Photobucket


रचनाकार परिचय:-


10 जनवरी 1960 को चैनपुर (जिला सहरसा, बिहार) में जन्मे श्यामल सुमन में लिखने की ललक छात्र जीवन से ही रही है। स्थानीय समाचार पत्रों सहित देश की कई पत्रिकाओं में इनकी अनेक रचनायें प्रकाशित हुई हैं। स्थानीय टी.वी. चैनल एवं रेडियो स्टेशन में भी इनके गीत, ग़ज़ल का प्रसारण हुआ है।
अंतरजाल पत्रिका साहित्य कुंज, अनुभूति, हिन्दी नेस्ट, कृत्या आदि में भी इनकी अनेक रचनाएँ प्रकाशित हैं।
इनका एक गीत ग़ज़ल संकलन शीघ्र प्रकाश्य है।

मुस्कुरा के हाल कहता पर कहानी और है।
जिन्दगी के फलसफे की तर्जुमानी और है।।

जिन्दगी कहते हैं बचपन से बुढ़ापे का सफर।
लुत्फ तो हर दौर का है पर जवानी और है।।

हौंसला टूटे कभी न स्वप्न भी देखो नया।
जिन्दगी है इक हकीकत जिन्दगानी और है।।

ख्वाब से हँटकर हकीकत की जमीं पर आओ भी।
दर्द से जज्बात बनते फिर रवानी और है।।

जब सुमन को है जरूरत बागबां के प्यार की।
मिल गया तो सच में उसकी मेहरबानी और है।।

15 comments:

  1. मुस्कुरा के हाल कहता पर कहानी और है।
    जिन्दगी के फलसफे की तर्जुमानी और है।।

    ख्वाब से हँटकर हकीकत की जमीं पर आओ भी।
    दर्द से जज्बात बनते फिर रवानी और है।।

    बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  2. ख्वाब से हँटकर हकीकत की जमीं पर आओ भी।
    दर्द से जज्बात बनते फिर रवानी और है।।
    बहुत अच्छी ग़ज़ल के लिये बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  3. जिन्दगी कहते हैं बचपन से बुढ़ापे का सफर।
    लुत्फ तो हर दौर का है पर जवानी और है।।

    वाह सुमन जी बहुत सुंदर रचना ... मर्म कॊ छू गयी

    उत्तर देंहटाएं
  4. ख्वाब से हँटकर हकीकत की जमीं पर आओ भी।
    दर्द से जज्बात बनते फिर रवानी और है।।
    बहुत ख़ूब अच्छी लगी आपकी रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  5. श्यामल जी,

    बहुत खूब भाव हैं. निम्न पंक्तियाँ अपना असर छोड़ती हैं :-

    हौंसला टूटे कभी न स्वप्न भी देखो नया।
    जिन्दगी है इक हकीकत जिन्दगानी और है।।


    मुकेश कुमार तिवारी

    उत्तर देंहटाएं
  6. मुस्कुरा के हाल कहता पर कहानी और है।
    जिन्दगी के फलसफे की तर्जुमानी और है।।


    मैंने कभी लिखा था-
    ऐ बादल मत बरस अभी तू मेरे आंगन मैं...
    कुछ नाज़ुक लम्हे बंजर हैं अब तक सावन में...
    -------------------------------
    जिन्दगी कहते हैं बचपन से बुढ़ापे का सफर।
    लुत्फ तो हर दौर का है पर जवानी और है।।

    कभी ऐसा ही कुछ लिखा था-
    आज नहा लो कल न भरोसा,
    ये सरिता भी हो ना हो...
    सबको करने पावन बहता
    मेरी आंखों का पानी...
    ----------------------------------

    हौंसला टूटे कभी न स्वप्न भी देखो नया।
    जिन्दगी है इक हकीकत जिन्दगानी और है।।

    मेरी बोली में इसका भावसाम्य शायद ये हो-
    आँखों भरे नीर के तट पर
    जो दिखता है, सत्य नहीं है।
    एक तथ्य का कथ्य कहीं है,
    और दिखा प्रतिबिम्ब कहीं है।।
    -----------------------------------

    ख्वाब से हँटकर हकीकत की जमीं पर आओ भी।
    दर्द से जज्बात बनते फिर रवानी और है।।

    ये दर्द कुछ यूं लिखा था-
    इसमें-मुझमें अंतर कितना
    इसका व्याकुल केवल तन है,
    लेकिन देखो मेरा व्याकुल
    तन है, मन है,जीवन है।
    -----------------------------------

    जब सुमन को है जरूरत बागबां के प्यार की।
    मिल गया तो सच में उसकी मेहरबानी और है।।

    जिन्दगी की सारी राह मोड दीं थी जिस तरफ,
    हमने देख उनके कदम डिगने लगे।
    अब क्या बतायें हमको क्या क्या वफा मिली,
    कुछ सौदाइयों में हम बिकने लगे।

    लगा जैसे कुछ मेरा ही है- छितरा छिटका-
    बहुत दिनों बाद कोई रचना सरसरी नहीं पढ़ी---
    अंदर तक उतरती रचना...
    देवेश वशिष्ठ खबरी
    9953717705

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत अच्छी रचना है, देवेश जी से भी सहमत।

    उत्तर देंहटाएं
  8. श्यामल सुमन जी
    बहुत ही सुन्दर ख्यालात का मुजाहरा किया है आपने इस गजल की मार्फ़त.

    जिन्दगी कहते हैं बचपन से बुढ़ापे का सफर।
    लुत्फ तो हर दौर का है पर जवानी और है।।

    ख्वाब से हँटकर हकीकत की जमीं पर आओ भी।
    दर्द से जज्बात बनते फिर रवानी और है।।

    उत्तर देंहटाएं
  9. श्यामल जी...........बहुत ही खूबसूरत ग़ज़ल है.
    यथार्थ बोलता है

    उत्तर देंहटाएं
  10. ख्वाब से हँटकर हकीकत की जमीं पर आओ भी।
    दर्द से जज्बात बनते फिर रवानी और है।।

    shyamal ji....
    bahut sunder.....tajurbe ki baat kahi hai

    उत्तर देंहटाएं
  11. मुस्कुरा के हाल कहता पर कहानी और है।
    जिन्दगी के फलसफे की तर्जुमानी और है

    बढिया रचना

    उत्तर देंहटाएं
  12. दिया समर्थन आपने हृदय से है आभार।
    इसी तरह देते रहें मुझको अपना प्यार।।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    मुश्किलों से भागने की अपनी फितरत है नहीं।
    कोशिशें गर दिल से हो तो जल उठेगी खुद शमां।।
    www.manoramsuman.blogspot.com
    shyamalsuman@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget