साहित्य शिल्पी रचनाकार परिचय:-


विजय कुमार सपत्ति के लिये कविता उनका प्रेम है। विजय अंतर्जाल पर सक्रिय हैं तथा हिन्दी को नेट पर स्थापित करने के अभियान में सक्रिय हैं।

आप वर्तमान में हैदराबाद में अवस्थित हैं व एक कंपनी में वरिष्ठ महाप्रबंधक के पद पर कार्य कर रहे हैं।

मुझे अपने रंग में ; रंग दे ,मेरे मौला
मुझे भी अपने संग ले ले ,मेरे मौला

जब हर कोई मेरा साथ छोड़ दे ,
दुनिया के भीड़ में तन्हा छोड़ दे
तब ज़िन्दगी की तन्हाइयों में
एक तेरा ही तो साया ;
मेरे साथ होता है मेरे मौला
मेरा सब कुछ अब तू ही मेरे मौला

मुझे अपने रंग में ; रंग दे ,मेरे मौला
मुझे भी अपने संग ले ले ,मेरे मौला

प्रीत ; अब मुझे किसी से न रही
कोई अपना ,कोई पराया न रहा
हर सुबह ,हर शाम
बस एक तेरा ही नाम
अब मेरे होठों पर है मेरे मौला
मेरा सब कुछ अब तू ही मेरे मौला

मुझे अपने रंग में ; रंग दे ,मेरे मौला
मुझे भी अपने संग ले ले ,मेरे मौला

मेरी दुनिया में ,अब मेरा मन नही लगता
यहाँ की बातों में कोई दिल नही बसता
सुना है तेरी दुनिया में बड़े जादू होतें है
तेरी दुनिया में चाहत की नदिया बहती है
मुझे भी अपनी दुनिया में बुला ले ,मेरे मौला
मेरा सब कुछ अब तू ही मेरे मौला

मुझे अपने रंग में ; रंग दे ,मेरे मौला
मुझे भी अपने संग ले ले ,मेरे मौला

मुझे अब ; किसी से कोई शिकवा नही ,
अपना - पराया , सब कुछ छोड़ यही ;
व्यथित हृदय के साथ , तेरे दर पर आया हूँ ,
दोनों हाथों की झोली फैलाये हुए हूँ
मेरी झोली अपने प्यार से भर दे मेरे मौला
मेरा सब कुछ अब तू ही मेरे मौला

मुझे अपने रंग में ; रंग दे ,मेरे मौला !
मुझे भी अपने संग ले ले ,मेरे मौला !!
मेरा सब कुछ अब तू ही मेरे मौला !!!

12 comments:

  1. मुझे अब ; किसी से कोई शिकवा नही ,
    अपना - पराया , सब कुछ छोड़ यही ;
    व्यथित हृदय के साथ , तेरे दर पर आया हूँ ,
    दोनों हाथों की झोली फैलाये हुए हूँ
    मेरी झोली अपने प्यार से भर दे मेरे मौला
    मेरा सब कुछ अब तू ही मेरे मौला
    बडे ही सूफ़ियाना अंदाज में लिखा है, बहुत सुन्दर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  2. मुझे अब ; किसी से कोई शिकवा नही ,
    अपना - पराया , सब कुछ छोड़ यही ;
    व्यथित हृदय के साथ , तेरे दर पर आया हूँ ,
    दोनों हाथों की झोली फैलाये हुए हूँ
    मेरी झोली अपने प्यार से भर दे मेरे मौला
    मेरा सब कुछ अब तू ही मेरे मौला

    मुझे अपने रंग में ; रंग दे ,मेरे मौला !
    मुझे भी अपने संग ले ले ,मेरे मौला !!

    प्रार्थना जैसी कविता है। अच्छी लगी।

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपकी अनोखी शैली है पूरी तरह मौलिक और आपका अपना अंदाज है। आपकी कवितायें अच्छी लगती हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. मुझे अपने रंग में ; रंग दे ,मेरे मौला !
    मुझे भी अपने संग ले ले ,मेरे मौला !!
    मेरा सब कुछ अब तू ही मेरे मौला !!!

    सूफ़ियाना अंदाज में कही गयी अच्ची रचना है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सहज सुन्दर सुफ़ियाना अन्दाज की रचना... पढ कर आनन्द आया.. सच में पूर्ण समर्पण से ही हम उसे पा सकते है और अपना जीवन सफ़ल कर सकते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  6. कई बार मन करता है कि सब कुछ छोड़-छाड़ के उसकी शरण में चले जाएँ....


    बढिया रचना

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर सुफ़ियाना अन्दाज.....

    सुन्दर रचना.....

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत अच्छी कविता। अलग सी है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. विजय जी आपकी इस कविता मे भी आपकी झलक है। बहुत बधाई आपको।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget