किसी भी समस्या को समाधान तक पहुंचाने के लिये कुछ चरणों से गुजरना पडता है I इन चरणों को हमारा समाज व हमारे नेता चुनाव के दौरान किस तरह से लेते हैं इसका एक चित्र खींचने का मेरा प्रयास इस प्रकार से है I

समस्या की अनुभूति

चुनाव जब जब पास आते हैं
नेता
देश की समस्यों की
लिस्ट बनाने में जुट जाते हैं
मंहगायी, बेरोजगारी, शिक्षा 
उन्हें याद आने लगती हैं
वादों के बिगुल बजाने लगते है


चनाकार परिचय:-


मोहिन्दर कुमार का जन्म 14 मार्च, 1956 को पालमपुर, हिमाचल प्रदेश में हुआ। आप राजस्थान यूनिवर्सिटी से पब्लिक- एडमिन्सट्रेशन में स्नातकोत्तर हैं।

आपकी रचनायें विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होती रही हैं साथ ही साथ आप अंतर्जाल पर भी सक्रिय हैं। आप साहित्य शिल्पी के संचालक सदस्यों में एक हैं। वर्तमान में इन्डियन आयल कार्पोरेशन लिमिटेड में आप उपप्रबंधक के पद पर कार्यरत हैं।
मुल्यांकन

अपनी उपलब्धियों
एंव दूसरी पार्टी की कमियों का 
गुणगान होता है
पार्टी भाषण 
मंच विरोधी पार्टी कर्ताओं के 
शिकार का मचान होता है

कारण

अकारण हुए कारण बताये जाते है
जनता जानती है 
वोटर किस तरह सताये जाते हैं

आंकडे

आंकडे सुझाते हैं 
कि जितना पैसा चुनाव व सरकार बनाने
व उसकी सुरक्षा एंव चलाने में लगता है
यदि वही धन 
उत्थान के कार्यों में लगाया जाता
हमारे देश का नाम 
संसार के उन्नत देशों में आता

निवारण की और कदम

गरीबी व बेरोजगारी को
देश के पिछडेपन का सबसे बडा कारण बता कर
छोटी छोटी दुकाने सील कर
बडे बडे माल बना कर
और अधिक भुखमरी फैला रहे हैं
गरीबी नही
गरीबों के उन्मूलन का कार्यक्रम बना रहे हैं

निवारण का सत्यापन

निवारण हुआ कि नही
इस का निर्णायक कौन है
मंहगायी, बेरोज़गारी दिनो दिन बढती जाती है
जनसंख्या काबू में नही आती है
नेता देश में क्या हो रहा है
विदेश यात्रा कर पता लगा रहे हैं
कर्मठ गधे हैं
काम के बोझ से लदे हैं
राजनीति के गलियारों में शोर है
जनता मौन है

निवारण के दूरगामी प्रभाव

जैसे चल रहा है
चलता जायेगा
चुनाव कौन सा कुम्भ का मेला है
पांच वर्ष में फिर लौट आयेगा
जनता में बडी शक्ति है
सरकार पलट जायेगी
अभी यह पार्टी निचोड रही थी
अब दूसरी पार्टी खायेगी

निवारण एक अनावर्त प्रयास

जब तक अवचेतन जनता में
चेतना नही आयेगी
तब तक निरन्तर यूहीं
बाड खेत को खायेगी
बाड खेत को खायेगी

14 comments:

  1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. मोहिन्दर जी

    बहुत सही समय पर आप इन रचनाओं को लाये हैं. इस समय जनता के एक हाथ में निंदनीय राजनीतिकॊं के रूप में नाग का फन है और दूसरे में वोट का ड्ण्डा जिससे वह इन सांपों से अपने घर को मुक्त भी कर सकती है. आपकी इन छोटी किन्तु गम्भीर बातों के मर्म से यदि कुछ लोग भी सचेष्ट हो सके तो चुनाव रूपी महायज्ञ में आपकी ओर से एक आहुति ही होगी. धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  3. SACHCHAAE KO UJAAGAR KARTEE HAIN
    SHRI MOHINDER KUMAAR KEE YE
    CHHOTEE-CHHOTEE KAVITAYEN .BAHUT
    KHOOB.

    उत्तर देंहटाएं
  4. सच्चाई है इन में अच्छी लगी आज के संदर्भ में आपकी यह रचनाये मोहिंदर जी

    उत्तर देंहटाएं
  5. ek naye hi aandaj ki kavita bahut khoob
    saader
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत अच्‍छी रचनाएं हैं ... बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  7. नेताओं की पोल खोलने में आपकी रचना सक्षम है...
    लेकिन आपके अलख जगाने से कोई खास फर्क नहीं पड़ने वाला क्योंकि जैसे भैंस का दिमाग मोटा होता है ...वैसे ही ही जनता भी मोटे दिमाग की है जो हर बार इन नेताओं के झूठे वायदों और जात-पात के चक्कर में फंस कर बरगला दी जाती है।
    इनके आगे बीन बजाने से कुछ नहीं होने वाला लेकिन ये भी सच है कि...
    उम्मीद पे दुनिया कायम है...
    इसलिए लगे रहिए...जमे रहिए...टिके रहिए

    उत्तर देंहटाएं
  8. Bahut bahut sahi kaha aapne... samsamyik yatharth ko chitrit karti sundar rachna..

    उत्तर देंहटाएं
  9. मोहिंदर जी की छोटी -छोटी रचनाएँ बड़ी गहरी बात कह गई हैं.हाँ, जनता को समझाने के लिए बार -बार सच्च सामने लाना पड़ेगा.शायद तभी कुछ असर हो.सही समय पर आप की रचनाएँ आईं हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  10. जनता में बडी शक्ति है
    सरकार पलट जायेगी
    अभी यह पार्टी निचोड रही थी
    अब दूसरी पार्टी खायेगी

    बड़ी हीं सटीक बात लिखी है आपने। जनता कितनी भी शक्तिशाली क्यों न हो, जब तक हमारे पास विकल्प न हो, हालत तो जस की तस हीं रह जाएगी।
    इसी को ध्यान में रखकर मैने कभी लिखा था:
    अबकी जो मात होगी, कुछ अलहदा होगा,
    प्यादे तो होंगे वो हीं, राजा नया होगा।

    परियोजना के विभिन्न चरणों का पर्दाफाश करने के लिए बधाई स्वीकारें।

    -विश्व दीपक

    उत्तर देंहटाएं
  11. सटक टिप्पणी है आज के सन्दर्भ में..........

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत अच्छी रचना...
    बहुत सही समय पर....

    मोहिन्दर जी
    बधाई।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget