रचनाकार परिचय:


पवन कुमार ’चंदन’ राष्ट्रभाषा नव-साहित्यकार परिषद के संस्थापको मे से एक और वर्तमान मे महासचिव हैं। आपका जन्म 17 दिसम्बर1953 को बागपत के गाँव मीतली मे हुआ। आपनें वर्ष 1974 मे लेखन की शुरूआत की। सन 1977 की जनता पार्टी की खिचड़ीसरकार पर दैनिक नवभारत टाइम्स में प्रकाशित कटाक्ष सेप्रकाशन का जो क्रम आरंभ हुआ वो आज तक निरंतर जारी है। आपकी रचनायें राष्ट्रीय सहारा, बालवाणी, नई दुनिया, अमर उजाला, दैनिक ट्रिब्यून इत्यादि मे खूब छप रही है। आप कलमवाला, फिल्म फैशन संसार पत्रिकाओं मे संपादकिय विभाग से जुडे रहे। ‘तेताला’ और नवें दशक के प्रगतिशील कवि काव्य संग्रह के भी आप एक प्रमुख हस्ताक्षर हैं। वर्तमान में आप भारतीय रेल सेवा से संबंद्ध हैं।

बड़े साहब ने
तड़क कर पूछा
आज कुछ कमाया?
उत्तर मिला, जी नहीं

ये रोज रोज की
जी नहीं, जी नहीं
अच्छा नहीं लगता
तू कमा नहीं सकता?
जी हां मै किसी का दिल
दुखा नहीं सकता।

यही प्रत्युत्त्र
उनको तंग कर गया
उनका चैन भंग कर गया
बड़े सहब अंदर तक उखड़ गये
हद से ज्यादा उधड़ गये
बोले, अबे मूर्ख
पहला ध्येय कमाना है
यही तो जमाना है
तू अगर किसी का दिल नहीं दुखाता
तो फिर मेरा क्यों दुखाता है?
और दुखा ले
तू कहीं और
क्यों नहीं चला जाता है?
कुछ तो कर
जमाने से नहीं तो मुझसे डर

अगर तू बिल्कुल नकारा है
कुछ भी न कमाना गवारा है
तो एसा कर
कहीं जाकर कविता कर.....
कहीं जाकर कविता कर.....

13 comments:

  1. कवि से बडा निकम्मा मिलेगा कहाँ। सही दृष्टिकोण है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक सुन्दर रचना है |
    मंच पर कही जाने लायक |

    बधाई|

    अवनीश तिवारी

    उत्तर देंहटाएं
  3. कविता की दुर्गति
    जैसी तेज गति की
    गंध आ रही है
    कविता तो खुद
    कवि का मजाक
    बना रहा रही है
    असलियत यही है
    बेमंचियों के यही
    हाल हैं और जो
    मंचीय हैं वे महा
    खुशहाल हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. जनाब कवी इतना गया गुज़रा तो नहीं होता है............और न ही हर कवी इतना इमानदार होता है ............
    जो भी है आपका व्यंग लाजवाब है........इस चरमराती व्यवस्था पर सही चोट है

    उत्तर देंहटाएं
  5. पवन जी आपके कविता करने का राज उजागर हो गया।

    उत्तर देंहटाएं
  6. अच्छा ही है कि कवि से एसे निम्मेपन की उम्मीद की जाती है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. सब कुछ सीखा हमने न सीखी होशियारी
    सच है दुनिया वालो कि हम हैं अनाडी..

    चलिये कविता ही लिखते हैं :)

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget