Photobucket

विक्षुब्ध तरँग दीप,
मँद मँद सा प्रदीप्त,
मौन गगन दीप!

रचनाकार परिचय:-


लावण्या शाह सुप्रसिद्ध कवि स्व० श्री नरेन्द्र शर्मा जी की सुपुत्री हैं और वर्तमान में अमेरिका में रह कर अपने पिता से प्राप्त काव्य-परंपरा को आगे बढ़ा रही हैं।

समाजशा्स्त्र और मनोविज्ञान में बी.ए.(आनर्स) की उपाधि प्राप्त लावण्या जी प्रसिद्ध पौराणिक धारावाहिक "महाभारत" के लिये कुछ दोहे भी लिख चुकी हैं। इनकी कुछ रचनायें और स्व० नरेन्द्र शर्मा और स्वर-साम्राज्ञी लता मंगेसकर से जुड़े संस्मरण रेडियो से भी प्रसारित हो चुके हैं।

इनकी एक पुस्तक "फिर गा उठा प्रवासी" प्रकाशित हो चुकी है जो इन्होंने अपने पिता जी की प्रसिद्ध कृति "प्रवासी के गीत" को श्रद्धांजलि देते हुये लिखी है।

मौन गगन, मौन घटा,
नव चेतन, अल्हडता
सुख सुरभि, लवलीन!
झाँझर झँकार ध्वनि,
मुख पे मल्हार
कामना असीम,
रे,कामना असीम!
मौन गगन दीप!

चारु चरण, चपल वरण,
घायल मन बीन!
रे, कामना असीम !
मौन गगन दीप!

वेणु ले, वाणी ले,
सुरभि ले, कँकण ले,
नाच रही मीन!
जल न मिला, मन न मिला,
स्वर सारे लीन!
नाच रही मीन!
मौन गगन दीप!

सँध्या के तारक से,
मावस के पावस से,
कौन कहे रीत?
प्रीत करे, जीत,
ओ मेरे, सँध्या के मीत!
मेरे गीत हैँ अतीत!
बीत गई प्रीत!
मेरे सँध्या के मीत
-कामना अतीत
रे, कामना अतीत!
मौन रुदन बीन,
रे,कामना असीम!
मौन गगन दीप!

17 comments:

  1. लावण्या जी कविता की एसी भाषा अब विलुप्त हो गयी है। पढ कर मन हरा-भरा हो गया।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सँध्या के तारक से,
    मावस के पावस से,
    कौन कहे रीत?
    प्रीत करे, जीत,
    ओ मेरे, सँध्या के मीत!
    मेरे गीत हैँ अतीत!
    बीत गई प्रीत!

    गीत की प्रस्तुति का आभार। मेरे पास प्रसंशा के शब्द नहीं हैं। एसी कविताओं का पुनरावतरण होना चाहिये।

    उत्तर देंहटाएं
  3. चिर पुरातन चिर नवीन -शाश्वत अनुभूति के शब्द !

    उत्तर देंहटाएं
  4. O MERE SANDHYA KE MEET
    MERE GEET HAIN ATEET
    BEET GAEE PREET
    LAVANYA JEE KE IS GEET MEIN
    VEENA KEE MADHUR JHANKAAR HAI,
    PARBATON MEIN BAHTEE HUEE BAYAAR
    HAI,BOLON MEIN ITNAA NIKHAAR HAI
    KI MUN BARBAS HEE MANTRAMUGDH HO
    GAYAA HAI.

    उत्तर देंहटाएं
  5. कविता मे प्रक्र्ति का मानवीकरण ने छायावाद की याद दिला दी । बहुत उम्दा शब्द- संयोजन

    उत्तर देंहटाएं
  6. कविता वही जिसे पढने का मन करे गुननुना उठने को जी करे। कावण्या जी बहुत बहुत धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  7. शब्द शक्ति की जय-जयकार करती इस भावप्रवण रचना में लालित्य, माधुर्य तथा शौष्ठव की त्रिवेणी प्रवाहित हो रही है. साधुवाद...

    उत्तर देंहटाएं
  8. सँध्या के तारक से,
    मावस के पावस से,
    कौन कहे रीत?
    प्रीत करे, जीत,
    ओ मेरे, सँध्या के मीत!
    मेरे गीत हैँ अतीत!

    behad khubsurat kavita..

    shbd chayan behad akarshak aur bhaav abhivyakti safal bhi hain.

    Lavnya ji badhaaayee.

    उत्तर देंहटाएं
  9. बेहद खूबसूरत -बहुत -बहुत बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  10. आदरणीया लावण्या शाह जी की कविताओं में एक तरह की खुशबू है। आपकी हर कविता अपने लय में वेग में और शब्द चयन में उदाहरण है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. लावाण्या दी को पढ़ना हमेशा ही सुखद होता है. बहुत अच्छा लगा.

    उत्तर देंहटाएं
  12. भाव साम्य---

    एक कविता लिखी थी, लावण्या जी की तरह अच्छी तो नहीं... पर जिक्र कर रहा हूं...

    मैं रोता हूं, पर ये आंसू ना आते आंखों के बाहर
    परिधी से ले लेकर टक्कर गिर जाते हैं गश खाकर.

    जैसे में लड़ता हूं वैसे मेरे आंसू लड़ते हैं...
    मेरा मन हर छन मरता है...
    आंसू हर पल झरते हैं...

    आपकी लेखनी में जयशंकर जी जीवित हैं...
    खबरी

    उत्तर देंहटाएं
  13. आप सभी के स्नेह तथा उदारमन से की गयी टीप्पणियोँ का बहुत बहुत आभार मानती हूँ ..

    भाई देवेश जी की पँक्तियाँ भी
    भावपूर्ण हैँ ..

    इस कविता की तरह
    कुछ दूसरी भी
    अनायास लिखी गयीँ हैँ -
    जो ,
    मेरी द्रढ आस्था है कि,
    वे अज्ञात की प्रेरणा का
    प्रसाद है -
    हम बस, माध्यम बनते हैँ ..
    अस्तु,
    पुन: आभार
    साहित्य - शिल्पी मँच का भी,
    स स्नेह,
    - लावण्या

    उत्तर देंहटाएं
  14. विभिन्न भाव व रंगों से सुसज्जित रचना जिसको पढना एक सुखद एहसास है.

    उत्तर देंहटाएं
  15. लावण्या जी,

    सुन्दर भाषा,
    सुन्दर रचना

    आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  16. laavnaya ji ;

    kavita padhkar man prasann ho gaya didi ... waah ,kitni sundar man ko harne waali bhasa hai .. waah

    सँध्या के तारक से,
    मावस के पावस से,
    कौन कहे रीत?
    प्रीत करे, जीत,
    ओ मेरे, सँध्या के मीत!
    मेरे गीत हैँ अतीत!
    बीत गई प्रीत!


    kya khoob kaha hai aapne ..

    dil se badhai sweekar karen ..

    vijay
    http://poemsofvijay.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget