रचनाकार परिचय:-


पेशे से चार्टड एकाउन्टेन्ट समीर लाल, जबलपुर (म.प्र.) के मूल निवासी हैं। वर्तमान में आप कनाडा में रह रहे हैं और वहीं के एक बैंक में तकनीकी सलाहकार के तौर पर कार्यरत हैं।

आप उड़न तश्तरी के नाम से चिट्ठे पर लिखते हैं जो कि २००७ में "तरकश स्वर्णकलम" विजेता एवं इंडी ब्लॉगिज द्वारा विश्व का सर्वाधिक लोकप्रिय चिट्ठा है।

इसी माह आपका नया काव्य संग्रह ’बिखरे मोती’ भी प्रकाशित हुआ है।

माँ!!
तेरा
सब कुछ तो दे दिया था तुझे
विदा करते वक्त
तेरा
शादी का जोड़ा
तेरे सब जेवर
कुंकुम,मेंहदी,सिन्दूर
ओढ़नी
नई
दुल्हन की तरह
साजो
सामान के साथ
बिदा
किया था...
और हाँ
तेरी छड़ी
तेरी एनक,
तेरे नकली दांत
पिता
जी ने
सब कुछ ही तो
रख दिये थे
अपने हाथों...
तेरी
चिता में|

लेकिन
फिर भी
जब से लौटा हूँ घर
बिठा कर तुझे
अग्नि रथ पर
तेरी छाप क्यों नजर आती है?

वह धागा
जिसे तूने मंत्र फूंक
कर दिया था जादुई
और बांध दिया था
घर
मोहल्ला,
बस्ती
सभी को एक सूत्र में
आज
अचानक लगने लगा है
जैसे टूट गया वह धागा
सब कुछ
वही तो है
घर
मोहल्ला
बस्ती
और वही लोग
पर घर की छत
मोहल्ले का जुड़ाव
और
बस्ती का सम्बन्ध
कुछ ही तो नहीं
सब कुछ लुट गया है न!!
हाँ माँ!
सब कुछ
और ये सब कुछ
तू ही तो ले गई है लूट कर
मुझे पता है
जानता हूं न बचपन से
तेरा लुटेरा पन|

तू ही तो लूटा करती थी
मेरी पीड़ा
मेरे दुख
मेरे सर की धूप
और छोड़ जाती थी
अपनी लूट की निशानी
एक मुस्कान
एक रस भीगा स्पर्श
और स्नेह की फुहार
अब सब कुछ लुट गया है!!

स्तम्भित हैं
पिताजी तो
यह भी नहीं बताते
आखिर
कहां लिखवाऊँ
रपट अपने लुटने की
घर के लुटने की
बस्ती और मोहल्ले के लुटने की
और सबसे अधिक
अपने समय के लुट जाने की....

34 comments:

  1. बहुत खूब समीर भाई। कहे हैं कि-

    माँ फितरत की मौसमें माँ कुदरत के राज।
    माँ हर्फों की शायरी माँ साँसों का साज।।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    मुश्किलों से भागने की अपनी फितरत है नहीं।
    कोशिशें गर दिल से हो तो जल उठेगी खुद शमां।।
    www.manoramsuman.blogspot.com
    shyamalsuman@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. स्तम्भित हैं
    पिताजी तो
    यह भी नहीं बताते
    आखिर
    कहां लिखवाऊँ
    रपट अपने लुटने की
    घर के लुटने की
    बस्ती और मोहल्ले के लुटने की
    और सबसे अधिक
    अपने समय के लुट जाने की....

    अत्यंत भावपूर्ण कविता है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. तू ही तो लूटा करती थी
    मेरी पीड़ा
    मेरे दुख
    मेरे सर की धूप
    और छोड़ जाती थी
    अपनी लूट की निशानी
    एक मुस्कान
    एक रस भीगा स्पर्श
    और स्नेह की फुहार
    अब सब कुछ लुट गया है!!
    कविता के शीर्षक से मैं अधिक सहमत नहीं समीर जी यदि बदलने पर विचार करें तो अच्छा। कविता बहुत भावभरी है और द्रवित करती है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी यह कविता भावुक करती है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. रचने वाली माँ पर भाव-प्रवण रचना...!

    उत्तर देंहटाएं
  6. @नंदन जी, यदि शीर्षक सामान्य सा होता तो फिर लोग माता जी की इतनी कद्र तो अब करते नहीं हैं घर में पुराने फ़र्नीचर की तरह के कोने मे जगह घेरे पड़ी रहती हैं,अब चूंकि समीरलाल जी जैसे अत्यंत संवेदनशील रचनाकार की रचना है तो शीर्षक तो चित्ताकर्षक होना ही चाहिए सो है....। अब आप आगे आगे देखिये कि इस प्रेरणास्पद शीर्षक से प्रेरित होकर चिरकुट किस्म के लोग कैसे कैसे शीर्षक लिखने वाले हैं जैसे माताजी चोर हैं, माताजी हत्यारिन हैं,माताजी बलात्कारिन हैं,माताजी आतंकवादिन हैं आदि आदि इत्यादि। आप इतनी गहन संवेदनशीलता नहीं उपजा सकते।

    उत्तर देंहटाएं
  7. समीर जी रचना को दुबारा पढ़वाने के लिए आभार।बहुत भाव पूर्ण रचना है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. मां और भगवान एक ही रूप हैं.
    भावुक कर दिया आपने मां पर इतनी भावभीनि कविता पढवा कर.. आभार

    उत्तर देंहटाएं
  9. एसी सुन्दर कविता को पढवाये जाने के लिये विषय यह रखा गया होगा मैं नहीं मानती। कवि अपनी बात को बहुत खूबसूरती से कह रहा है और पढने वालों के दिलों पर खूबसूरती से पैठ भी बना पा रहा है। समीर जी का इस कविता को पढवाने के लिये धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत आच्छा भाव लिखा है मां का जब तकमां है सब कुछ है मां नही तो सारा जहां ही लुटा सा लगता है
    पढकर आंसू आ गये दिल को झिंझोङ दिया

    उत्तर देंहटाएं
  11. आदरणीय समीर लाल जी की यह कविता संवेदनाओं की गंगा सी है और एक कवि के रूप में वे भागीरथ की तरह सफल हुए हैं। कविता माँ की रिक्ति को एक दृश्य बना देती है और पाठक स्वत: भावुक हो उठता है। कविता की अंतिम पंक्तिया प्राण हैं:-
    स्तम्भित हैं
    पिताजी तो
    यह भी नहीं बताते
    आखिर
    कहां लिखवाऊँ
    रपट अपने लुटने की
    घर के लुटने की
    बस्ती और मोहल्ले के लुटने की
    और सबसे अधिक
    अपने समय के लुट जाने की....

    उत्तर देंहटाएं
  12. समीर जी को प्रभावी कविता पढवाने के लिये धन्यवाद। उडनतश्तरी का साहित्य शिल्पी के आकाश में हृदय से स्वागत।

    उत्तर देंहटाएं
  13. संवेदना उकेरती हुई कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  14. माँ विषय ही एसा है कि उस पर लिखी कोई भी कविता केवल महसूस की जा सकती है, रचना की कोई समीक्षा नहीं हो सकती। समीर लाल जी प्रभावी लिखते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  15. समीर भाई की इतनी मार्मिक, भाव पूर्ण कविता, दिल को छूते हुवे...............इतनी गहरी कविता की बरबस दिल भर आता है ..........जितनी भी बार पढो मन में गहरी वेदना भर जाती है ...................नतमस्तक हूँ इतनी भावोक रचना के लिए

    उत्तर देंहटाएं
  16. वह धागा
    जिसे तूने मंत्र फूंक
    कर दिया था जादुई
    और बांध दिया था
    घर
    मोहल्ला,
    बस्ती
    सभी को एक सूत्र में
    ..........
    वही लोग
    पर घर की छत
    मोहल्ले का जुड़ाव
    और
    बस्ती का सम्बन्ध
    कुछ ही तो नहीं
    सब कुछ लुट गया है न!!
    ........
    मुझे पता है
    ........

    तू ही तो लूटा करती थी
    मेरी पीड़ा
    मेरे दुख
    मेरे सर की धूप
    और छोड़ जाती थी
    अपनी लूट की निशानी
    एक मुस्कान
    एक रस भीगा स्पर्श
    और स्नेह की फुहार
    अब सब कुछ लुट गया है!

    समी्र लाल जी !

    टि्प्पणियां तो बहुत पढ़ीं आपकी लगभग हर ब्लाग पर ... किन्तु सच यह है कि आज आपने मर्म भेद डाला ... आखॆं स्वयमेव ही नम हो गयीं सबके मन की बात आज मां के इस बेटे ने कह डाली - नमन मां की स्मृतियों को - आभार आपका

    उत्तर देंहटाएं
  17. श्री समीर भाई जी की सशक्त अभिव्यक्ति पढकर यही कहती हूँ ...
    " माँ "ये एक शब्द "ॐ " की तरह पूर्ण है !

    स्नेह,
    - लावण्या

    उत्तर देंहटाएं
  18. हर दृष्टि से परिपुर्ण और सम्पुर्णता को प्राप्त रचना. सशक्त रचना. मां शब्द की महानता के नजदीक.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  19. आपकी कविता पढ़ते-पढ़ते आंखें नम हो गईं।

    उत्तर देंहटाएं
  20. समीर जी मैंने पहली बार अद्युतीय कविता पढ़ी है... सच में, मां लुटेरी ही होती है...

    तू ही तो लूटा करती थी
    मेरी पीड़ा
    मेरे दुख
    मेरे सर की धूप
    और छोड़ जाती थी
    अपनी लूट की निशानी
    एक मुस्कान
    एक रस भीगा स्पर्श
    और स्नेह की फुहार
    अब सब कुछ लुट गया है!

    आह! ये लुटेरन चली क्यों जाती है...

    उत्तर देंहटाएं
  21. स्तम्भित हैं
    पिताजी तो
    यह भी नहीं बताते
    आखिर
    कहां लिखवाऊँ
    रपट अपने लुटने की
    घर के लुटने की
    बस्ती और मोहल्ले के लुटने की
    और सबसे अधिक
    अपने समय के लुट जाने की....

    aise jajbaat ko lafz diye jaha sare lafz ek saath simat ker baith jate hai......
    maun ko swer dena aasan nahi hota

    aapki rachna ko pranam hai mera

    उत्तर देंहटाएं
  22. वाह समीर जी मार्मिक हृदय स्पर्शी रचना के लिए
    अंतर्मन की गहराईओं से अभिनन्दन --
    रुला दिया इस रचना ने --
    तू ही तो लूटा करती थी
    मेरी पीड़ा
    मेरे दुख
    मेरे सर की धूप
    और छोड़ जाती थी
    अपनी लूट की निशानी
    एक मुस्कान
    एक रस भीगा स्पर्श
    और स्नेह की फुहार
    अब सब कुछ लुट गया है!!
    बहुत -बहुत बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  23. संवेदनाओं से परिपूर्ण रचना के लिए समीर लाल जी को बहुत-बहुत बधाई...


    साहित्य शिल्पी पर आपका स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
  24. लेकिन
    फिर भी
    जब से लौटा हूँ घर
    बिठा कर तुझे
    अग्नि रथ पर
    तेरी छाप क्यों नजर आती है?
    समीर जी की सुंदर रचना पढ़वाने के लिए आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  25. sahitya ke prati aapke lagav aur reach out karne kee aapki spirit se main prabhavit hoon aur harshpoorvak vismit bhi. Keep up this spirit!

    उत्तर देंहटाएं
  26. bas itna hi kahungi pad kar aasu aaye aur aakhon me sookh gaye...


    Anupama

    उत्तर देंहटाएं
  27. समीर जी !

    सुन्दर, भाव पूर्ण रचना के लिए

    आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  28. सभी के स्नेह का बहुत बहुत आभार!!

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget