कितने हाथों में यहाँ हैं कितने पत्थर,गौर कर
फिर भी उठ-उठ आ गये हैं कितने ही सर, गौर कर

आसमां तक जा चढ़ा सेंसेक्स अपने देश का
चीथड़े हैं फिर भी बचपन के बदन पर, गौर कर

जो भी पढ़ ले आँखें मेरी, मुझको दीवाना कहे
तू भी तो इनको कभी फुर्सत से पढ़ कर गौर कर

शहर में बढती इमारत पर इमारत देख के
मेरी बस्ती का वो बूढा कांपता 'बर', गौर कर

यार जब-तब घूम आते हैं विदेशों में, मगर
अपनी तो बस है कवायद घर से दफ्तर, गौर कर

उनके ही हाथों से देखो बिक रहा हिन्दोस्तां
है जिन्होंने डाल रक्खा तन पे खद्दर, गौर कर

इक तेरे 'ना' कहने से अब कुछ बदल सकता नही
मैं सिपाही-सा डटा हूँ मोर्चे पर, गौर कर

रचनाकार परिचय:-
मेजर गौतम राजरिशी का जन्म १० मार्च, १९७६ को सहरसा (बिहार) में हुआ। राष्ट्रीय रक्षा अकादमी व भारतीय सैन्य अकादमी में प्रशिक्षण प्राप्त करने के उपरांत वर्तमान में आप कश्मीर में पदस्थापित हैं।
गज़ल व हिन्दी-साहित्य के शौकीन गौतम राजरिशी की कई रचनायें कादम्बिनी, हंस आदि साहित्यिक पत्रिकाओं में प्रकाशित हैं।

अपने ब्लाग "पाल ले एक रोग नादाँ" के माध्यम से वे अंतर्जाल पर भी सक्रिय हैं।

32 comments:

  1. आसमां तक जा चढ़ा सेंसेक्स अपने देश का
    चीथड़े हैं फिर भी बचपन के बदन पर, गौर कर

    भाई वाह। साथ ही

    उनके ही हाथों से देखो बिक रहा हिन्दोस्तां
    है जिन्होंने डाल रक्खा तन पे खद्दर, गौर कर

    उक्त पंक्तियों को देखकर किसी की भोजपुरी में कही गयी पंक्तियाँ याद आयी-

    तू हूँ लूट हमहूँ लूटीं लूटे के आजादी बा।
    सबसे बेसी ऊहे लूटीं जेकरा देह पर खादी बा।।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com
    shyamalsuman@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. उनके ही हाथों से देखो बिक रहा हिन्दोस्तां
    है जिन्होंने डाल रक्खा तन पे खद्दर, गौर कर

    बहुत बढिया...

    उत्तर देंहटाएं
  3. गौतम जी ग़ज़ल चिन्गारी की तरह है, बेहद ताकतवर तरीके से आपके शब्द बात कह रहे हैं -

    आसमां तक जा चढ़ा सेंसेक्स अपने देश का
    चीथड़े हैं फिर भी बचपन के बदन पर, गौर कर

    उनके ही हाथों से देखो बिक रहा हिन्दोस्तां
    है जिन्होंने डाल रक्खा तन पे खद्दर, गौर कर

    उत्तर देंहटाएं
  4. गौतम भाई का लिखा मुझे पसँद आता है
    बहुत अच्छे -
    - लावण्या

    उत्तर देंहटाएं
  5. आसमां तक जा चढ़ा सेंसेक्स अपने देश का
    चीथड़े हैं फिर भी बचपन के बदन पर, गौर कर

    ग़ज़ल में यही खूबी है कि इसमें बात जिस सशक्तता से कही जा सकती है पद्य के अन्य प्रकारों में नहीं।

    उत्तर देंहटाएं
  6. कितने हाथों में यहाँ हैं कितने पत्थर,गौर कर
    फिर भी उठ-उठ आ गये हैं कितने ही सर, गौर कर

    आसमां तक जा चढ़ा सेंसेक्स अपने देश का
    चीथड़े हैं फिर भी बचपन के बदन पर, गौर कर

    बहुत खूब।

    उत्तर देंहटाएं
  7. गज़ल पूरी की पूरी---बेहतरीन और उम्दा!!

    मजा आ गया!

    उत्तर देंहटाएं
  8. आसमां तक जा चढ़ा सेंसेक्स अपने देश का
    चीथड़े हैं फिर भी बचपन के बदन पर, गौर कर


    वाह....

    उत्तर देंहटाएं
  9. जो भी पढ़ ले आँखें मेरी, मुझको दीवाना कहे
    तू भी तो इनको कभी फुर्सत से पढ़ कर गौर कर

    तेवर पर तो आप खूब प्रशंसा लूट रहे हैं। लेकिन यह रुमानी ख़्याल भी कम नहीं।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बेहतरीन ग़ज़ल... गौतम जी, वैसे आपके ब्लाग पर पहले पढ़ ली थी. दोबारा भी उतना ही आनंद आया.

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुन्दर गजल,

    आज के हालात से रूबरू करती हुई और मन में एक हलचल सी पैदा करती हुई

    उत्तर देंहटाएं
  12. gautam bhaee ke gazalon ke kya kahane... bahot hi kamaal ki baaten likhte hai .... nazar chhote chhote chijo ko turant pakad leti hai ... behtarin gazal ke liye dhero badhaayee


    arsh

    उत्तर देंहटाएं
  13. यार जब-तब घूम आते हैं विदेशों में, मगर
    अपनी तो बस है कवायद घर से दफ्तर, गौर कर


    ये शेर बेहतरीन है.....गजल में अलबत्ता हर पहलू का बयाँ है...

    उत्तर देंहटाएं
  14. gautam ji ,

    bahut hi behatreen gazal ..

    padhkar aanand aa gaya , har sher apne aap me ek sacchayi bayan kar raha hai...

    wah ji wah

    meri dil se badhai sweekar kariyenga .

    vijay

    उत्तर देंहटाएं
  15. आपकी इस गज़ल की जितनी प्रशंसा की जाये, कम है।

    उत्तर देंहटाएं
  16. Gautam saHeb!
    namaste!
    ghazal achchhee ban paRee hai. meree daad qabool keejiye.
    beshtar sher bayaan aur bunat meN achchhe haiN.
    sarsaree nazar meN 2 nishaandehii kar rahaa huN. nazr e saanee karnaa yah meree baat se ittafaaq nah rakhnaa aapkaa haq hai!
    shukriyaa!

    यार जब-तब घूम आते हैं विदेशों में, मगर
    अपनी तो बस है कवायद घर से दफ्तर, गौर कर
    sher achchaa hai! magar ghaur keejiye keh radeef 'ghaur kar' yahaaN khap rahaa hai :)? ghar se dafter aane jaane meN kisee aur ke liye ghaur karne waalee kyaa baat hai?

    इक तेरे 'ना' कहने से अब कुछ बदल सकता नही
    मैं सिपाही-सा डटा हूँ मोर्चे पर, गौर कर
    sher mafhoom adaa naheeN kar paayaa yah meraa naaqis ilm use samajhne meN naakaamyaab rahaa.

    शहर में बढती इमारत पर इमारत देख के
    मेरी बस्ती का वो बूढा कांपता 'बर', गौर कर
    pehle sher ke 'par' ko 'dar' se badal kar dekh leejiye.
    'bar' kaa kyaa arth hotaa hai? kuchh raushnee Daale to mere ilm meN izaafaa hogaa.

    आसमां तक जा चढ़ा सेंसेक्स अपने देश का
    चीथड़े हैं फिर भी बचपन के बदन पर, गौर कर

    yeh sher Haasil e ghazal lagaa.

    -Dheeraj Ameta "Dheer"

    उत्तर देंहटाएं
  17. आसमां तक जा चढ़ा सेंसेक्स अपने देश का
    चीथड़े हैं फिर भी बचपन के बदन पर, गौर कर

    अद्भुत शेर...पहले आपने मुझे एक शेर पर सेल्यूट किया था आज सेल्यूट करने की बारी मेरी है...जिंदाबाद...गौतम जी वाह...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  18. GAUTAM JEE,
    AAPKEE SAMYIK GAZAL KE
    ADHIKAANSH ASHAAR ACHCHHE LAGE HAIN.HAAN,"IK TERE NA KAHNE---"
    MISRAA DOOSE MISRE KO UTHAA NAHIN SAKA HAI AUR "BOODHA KANPTA BAR"
    SAMAJH KE BAAHAR HAI.
    AAP KHOOB UNNTI KAR RAHE
    HAIN.BADHAAEE

    उत्तर देंहटाएं
  19. एक एक शेर पर आपने मेहनत की है। प्रशंशनीय प्रस्तुति है। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  20. wah kya likha hai ek ek sher lajavab hai
    उनके ही हाथों से देखो बिक रहा हिन्दोस्तां
    है जिन्होंने डाल रक्खा तन पे खद्दर, गौर कर
    kya kahne
    saader
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत बेहतरीन और उम्दा रचना.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  22. गौतम जी
    क्या बात है बहुत अच्चे तेवर के साथ लिखी गजल है
    मक्ता बहुत सुन्दर बन पडा है

    वीनस केसरी

    उत्तर देंहटाएं
  23. आपकी गज़ल के तीन सबसे उम्दा शेर-

    शहर में बढती इमारत पर इमारत देख के
    मेरी बस्ती का वो बूढा कांपता 'बर', गौर कर

    यार जब-तब घूम आते हैं विदेशों में, मगर
    अपनी तो बस है कवायद घर से दफ्तर, गौर कर

    इक तेरे 'ना' कहने से अब कुछ बदल सकता नही
    मैं सिपाही-सा डटा हूँ मोर्चे पर, गौर कर....

    सेल्यूट---
    खबरी
    http://deveshkhabri.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  24. आसमां तक जा चढ़ा सेंसेक्स अपने देश का
    चीथड़े हैं फिर भी बचपन के बदन पर, गौर कर

    बेहतरीन..लजवाब ..............कितनी गहराई तक जा कर अपने देश की हालत को समझा है........गौतम जी.........बहूत ही खूबसूरत ग़ज़ल है.....हर शेर लाजवाब

    उत्तर देंहटाएं
  25. आप सब का दिल से शुक्रिया इस अद्‍भुत हौसलाअफ़जाई का
    @धीर जी,
    आपका फैन हूँ और खास कर आप जिस तरह से मशवरा देते हैं, वर्ना यहाँ तो "वाह-वाह" और "उम्दा रचना" से ऊपर उठा ही नहीं जाता...
    चौथे शेर में दरअसल "बर" बरगद के लिये इस्तेमाल हुआ, लेकिन अपनी नाकामी मानता हूँ और शेर खारिज है इस लिहाज..
    @आदरणीय प्राण साब,
    आपका अशिर्वाद और अच्छा लिखने को प्रेरित करता है..

    आप सब का एक बार फिर से शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  26. इस ग़ज़ल में एक और दोष है, जो मुझे लगा था कि धीर जी आप इंगित करेंगे
    पांचवा शेर का मिस्‍रा-उला "मगर’ पे खत्म हो रहा है जो रदीफ़ से तुकांत है और शायद ये दोष माना जाता है।
    धीर जी कुछ सुझाव दें इस बारे में तो मेहरबानी होगी।

    उत्तर देंहटाएं
  27. गौतम जी, आपके शायरी करने का अंदाज प्रसंशनीय है। शेर पैने हैं और असरदार। पहला ही शेर एसा है जिसमें कालजयी होने की क्षमता है।

    कितने हाथों में यहाँ हैं कितने पत्थर,गौर कर
    फिर भी उठ-उठ आ गये हैं कितने ही सर, गौर कर

    बहुत अच्छी ग़ज़ल के लिये बधाई स्वीकारें।

    उत्तर देंहटाएं
  28. namaste Gautam ji!
    aapkee zarr'a nawaazee hai. shukriyaa!
    'magar' lafz par khatm honaa koee nuks to naheeN hai, agar hai bhee to mujhe bhee iskaa ilm naheeN. aam taur par donoN misroN meN rab't aise bhee nikal paRtaa hai jo, agar, magar, lekin ityaadi se kaam le.
    apnaa hee ek sher yaad aa rahaa hai jismeN maine 'magar' ko qafiye meN isee tarz par istemaal kiyaa thaa.
    zindagee ke pech o kham se ham nah the waaqif magar,
    ham jiye, dil se jiye, chhoRee naheeN koee qasar!

    ab agar yeh dosh hai to ahl e ilm hee is or nazar Daal sakte haiN. maiN ustaad e mohatarm janaab Sarwar Alam Raz saHeb se bhee maalumaat kar ke aapko likhungaa.

    waise ek baat ghaur karne kee yeh hai, 'magar' lafz kee aapke misre meN zaroorat hee naheeN hai. misre meN thoRee heraa-pheree karenge to aur behtar ho jaayegaa.
    koee misra zehn meN aayaa to likhungaa.

    shukriyaa!

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget