Photobucket

तुम प्रेम हो
या बस उसका भ्रम
नहीं जानती
पर जीवन बेल
तुमसे रस पाकर
फूलती फलती जा रही है

रचनाकार परिचय:-


शोभा महेन्द्रू का जन्म देहरादून में १४ मार्च सन् १९५८ में हुआ। लेखन में आपकी रुचि प्रारम्भ से ही रही है। कभी आक्रोश, कभी आह्लाद, कभी निराशा लेखन में अभिव्यक्त होती रही किन्तु जो भी लिखा स्वान्तः सुखाय ही लिखा। लेखन के अतिरिक्त भाषण, नाटक और संगीत में आपकी विशेष रुचि है। 

आपने गढ़वाल विश्व विद्यालय से हिन्दी विषय में स्नातकोत्तर परीक्षा पास की है। वर्तमान में फरीदाबाद शहर के 'मार्डन स्कूल' में हिन्दी की विभागाध्यक्ष हैं।

अंतर्जाल पर भी आप सक्रिय हैं।

इस पर आस के
कितने ही सुन्दर फूल
खिल आए हैं
मन का सरोवर
मीठे जल से लबालब है

पता नहीं मौसम बदला है
या मन…
पर मेरी बगिया
महक उठी है
कानों में हर पल
एक मीठी सी धुन
गूँजती रहती है
पीहू-पीहू--

झंकृत है तन
आह्लादित है मन
छलकता है हृदय
मीठे पानी का
यह अजस्र स्रोत
कहाँ से फूट रहा है
प्रेम की अतिशयता
चंचलता जगा रही है

मन करता है
अपनी इस खुशी को
अंबर में लिख आऊँ
हवाओं के हवाले कर दूँ
अथवा गीत बनकर
कोकिल कंठ में समाऊँ
सबको सुनाऊँ

इसकी सुगन्ध पहुँचाऊँ
हर दिल को महकाऊँ

10 comments:

  1. Shoba ji ,

    bahut sundar kavita .. man ko choo gayi, prem ras se bharpoor .. jeevan me aanand ko khilati hui ..

    bahut hi accha laga padhkar .. man ko pankh lag gaye is kavita ke kaaran .

    aapko dil se badhai ..

    regards
    vijay
    www.poemsofvijay.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. मन करता है
    अपनी इस खुशी को
    अंबर में लिख आऊँ
    हवाओं के हवाले कर दूँ
    अथवा गीत बनकर
    कोकिल कंठ में समाऊँ
    सबको सुनाऊँ

    इसकी सुगन्ध पहुँचाऊँ
    हर दिल को महकाऊँ

    मनोरम अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर रचना के लिए बधाई
    व आभार

    द्विजेन्द्र द्विज

    www.dwijendradwij.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  4. मन करता है
    अपनी इस खुशी को
    अंबर में लिख आऊँ
    हवाओं के हवाले कर दूँ
    अथवा गीत बनकर
    कोकिल कंठ में समाऊँ
    सबको सुनाऊँ

    ........
    संयोग एवं अनुराग की एक उत्तम रचना - बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  5. प्रेम रस से परिपूर्ण एक बहुत ही प्यारी कविता....


    बधाई स्वीकार करें

    उत्तर देंहटाएं
  6. एक आशावान उमंग भरे दिल की भावनाओं को बहुत सुन्दर ढंग से अपनी रचना में ढाला है आपने.. बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  7. manuhaari behad khubsurat andaz e bayan,waah dil mehek utha.

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुंदर प्रेम की सुंदर अभिव्यक्ति शोभा जी

    बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  9. पता नहीं मौसम बदला है
    या मन…
    पर मेरी बगिया
    महक उठी है
    कानों में हर पल
    एक मीठी सी धुन
    गूँजती रहती है
    पीहू-पीहू....

    बहुत सुंदर अभिव्यक्ति! बधाई शोभा जी!

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget