देवदत्त जी का अहमदाबाद तबादला हो गया है। बहुत परेशान हैं बेचारे। कभी अकेले रहे ही नहीं हैं। रहने खाने की तकलीफें हैं सो तो हैं ही, उनका पूरा जीवन अस्तव्यस्त हो गया है। अब हर शनिवार की रात चलकर रविवार सवेरे पहुंचते हैं और उसी रात गाड़ी से लौट जाते हैं। नयी तैनाती का मामला है इसलिये छुट्टी भी नहीं ले सकते। पिछले पांच हफ्ते से यही कर रहे हैं।

रचनाकार परिचय:-


सूरज प्रकाश का जन्म १४ मार्च १९५२ को देहरादून में हुआ। आपने विधिवत लेखन १९८७ से आरंभ किया। आपकी प्रमुख प्रकाशित पुस्तकें हैं: - अधूरी तस्वीर (कहानी संग्रह) 1992, हादसों के बीच - उपन्यास 1998, देस बिराना - उपन्यास 2002, छूटे हुए घर - कहानी संग्रह 2002, ज़रा संभल के चलो -व्यंग्य संग्रह – 2002। इसके अलावा आपने अंग्रेजी से कई पुस्तकों के अनुवाद भी किये हैं जिनमें ऐन फैंक की डायरी का अनुवाद, चार्ली चैप्लिन की आत्म कथा का अनुवाद, चार्ल्स डार्विन की आत्म कथा का अनुवाद आदि प्रमुख हैं। आपने अनेकों कहानी संग्रहों का संपादन भी किया है। आपको प्राप्त सम्मानों में गुजरात साहित्य अकादमी का सम्मान, महाराष्ट्र अकादमी का सम्मान प्रमुख हैं। आप अंतर्जाल को भी अपनी रचनात्मकता से समृद्ध कर रहे हैं।

देवदत्त जी की एक और समस्या है जो उन्हें लगातार पागल बनाये हुए है। वह है दैहिक सुख की। वे तड़प रहे हैं। इधर - उधर मुंह मारने की कभी आदत नहीं रही है। इधर ट्रान्सफर ने सब गड़बड़ क़र दिया है। बेशक चालीस के होने आये, सोलह सत्रह साल का लड़का भी है लेकिन शादी के इतने बरसों बाद यह पहली बार हो रहा है कि वे पूरे पांच हफ्ते से हर रविवार घर आने के बावजूद इसके लिये मौका नहीं निकाल पाये हैं।

मौका निकालें भी कैसे? जब वे रविवार के दिन घर पहुंचते हैं, मुन्नु जग चुका होता है। फिर थोड़ा वक्त मुन्नू की पढ़ाई के लिये देना होता है। अब एक ही कमरे का घर। मुन्नू को जबरदस्ती घर से ठेल भी नहीं सकते। अब मौका मिले तो कैसे मिले? उधर उनकी पत्नी की हालत भी कमोबेश वैसी है।

आखिर देवदत्त जी ने तरकीब भिड़ा ही ली है। अहमदाबाद से चलने से पहले उन्होंने फोन करके मुन्नू से कहा कि वह स्कूटर लेकर उन्हें बोरिवली स्टेशन पर लेने आ जाये और साउथ गेट की सीढियों के पास एस - 1 का डिब्बा जहां लगता है वहीं उनका इंतजार करे। कुछ सामान भी है उनके पास।

इधर बेचारा मुन्नू सवेरे - सवेरे अपनी नींद खराब करके बोरिवली स्टेशन पर खड़ा रहा। गाड़ी आई और चली भी गई लेकिन पापा एस - 1 तो क्या किसी भी डिब्बे से उतरते नजर नहीं आये। जब तक वह थक हार कर आधा घण्टे बाद घर पहुंचा तब तक देवदत्त जी एस - 10 से फटाफट उतर कर, दूसरे गेट से बाहर निकल कर, ऑटो से घर पहुंच कर किला फतह भी कर चुके थे।
*****

14 comments:

  1. व्यस्ततायें निजी जिन्दगी को समाप्त करती जा रही हैं। लघुकथा के निहितार्थ गंभीर हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सूरजजी इस कहानी पर प्रतिक्रिया देने में मुझे समय लगेगा। अभी सोच नहीं पाया कि कहानी को जैसे जज्ब करूं।

    उत्तर देंहटाएं
  3. A truth of metro's

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  4. शहरों नें आदमी को उससे ही दूर कर दिया है। उसकी निजी जिन्दगी और एसे ही "आईडियाओं" की मुहताज हो गयी है।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बडे शहरों की दास्तान है। कहानी सोचने पर भी मजबूर करती है, इसे हलके में नहीं लिया जा सकता।

    अनुज कुमार सिन्हा
    भागलपुर

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत अच्छी लघुकथा है, बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  7. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. रोटी और रोटी से जुड़ी जटिलताएँ जो कराएँ...कम है
    अच्छी कहानी

    वैसे दुविधा से बचने के लिए आपातकाल की स्तिथि में'भाजपा' का साथ छोड़ 'काँग्रेस' का समर्थन किया जा सकता है(नोट:इस पंक्ति को सिर्फ मज़ाक के तौर पर लें)

    उत्तर देंहटाएं
  9. सूरज प्रकाश जी वरिष्ठ रचनाकार है, किसी बात को कहने का उनका अपना ही निराला अंदाज है। इतनी बडी समस्ता को जिस दृष्टिकोण से उन्होने प्रस्तुत किया है - तालियाँ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. जीवन की सच्चाई को कथा के माध्यम से सूरज प्रकाश जी ने प्रस्तुत किया है। बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  11. मैं तो यह भी कहूंगा
    जीवन जीना बहुत कठिन है
    अभी से जब इतनी कठिनाई है
    तो जब मुन्‍नू की कर देंगे शादी
    तो उसका क्‍या होगा
    और अगले रविवार
    हांडी कैसे चढ़ायेंगे
    क्‍या फिर मुन्‍नू को
    एस .... किसी पर बुलायेंगे
    और खुद किसी और .... से
    सरक जायेंगे।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget