इश्क नहीं है कविता जैसा... तो?
भाव नहीं है राधा जैसा... तो?
तुम ढूंढो-फिरो... कन्हैया, राम, रसूल...
मैं जानता हूं... मैं बना रहना!
तुम खुदा बनो, तो बनो।

रचनाकार परिचय:-


देवेश वशिष्ठ उर्फ खबरी का जन्म आगरा में 6 अगस्त 1985 को हुआ। लम्बे समय से लेखन व पत्रकारिता के क्षेत्र से जुडे रहे हैं। आपने भोपाल के माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रिकारिता विश्वविद्यालय से मॉस कम्युनिकेशन में पोस्ट ग्रेजुएशन की और फिर देहरादून में स्वास्थ्य महानिदेशालय के लिए डॉक्यूमेंट्री फिल्में बनाने लगे। दिल्ली में कई प्रोडक्शन हाऊसों में कैमरामैन, वीडियो एडिटर और कंटेन्ट राइटर की नौकरी करते हुए आपने लाइव इंडिया चैनल में असिस्टेंट प्रड्यूसर के तौर पर काम किया। बाद में आप इंडिया न्यूज में प्रड्यूसर हो गय्रे। आपने तहलका की हिंदी मैगजीन में सीनियर कॉपी एडिटर का काम भी किया है। वर्तमान में आप पत्रकारिता व स्वतंत्र लेखन कर रहे हैं।

मेरे पद डगमग हैं... तो?
मेरी गति दुर्धर है... तो?
तुम अपनी फिक्र करो,
नसीहत मत दो...
मैं जानता हूं रास्ते टेड़े करना...
तुम अड़ो, तो अड़ो।

कर्मण्येवाधिकारस्ते...
रट लिया... रट लो!
छाले मेरे हैं...
फैसला तुम क्यों लेने लगो?
नींद, सपने, लाड़, चुंबन,
सपनों ने सब तो छल लिया,
मैं पिटूंगा, पर लड़ूंगा,
तुम डरो, तो डरो!

गर्म तवे पर,
बर्फ के डेले की तरह तड़पा हूं मैं...
हौसला करता हूं,
आग बुझेगी ये...
दही की हांड़ी में,
सहेजे सा जमा बैठा हूं...
उम्मीद में हूं,
दुनिया खट्टी होगी सब...

13 comments:

  1. मैं जानता हूं... मैं बना रहना!
    तुम खुदा बनो, तो बनो।

    दिन बन गया देवेश जी एसी बेहतरीन कविता पढ कर।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत गज़ब..बेहतरीन, देवेश.. नियमित लिखो!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. devesh bhai .. subah subah aisi damdaar poems padhwakar yaar dil hila diya .. sach me jeevan kya hai ..aapne sahi aaina pesh kiya hai paristitiyo me fanse hue insaan ki....

    meri dil se badhai sweeka r kare dost..

    vijay

    उत्तर देंहटाएं
  4. Nice poem, Thanks.

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  5. bahut badhiya devesh.
    kavita padhakar maza aa gaya.
    aisee kavita padhakr mun ko sukoon milta hai aur hausala bhee.

    badhai devesh.

    sahityashilpi team ka aabhaar aisee behatareen racha ke liye.

    उत्तर देंहटाएं
  6. जिन उपमानों का आपने प्रयोग क्या है वे अलग और प्रभाव उत्पन्न करने वाले हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  7. साहित्य शिल्पी प्रथम आगमन बेहद सार्थक रहा । देवेश जी की कविता का प्रवाह अतिप्रभावशाली लगा । साहित्य शिल्पी जी आपका कार्य हिन्दी साहित्य में सराहनीय है । शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  8. गर्म तवे पर,
    बर्फ के डेले की तरह तड़पा हूं मैं...
    हौसला करता हूं,
    आग बुझेगी ये...
    दही की हांड़ी में,
    सहेजे सा जमा बैठा हूं...
    उम्मीद में हूं,
    दुनिया खट्टी होगी सब...

    आपकी कविताई का कायल होना ही पडेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  9. कविता में यथार्थ और कल्पना का सुंदर मिश्रण। हार्दिक बधाई।

    -Zakir Ali ‘Rajnish’
    { Secretary-TSALIIM & SBAI }

    उत्तर देंहटाएं
  10. आनंद आ गया। बहुत बढिया।

    उत्तर देंहटाएं
  11. wah Main jaanta hoon main bana rahna
    bahut ghari baat
    jaha log mousam ke saath badal rahe ho waha .......

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget