शहर में कर्फ्यू लगा था। लोग अपने-अपने घरों में दुबके बैठे थे। गलियाँ और सड़कें सुनसान पड़ी थीं। तभी, नौ-दस बरस के दो बच्चे न जाने कब अपने घरवालों से आँख बचाकर घर से बाहर निकलकर सड़क पर खेलने लगे। दूर तक खाली पड़ी सुनसान सड़क पर खेलने में उन्हें मजा आ रहा था। रिक्शा, सायकिल, स्कूटर, मोटर कार आदि का कोई भय नहीं था।

तभी, गश्त लगा रहे सिपाही ने उन्हें देखा और डांटते हुए बोला-
''ऐ बच्चो ! भागो यहाँ से... जाओ अपने घरों में...''

रचनाकार परिचय:-


सुभाष नीरव का जन्म 27–12–1953 को मुरादनगर (उत्तर प्रदेश) में हुआ। मेरठ विश्वविद्यालय से स्नातक तथा भारत सरकार के पोत परिवहन मंत्रालय में अनुभाग अधिकारी(प्रशासन) के तौर पर कार्यरत सुभाष नीरव की कई कृतियाँ यथा ‘यत्कचित’, ‘रोशनी की लकीर’ (कविता संग्रह); ‘दैत्य तथा अन्य कहानियाँ’, ‘औरत होने का गुनाह’, ‘आखिरी पड़ाव का दु:ख’(कहानी-संग्रह); ‘कथाबिंदु’(लघुकथा–संग्रह), ‘मेहनत की रोटी’(बाल कहानी-संग्रह) आदि प्रकाशित हैं। लगभग 12 पुस्तकों का पंजाबी से हिंदी में अनुवाद भी वे कर चुके हैं और अनियतकालीन पत्रिका ‘प्रयास’ और मासिक ‘मचान’ का सम्पादन भी कर रहे हैं।

हिन्दी में लघुकथा लेखन के साथ-साथ पंजाबी-हिन्दी लघुकथाओं के श्रेष्ठ अनुवाद के लिए उन्हें ‘माता शरबती देवी स्मृति पुरस्कार, 1992’ तथा "मंच पुरस्कार, 2000" से सम्मानित किया गया जा चुका है।

"साहित्य सृजन" तथा अन्य कई ब्लाग्स के माध्यम से अंतर्जाल पर भी वे सक्रिय हैं।

बच्चे अपना खेल रोक कर खड़े हो गए और सिपाही की ओर फटी आँखों से देखने लगे। हिम्मत कर उनमें से एक बच्चा बोला- ''सड़क तो खाली पड़ी है, हमें खेलने दो न, अंकल ?''

''नहीं, सड़क पर नहीं खेल सकते तुम। तुम्हें मालूम नहीं, शहर में कर्फ्यू लगा है ?''

''वो क्या होता है, अंकल ?'' कमर पर हाथ रखे सहमे-से खड़े दूसरे बच्चे ने पूछा।

''कर्फ्यू में घर से बाहर निकलने वाले को बन्दूक की गोली मार दी जाती है, समझे।''

गोली के नाम पर दोनों बच्चे सहम गए। एकाएक उनमें से एक अपने चेहरे को अपनी दोनों हथेलियों पर टिकाकर आँखों को गोल-गोल घुमाते हुए बेहद मासूमियत से बोला, ''तुम भी तो घर से बाहर सड़क पर घूम रहे हो।... तुम्हें भी तो कोई गोली मार सकता है… तुम भी अपने घर जाओ न अंकल !”
***** 

19 comments:

  1. गोली के नाम पर दोनों बच्चे सहम गए। एकाएक उनमें से एक अपने चेहरे को अपनी दोनों हथेलियों पर टिकाकर आँखों को गोल-गोल घुमाते हुए बेहद मासूमियत से बोला, ''तुम भी तो घर से बाहर सड़क पर घूम रहे हो।... तुम्हें भी तो कोई गोली मार सकता है… तुम भी अपने घर जाओ न अंकल !”

    लघुकथा में ठहर कर विचार करने के कई तत्व विद्यमान हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. नीरज जी कडवे सच के सबसे संवेदनशील पहलु पर यह लघु-कथा लिखी गयी है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. Nice Short story.

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रभावित करती है आपकी यह लघुकथा।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बधाई भाई सुभाष.

    अंतरतम को झकझोर देने वाली लघुकथा है.

    चन्देल

    उत्तर देंहटाएं
  6. गंभीर, प्रभावित करने में सफल और महत्व की कहानी है। नीरव जी को धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बच्चे...मन के सच्चे

    अच्छी कहानी

    उत्तर देंहटाएं
  8. कर्फ्यू और बच्चों के सवाल दोनों की महत्वपूर्ण दिशा दे रहे है कहानी को। जलते सवाल छोड रहे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत अच्छी लघुकथा है, बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुभाष जी आपकी लघुलथा के कई मायने हैं। चेतावनी भी है कि आने वाली पीढी को वर्तमान से कैसी घुटन मिल रही है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. पंकज सक्सेना8 मई 2009 को 12:29 pm

    इसे कहते हैं एक अच्छी लघु-कथा।

    उत्तर देंहटाएं
  12. बच्चॊं का मन एक खाली स्लेट की तरह है जो भी लिख डालो.. मगर दिमाग में प्रति प्रशन उमढते ही रहते हैं जिनका उत्तर ढूंढने में व्यस्कों को भी पसीने आ जाते हैं... थोडे शब्दों में बहुत कुछ कहती रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  13. हर लिहाज से बेहतरीन लघुकथा।

    उत्तर देंहटाएं
  14. KAHANEE VAH HAI JO MAN AUR MASTISHK
    KO JHAKJHOR DE AUR KABHEE NAHIN
    BHOOLEE JAAYE."APNE GHAR JAAO N
    UNCLE!" AESEE HEE PRABHAVSHALEE
    KAHANI HAI.SUBHAASH NEERAV KO
    BADHAAEE.

    उत्तर देंहटाएं
  15. बच्‍चे ही तो सच बोलते हैं और बचपन की उम्र फिक्र करने की नहीं होती तो फिर डर कैसा, वैसे इसमें एक बात यह भी निकल कर आती है कि पुलिसवाले के भीतर भी संवेदना थी ।

    उत्तर देंहटाएं
  16. सुभाष जी की लघु कथा अंदर तक हिला गई-
    बच्चों के माध्यम से कई प्रश्न छोड़ गई.
    बहुत -बहुत बधाई..

    उत्तर देंहटाएं
  17. Bahut hi badhiya laghu katha hai Neerav saheb. Bahut bahut badhai ho aapko iss katha ko likhne ke liye aur Sahitya Shilpi koi isse post karne ke liye. Main jald isska Aarsi ke liye Punjab mein anuwaad karoongi.

    Tandeep Tamanna
    Vancouver, Canada
    punjabiaarsi.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  18. मैं उन सभी पाठक मित्रों का दिल से आभारी हूँ जिन्होंने मेरी लघुकथा को पढ़कर अपनी बहुमूल्य राय दी। तनदीप जी, आप ने इस लघुकथा को पंजाबी में अनुवाद करके अपने ब्लॉग "आरसी" पर लगाने की इच्छा ज़ाहिर की है, यह तो मेरे लिए बेहद खुशी की बात है।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget