सपनों का अहसास, जरूरी आंखों में.
लम्हा-लम्हा प्यास, जरूरी आंखों में.

रचनाकार परिचय:-


योगेन्द्र मौदगिलहास्य-व्यंग्य के कवि एवं गज़लकार हैं। आपकी कविताओं की ६ मौलिक एवं १० संपादित पुस्तकें प्रकाशित हैं। आपको अनेकों सम्मान प्राप्त हुए हैं जिनमें २००१ में गढ़गंगा शिखर सम्मान, २००२ में कलमवीर सम्मान, २००४ में करील सम्मान, २००६ में युगीन सम्मान, २००७ में उदयभानु हंस कविता सम्मान व २००७ में ही पानीपत रत्न प्रमुख हैं। आप हरियाणा की एकमात्र काव्यपत्रिका कलमदंश का ६ वर्षों से निरन्तर प्रकाशन व संपादन कर रहे हैं।

कस्में-वादे, हया-वफ़ा, रिश्ते-नाते,
कदम-कदम विश्वास, जरूरी आंखों में.

आएगा, लौटेगा, इक दिन परदेसी,
टिकी रहे ये आस, जरूरी आंखों में.

निंदक में, आलोचक में है फर्क बड़ा,
हरपल ये आभास, जरूरी आंखों में.

आंख खोल कर भी जो देख नहीं पाते,
उनके लिये उजास, जरूरी आंखों में.

मिशन हो के एंबीशन, लाइफ में बंधु,
सपने भी हों खास, जरूरी आंखों में.

पहली नज़र में पेंच अगर लड़ ही जाएं,
फिर तो बाईपास जरूरी आंखों में.

एक नज़्र का खेल 'मौदगिल' खेलो तो,
दृष्टिभेद विन्यास ,जरूरी आंखों में.

13 comments:

  1. एक नज़्र का खेल 'मौदगिल' खेलो तो,
    दृष्टिभेद विन्यास ,जरूरी आंखों में.

    सुंदर ... - बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. मोदगिल साहब की खूबसूरत रचना...........बेहतरीन ग़ज़ल.......

    कस्में-वादे, हया-वफ़ा, रिश्ते-नाते,
    कदम-कदम विश्वास, जरूरी आंखों में.

    जीवन का दर्शन है इस शेर में......लाजवाब

    आएगा, लौटेगा, इक दिन परदेसी,
    टिकी रहे ये आस, जरूरी आंखों में.

    भविष्य की आशा........मिलन की प्यास है इस शेर में

    उत्तर देंहटाएं
  3. सपनों का अहसास, जरूरी आंखों में.
    लम्हा-लम्हा प्यास, जरूरी आंखों में.
    - छेकानुप्रास, अन्त्यानुप्रास

    कस्में-वादे, हया-वफ़ा, रिश्ते-नाते,
    - छेकानुप्रास, श्रुत्यानुप्रास
    कदम-कदम विश्वास, जरूरी आंखों में.
    -- छेकानुप्रास

    आएगा, लौटेगा, इक दिन परदेसी,
    टिकी रहे ये आस, जरूरी आंखों में.
    -श्रुत्यानुप्रास

    निंदक में, आलोचक में है फर्क बड़ा,
    -छेकानुप्रास, श्रुत्यानुप्रास
    हरपल ये आभास, जरूरी आंखों में.

    आंख खोल कर भी जो देख नहीं पाते,
    - श्रुत्यानुप्रास
    उनके लिये उजास, जरूरी आंखों में.
    -छेकानुप्रास

    मिशन हो के एंबीशन, लाइफ में बंधु,
    सपने भी हों खास, जरूरी आंखों में.

    पहली नज़र में पेंच अगर लड़ ही जाएं,
    -छेकानुप्रास
    फिर तो बाईपास जरूरी आंखों में.
    -श्रुत्यानुप्रास

    एक नज़्र का खेल 'मौदगिल' खेलो तो,
    -छेकानुप्रास
    दृष्टिभेद विन्यास ,जरूरी आंखों में.

    उत्तर देंहटाएं
  4. sari gazal hi bahut lajvab hai magar is sha er se hothhon par muskan aa gaye--
    pehali nazar me pech-----

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेहतरीन ग़ज़ल मौदगिल साहब..
    निंदक में, आलोचक में है फर्क बड़ा,
    हरपल ये आभास, जरूरी आंखों में.

    उत्तर देंहटाएं
  6. पहली नज़र में पेंच अगर लड़ ही जाएं,
    फिर तो बाईपास जरूरी आंखों में.
    यह भी खूब रही।

    उत्तर देंहटाएं
  7. सहज सहल शब्दों की एक सशक्त रचना

    आएगा, लौटेगा, इक दिन परदेसी,
    टिकी रहे ये आस, जरूरी आंखों में.
    मिशन हो के एंबीशन, लाइफ में बंधु,
    सपने भी हों खास, जरूरी आंखों में.

    जीवन और सफ़लता का निचोड है इन पंक्तियों में

    उत्तर देंहटाएं
  8. सपनों का अहसास, जरूरी आंखों में.
    लम्हा-लम्हा प्यास, जरूरी आंखों में.
    bah wa !

    उत्तर देंहटाएं
  9. योगेन्द्र जी अपना खास अंदाज है ये
    "निंदक में, आलोचक में है फर्क बड़ा/हरपल ये आभास, जरूरी आंखों में"
    वह-वाह मौद्‍गिल साब

    उत्तर देंहटाएं
  10. आएगा, लौटेगा, इक दिन परदेसी,
    टिकी रहे ये आस, जरूरी आंखों में.


    wah....

    sundar gazal...

    abhar

    उत्तर देंहटाएं
  11. bhai yogendra ji ki baat hi kya kahne ... waah kya gazal likhi hai saheb ..

    आएगा, लौटेगा, इक दिन परदेसी,
    टिकी रहे ये आस, जरूरी आंखों में.

    dil se badhai sweekar karen ..

    vijay
    http://poemsofvijay.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget