    TUM APNEE DEH KO
    IS GHAR MEIN
    AANE KE PAHLE
    KYAA SUNDAR AUR KOMAL BHAV
    KEE ABHIVYAKTI HAI!SAADGEE KE SAATH-SAATH HIZAAB BHEE CHHIPAA
    HAIN IN PANKTIYON MEIN.MUBAARAK

    उत्तर देंहटाएं
  18. Neerav Saheb...iss khoobsurat nazam ke liye aapko mubarakbaad bhej rahi hoon...

    तुम्हें हाथ पकड़ कर
    रोक लेने की
    चाहत भी तो पूरी नहीं होती
    क्योंकि
    न जाने कहाँ छोड़ आते हो
    तुम अपनी देह
    इस घर में आने से पहले।
    Inn satron ne kavi-man par gehra parbhav chhorha hai. Pls keep it up.

    Best Regards
    Tandeep Tamanna
    Vancouver, Canada
    punjabiaarsi.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  19. भाई अविनाश और राजीव जी के सुझाव के लिए धन्यवाद । सचमुच इस घर में एक खिड़की लग जाती तो घर और सुन्दर हो जाता। भाई राजीव जी, मालूम हुआ है कि आपका खिड़कियों –दरवाजों का कारोबार है, एक ठौ खिड़की उपहार में ही भिजवा दें तो लगवा दूँ, आभारी होऊँगा। मंदी के चलते नहीं लगवा पाया हूँ।

    उत्तर देंहटाएं
  20. राजीव जी कह रहे हैं

    ले जाने के लिए आइए

    स्‍वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  21. Yadon kee dhatee par bahut bhavpoorN kavita hai. maraghat ka sannta
    upma pathak ke samne ek udasee ka chitra kheenchtee hai.badhaee!
    Rekha Maitra
    rekha.maitra@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  22. अब ये कविया के बीच खिड़कियाँ कहाँ से आ गयी नीरव जी...?

    तुम्हें हाथ पकड़ कर
    रोक लेने की
    चाहत भी तो पूरी नहीं होती
    क्योंकि
    न जाने कहाँ छोड़ आते हो
    तुम अपनी देह
    इस घर में आने से पहले।

    बहुत सुंदर रचना...गहरे भाव लिए .बधाई...!!

    उत्तर देंहटाएं
  23. हरकीरत जी, अब कवि-मित्रों का कहना है कि घर बनाया है तो सिर्फ़ दरवाजे से काम नहीं चलेगा, सुन्दर घर के लिए खिड़की भी होनी चाहिए। मैंने कहा -इस घर में जो खिड़की की जो कमी है, आप ही लगवा दो। खैर ! मैं उन सभी का हृदय से आभारी हूँ कि जिन्होंने मेरी इस प्रेम कविता को पढ़कर अपनी टिप्पणियों से मुझे और अन्य पाठकों को अवगत कराया।

    उत्तर देंहटाएं
  24. subhash jee der se hi sahi aapki ek achhi kavita padne ko mili vaakei jo log karm bhumi se gayab ho jate hain, yaad aate hain lekin unki rachnae apne hone kaa ehsas krati hain yahi unki saphalta ka raj hai jiske karan ve kabhi bhi hamse door nahi hote hain isiliye deh ka koi aarth nahi rehta hai lekin deh ko jis tarah aapne kavita me prayogatmak sawarup deker prastut kiya hai uske liye aapko badhai deta hoon

    ashok andrey

    उत्तर देंहटाएं
  25. तुम्हें हाथ पकड़ कर
    रोक लेने की
    चाहत भी तो पूरी नहीं होती
    क्योंकि
    न जाने कहाँ छोड़ आते हो
    तुम अपनी देह
    इस घर में आने से पहले।

    Wah subhash ji in panktiyon ne man moh liya bhaut khoonsurat

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget