माँ - किरण सिंधु

<span title=साहित्य शिल्पी" width="130" align="left" border="0">रचनाकार परिचय:-किरण सिन्धु, मूल निवासी उत्तर प्रदेश की हैं। आपकी शिक्षा झारखण्ड में तथा विवाह बिहार में हुआ। वर्तमान में आप मुंबई में अवस्थित हैं। आपको परिवार और परिवेश में बचपन से ही साहित्य प्रेम का भरपूर अवसर प्राप्त हुआ। श्रधेय गुरुजनों की कृपा से जो भी ज्ञानार्जन हुआ उसके सहारे अध्यापन के क्षेत्र में २५ वर्षों तक सुदृढ़ रूप से खड़ी रही। हिंदी भाषा और साहित्य के प्रति किशोरावस्था से ही प्रेम रहा है.

वसुंधरा के आँचल पर
सृष्टि के कलश से छलकी
एक बूँद अमृत की
और ले लिया रूप माँ का.
समस्त प्राणी-जगत में
माँ का मोह व्याप्त है,
हम मनुष्य तो फिर भी विवेकशील प्राणी है.
हमारी माँ हमें गर्भ में अपना रक्त
और गोद में अपना दूध पिलाती है.
स्वयं जागती है और हमें सुलाती है.
माँ की ममता वह क्षितिज है,
जिसके विस्तार का कोई छोर नहीं,
वह तो एक अटूट बंधन है
कोई टूट जाने वाली डोर नहीं,
माँ का कोई विकल्प नहीं,
मातृत्व का कोई प्रतिदान नहीं,
हमारे जीवन के हवन-कुंड की
माँ वह समीधा है,
जो स्वयं को जला कर
हमें पवित्र उष्मा देती है.
माँ तो एक आहुति है
जिससे जीव जगत विद्यमान है




**********

मुझे मां से जलन है - सीमा सचदेव

<span title=साहित्य शिल्पी" width="130" align="left" border="0">रचनाकार परिचय:-


2 अक्टूबर, 1974 को पंजाब के अबोहर मे जन्मी सीमा सचदेव पेशे से हिन्दी-अध्यापिका हैं। इनकी कई रचनाये जैसे- विभिन्न अंतर्जाल पत्रिकाओ मे प्रकाशित हैं। "मेरी आवाज़ भाग-१,२", "मानस की पीड़ा",,"सन्जीवनी", "आओ सुनाऊं एक कहानी", "नन्ही कलियाँ", "आओ गाएं" नामक रचना-संकलन ई-पुस्तक के रूप में प्रकाशित हैं।

मां जलन है मुझे तुमसे
अपनी ही मां से
तुम्हारी ममतामई आंखों से
जो मुझे देखने भर से लडने की हिम्मत देती हैं ।
जलन है मुझे तुम्हारी उंगलियो के स्पर्श से
जो बालों को छूते ही नई दुनिया का अहसास कराती हैं
जलन है मुझे तुम्हारी गोदि से
जिसमें सर रखते ही हर गम भूल जाती हूं
जलन है मुझे तुम्हारी सहनशीलता से
जो मुझे कितनी बार बेबाक बना देती है
जलन है मुझे तुम्हारी विशाल ह्रदयता से
जिसमें न जाने कितने गम दफ़न हैं
जलन है मुझे तुम्हारे संतोष पर
जो तुने अपनी हर चाहत मार दी
जलन है मुझे तुम्हारे उस त्याग पर
जो तुमने मेरी खातिर न जाने कितनी बार किया
जलन है मुझे तुम्हारी उस ममता पर
जो मेरी थोडी सी पीडा को भी पहचान जाती है
जलन है मुझे तुम्हारी उस समझ पर
जो मेरी आवाज में छुपे दर्द को जानती है

हां मां जलती हूं मै तुमसे.......
अपनी ही मां से.............
गुस्सा भी हूं तुमसे .......
मुझे तुमने सब सिखाया
फ़िर भी अपने सा न बनाया
क्यों नहीं समझ पाती मै तुम्हारी ही भान्ति
तुम्हारी ममतामई आंखों के पीछे का दर्द
छुपा लेती हो तुम अपने सारे गम
अपनी ममता के पर्दे से
जो मेरी नजर से दूर है बहुत दूर

क्यों नहीं मै तुम्हें अपनी गोदि में लेटा
प्यार भरी उंगलियां चला पाती तुम्हारे बालों में
ताकि तुम भी अनुभव कर सको उस आनन्द को
जो मै अनुभव करती हूं तुम्हारी गोदि में सर रख कर
क्यों नही मै त्याग कर पाती तुम्हारी खातिर
क्यों नहीं मुझमें ऐसी सहनशीलता
कि तुम्हारी हर बात चुपचाप सुन जाऊं
मुझे क्यों न इतना समझदार बनाया मां कि
तुम्हारी ही भांति मै भी पहचान सकूं
तेरी आवाज के पीछे छुपे दर्द को
क्यों मां तुम मेरी हर जिद्द के आगे हार कर भी जीत जाती हो
और मै अपनी हर जिद्द मनवा कर भी हार जाती हूं

क्यों मां , क्यों........?????????

**********

भारत माँ ही तो हूँ - प्रवीण कुमार शुक्ला

<span title=साहित्य शिल्पी" width="130" align="left" border="0">रचनाकार परिचय:-


प्रवीण कुमार शुक्ला का जन्म १५/०७/१९८४ को फर्रुखाबाद में हुआ। आप बवाना में नोकिया सेल्लुलर में ऍम आई एस की नौकरी कर रहे हैं। लेखन आपका शौक है।

तुम मुझको और घसीटो
रक्त रंजित कर दो मेरा मस्तक
इस तरह पैविस्त करो
साम्प्रदायिकता और जातिबाद की कीले
मेरे बदन में
कि एक इंच जगह ना छूटे..
कुरेदो उन्हें इतना कि
फूटने लगे खून के फब्बारे
फिर दो गालियाँ और
उछालो मेरी अस्मिता को
करो मेरा चीर हरण
क्षेत्रवाद के तीखे नाखूनों से
तुम चाहो तो कर सकते हो
मेरे और हजार टुकड़े
बुंदेलखंड पूर्वांचल और
हरित प्रदेश बना कर
फिर भी दिल ना भरे तो
नीलाम कर दो मेरी
अखंडता और सहिष्णुता को
क्षेत्रिय व जातीय पार्टी बनाकर
रोज मारो बेईमानी और
भ्रष्टाचार के तमाचे मेरे गाल पर
तब तक कि उसमे से भुखमरी
और गरीबी का पीव ना बहने लगे
भरदो स्विश बैंक के खाते
मेरे वस्त्र बेचकर ...
नोच खाओ मुझे और
बेचो मेरा मांस नोच कर
बंद कर लो अपनी आंखे
मेरे बलात्कार्य पर
क्यों कि मैं तुम्हारी
भारत माँ ही तो हूँ....

14 comments:

  1. तीनों ही कवितायें बहुत अच्छी हैं। आखीरी कविता माँ से अलग भारत माँ से संबंधित है इसे अलग से दिया जा सकता था। मातृदिवस की शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  2. Good collection of poems. Thanks.

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  3. माँ वह समीधा है,
    जो स्वयं को जला कर
    हमें पवित्र उष्मा देती है.
    माँ तो एक आहुति है
    जिससे जीव जगत विद्यमान है
    -----
    ताकि तुम भी अनुभव कर सको उस आनन्द को
    जो मै अनुभव करती हूं तुम्हारी गोदि में सर रख कर
    क्यों नही मै त्याग कर पाती तुम्हारी खातिर
    क्यों नहीं मुझमें ऐसी सहनशीलता
    कि तुम्हारी हर बात चुपचाप सुन जाऊं
    मुझे क्यों न इतना समझदार बनाया मां कि
    तुम्हारी ही भांति मै भी पहचान सकूं
    तेरी आवाज के पीछे छुपे दर्द को

    दोनों कवितायें श्रेष्ठ हैं। तीसरी कुछ कमजोर। सामूहिक कविता प्रस्तुत करने का अच्छा प्रयास है। बहुत बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  4. एक अनुरोध है, एक दिन में दो या तीन पोस्ट तक ही सीमित रखें।

    उत्तर देंहटाएं
  5. कवितायें सभी अच्छी हैं। सीमा जी की कविता नें मन मोह लिया।

    उत्तर देंहटाएं
  6. मां की महिमा का जितना भी गुणगान किया जाये कम है... तीनो कविता भावपूर्ण व दिल को छूने वाली हैं..

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत अच्छी कवितायें, बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  8. माँ पर जो भी कहा जाये वह कम है। मातृदिवस पर यह बहुत सार्थक प्रयास है। कवि-त्रय तथा साहित्य शिल्पी को धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  9. माँ वह समीधा है,
    जो स्वयं को जला कर
    हमें पवित्र उष्मा देती है.

    तीनो ही रचनाये माँ को, माँ के प्यार कोसमर्पित............एक से बढ़ कर एक.............

    उत्तर देंहटाएं
  10. माँ शब्द में ही कविता है।

    उत्तर देंहटाएं
  11. The first one by Kiran Sindhu Ji is awesome. When I was reading the poem & got so sentimental about my “Maa” that I couldn’t control myself rather than to speak with her. I regularly use to visit your personal blog “Godhulikiran” to see any new post over there. Just a small request to you please doesn’t stop writing & keep on writing. In future I hope to read lot of good poems by you. Regards - Debajyoti

    उत्तर देंहटाएं
  12. rajeev ji ,

    maa ke upar jitna bhi likha jaaye ,kaha jaaye , sab kam hi hota hai .. maa se badhkar koi aur nahi ....

    itni acchi saarthak kavitao se ruburu karwaane ke liye main aapko aabhar deta hoon ...

    teeno kavitayen bahut acchi ban padhi hai .. acchi abhivyakti hai ...


    itni acche prayaas ke liye badhai sweekar karen...

    vijay
    http://poemsofvijay.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  13. dear kiran aunty,
    the way you have expressed your feelings in this poem, it brings tears to eyes..i felt like hugging my mom immediately.

    aanchal

    उत्तर देंहटाएं
  14. yodha ka dharm hota hai yudh karna.. sindhu mam pz keep writing.. your poem provides strong support to all yodha(warrior). HAPPY MOTHERS DAY.


    Regards
    Nitesh kumar
    Swayam securities

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget