साहित्य शिल्पी परिवार मंगलेश डबराल को उनके जन्मदिवस की शुभकामनायें देता है।


समकालीन कवियों में महत्वपूर्ण स्थान रखने वाले मंगलेश डबराल का जन्म 16 मई 1948 को काफलपानी गाँव, टिहरी गढ़वाल, उत्तराखंड में हुआ। आपकी प्रमुख कृतियाँ हैं - पहाड़ पर लालटेन (1981); घर का रास्ता (1988); हम जो देखते हैं (1995)आदि। आपको अनेकों सम्मानों से नवाजा गया है जिनमें - ओमप्रकाश स्मृति सम्मान (1982); श्रीकान्त वर्मा पुरस्कार (1989) और " हम जो देखते हैं" के लिये साहित्य अकादमी पुरस्कार (2000) आदि प्रमुख हैं।
------------------------------
कवि का जन्मदिन उनकी कविता के आस्वादन के साथ अपने पाठको के बीच मनाने से बेहतर क्या होता? हम प्रस्तुत हैं डबराल जी के चर्चित काव्य-संग्रह " हम जो देखते हैं" से साभार उद्धरित इस कविता के साथ।
------------------------------

मैं चाहता हूँ कि स्पर्श बचा रहे
वह नहीं जो कंधे छीलता हुआ
आततायी की तरह गुज़रता है
बल्कि वह जो एक अनजानी यात्रा के बाद
धरती के किसी छोर पर पहुँचने जैसा होता है

मैं चाहता हूँ स्वाद बचा रहे
मिठास और कड़वाहट से दूर
जो चीज़ों को खाता नहीं है
बल्कि उन्हें बचाए रखने की कोशिश का
एक नाम है

एक सरल वाक्य बचाना मेरा उद्देश्य है
मसलन यह कि हम इंसान हैं
मैं चाहता हूँ इस वाक्य की सचाई बची रहे
सड़क पर जो नारा सुनाई दे रहा है
वह बचा रहे अपने अर्थ के साथ

मैं चाहता हूँ निराशा बची रहे
जो फिर से एक उम्मीद
पैदा करती है अपने लिए

शब्द बचे रहें
जो चिड़ियों की तरह कभी पकड़ में नहीं आते
प्रेम में बचकानापन बचा रहे
कवियों में बची रहे थोड़ी लज्जा ।

9 comments:

  1. मंगलेष डबराल जी को जन्मदिवस की शुभकामनायें। निर्विवाद रूप से वे समकालिईन कविता के सशक्त हस्ताक्षर हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. शब्द बचे रहें
    जो चिड़ियों की तरह कभी पकड़ में नहीं आते
    प्रेम में बचकानापन बचा रहे
    कवियों में बची रहे थोड़ी लज्जा ।

    अच्छी रचना है। मंगलेश जी को शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बधाई डबराल जी। बहुत अच्छी कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  4. sabse pahle to main sahitya shilpi ko badhai dena chahunga ki unhone dabraal ji ki kavita ko prastuth kiya hai , jo apne aap me bahut badi baat hai ...

    dabraal ji ko janamdin ki badhai aur mujhe khushi hai ki maine pahle bhi unki rachnao ko padha hai ..

    prastuth kavita ke bhaav bahut gahre hai .. jeevan ki philosphy ko bahut hi gambheer roop se darshaya gaya hai ..

    main itni acchi kavita ke liye unhe badhai deta hoon aur nama karta hoon..

    aabhar..

    उत्तर देंहटाएं
  5. Happy B'Day Dabraj ji. Nice Poem. Thanks.

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  6. shabd k param sadhak shri dabralji ko hardik badhaiyan...
    AAPKE BLOG PAR AAKAR BAHUT SUKH MILA........

    उत्तर देंहटाएं
  7. साहित्य शिल्पी का हिन्दी के लिये समर्पण देखते ही बनता है। बडे साहित्यकारों को उनके महत्वपूर्ण दिवसों पर याद करना बडा काम है। मंगलेश डबराल को बधाई और साहित्य शिल्पी को धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  8. म्ंगलेश डबराल को जन्मदिवस की हार्दिक बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  9. मन की गहराईयों का मंथन कर लिखी गई रचना..

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget