हर कोई चाहता है,
हो मेरा एक नन्हा आशियाँ
काम मेरे पास हो,
घर पर मेरे अधिकार हो,
पर, यही, मेरा और तेरा ,
क्योँ बन जाता, सरहदोँ मेँ बँटा,
शत्रुता का, कटु व्यवहार?

रचनाकार परिचय:-


लावण्या शाह सुप्रसिद्ध कवि स्व० श्री नरेन्द्र शर्मा जी की सुपुत्री हैं और वर्तमान में अमेरिका में रह कर अपने पिता से प्राप्त काव्य-परंपरा को आगे बढ़ा रही हैं।

समाजशा्स्त्र और मनोविज्ञान में बी.ए.(आनर्स) की उपाधि प्राप्त लावण्या जी प्रसिद्ध पौराणिक धारावाहिक "महाभारत" के लिये कुछ दोहे भी लिख चुकी हैं। इनकी कुछ रचनायें और स्व० नरेन्द्र शर्मा और स्वर-साम्राज्ञी लता मंगेसकर से जुड़े संस्मरण रेडियो से भी प्रसारित हो चुके हैं।

इनकी एक पुस्तक "फिर गा उठा प्रवासी" प्रकाशित हो चुकी है जो इन्होंने अपने पिता जी की प्रसिद्ध कृति "प्रवासी के गीत" को श्रद्धांजलि देते हुये लिखी है।

रोटी की भूख, इन्सानाँ को,
चलाती है,
रात दिन के फेर मेँ पर,
चक्रव्यूह कैसे, फँसाते हैँ ,
सबको, मृत्यु के पाश मेँ ?

लोभ, लालच, स्वार्थ वृत्त्ति,
अनहद, धन व मद का
नहीँ रहता कोई सँतुलन!
मँ ही सच, मेरा धर्म ही सच!
सारे धर्म, वे सारे, गलत हैँ !

क्योँ सोचता, ऐसा है आदमी ??
भूल कर, अपने से बडा सच!!

मनोमन्थन है अब अनिवार्य,
सत्य का सामना, करो नर,
उठो बन कर नई आग,
जागो, बुलाता तुम्हेँ, विहान,
है जो, आया अब समर का !

18 comments:

  1. अच्छी रचना के लिए लावण्या जी के साथ-साथ साहित्य शिल्पी को भी बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  2. मनोमन्थन है अब अनिवार्य,
    सत्य का सामना, करो नर,
    उठो बन कर नई आग,
    जागो, बुलाता तुम्हेँ, विहान,
    है जो, आया अब समर का

    -सत्य वचन और सही सलाह!! बेहतरीन रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  3. क्योँ सोचता, ऐसा है आदमी ??
    भूल कर, अपने से बडा सच!!

    आपने सही लिखा है। मनोमंथन अनिवार्य है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. Nice Poem, Thanks.

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत अच्छी कविता है, बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  6. lavanya didi ;

    itni sundar aur shashakt rachna ke liye badhai sweekar karen ...

    ye sach hai ki , ab aatm manthan ki jarurat hai ..aur ye janaane ki , ki hai jo jeevan hum ji rahen hai wo waise hi jeena chahiye...?
    aapne bahut saamyik mudda uthaya hai ..

    aapko badhai ..

    vijay

    उत्तर देंहटाएं
  7. मनमोहक कविता। मनोमंथन के लिये प्रेरित भी करती है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. मानव मनोभाव का सार्थक मंथन करती सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  9. good one.
    Admin, Please check and make corrections in incorrect spellings.


    Avaneesh

    उत्तर देंहटाएं
  10. क्योँ सोचता, ऐसा है आदमी ??
    भूल कर, अपने से बडा सच!!

    मनोमन्थन है अब अनिवार्य,
    सत्य का सामना, करो नर,
    उठो बन कर नई आग,
    जागो, बुलाता तुम्हेँ, विहान,
    है जो, आया अब समर का !

    यह तो लावण्या जी की कविता ही हो सकती थी।

    उत्तर देंहटाएं
  11. एक और अच्छी रचना, लावण्य़ा जी की कलम से।

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सही कहा....मनोन्मन्थन परम आवश्यक है....
    भावपूर्ण सुन्दर रचना हेतु आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  13. मनोमन्थन है अब अनिवार्य,
    सत्य का सामना, करो नर,
    उठो बन कर नई आग,

    आज के युग में तो ये बात और प्रासंगिक हो गयी है

    उत्तर देंहटाएं
  14. lAVANYA JEE KEE HAR KAVITA MEIN
    NAVEENTAA HAI.ISEELIYE MUN KO
    BHAATEE HAI AUR JEENE KEE SAHEE
    RAAH DIKHAATEE HAI.

    उत्तर देंहटाएं
  15. लावण्या जी,
    बहुत खूब --
    मनोमन्थन है अब अनिवार्य,
    सत्य का सामना, करो नर,
    उठो बन कर नई आग,
    जागो, बुलाता तुम्हेँ, विहान,
    है जो, आया अब समर का !
    बहुत -बहुत बधाई ...

    उत्तर देंहटाएं
  16. आप सभी की
    स्नेहभरी टीप्पणी और
    समय देकर मेरी कही बात को
    पढने के लिये आभार -
    'साहित्य - शिल्पी ' मँच का
    व सभी सदस्योँ का भी शुक्रिया !
    बहुत स्नेह के साथ,
    - लावण्या

    उत्तर देंहटाएं
  17. सुंदर रचना .. सच है .. बहुत बढिया।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget