"अरे कजरी जल्दी कर ट्रक जाने को है" शन्नो ने बड़े उत्साह से कहा| चुनाव आते ही शन्नो के स्वर में अजीब सी ख़ुशी छा जाती है, कुछ कमाने का समय जो होता है ये| अलग अलग पार्टी के चमचे आते हैं ट्रकों में भर के लोगो को ले जाते हैं बदले में १००, ५० जैसा हो मिल जाता है| हाँ शन्नो पहले ही इस बात की जाँच पड़ताल कर लेती है की रैली होजाने पर वापस गाँव में ला के छोडा जाये| 

साहित्य शिल्पीरचनाकार परिचय:-


रचना श्रीवास्तव का जन्म लखनऊ (यू.पी.) में हुआ। आपनें डैलास तथा भारत में बहुत सी कवि गोष्ठियों में भाग लिया है। आपने रेडियो फन एशिया, रेडियो सलाम नमस्ते (डैलस), रेडियो मनोरंजन (फ्लोरिडा), रेडियो संगीत (हियूस्टन) में कविता पाठ प्रस्तुत किये हैं। आपकी रचनायें सभी प्रमुख वेब-पत्रिकाओं में प्रकाशित हैं।

"कजरी क्या कर रही है जल्दी कर".शन्नो ने फिर पुकारा| 

"आती हूँ " एक मध्यम सी आवाज में कजरी ने उत्तर दिया| ये कजरी का पहली बार है जब वो गाँव से बाहर अकेली जा रही है ऊपर से एसी भीड़ वाली जगह पर| उसका मन तनिक भी नहीं था पर क्या करे जब से शादी हो के आई है घर की आर्थिक तंगी से उबर नहीं पाई है, पति है की कोई काम धन्धा करता नहीं बस जो कुछ वो कमा के लाती है उस में से भी ले के शराब पी लेता है ऊपर से ताने और गलियां अलग से| शन्नो को देख कितना कमा के लती है पूरा परिवार चलाती है और तू बस यही दो चार घर बर्तन मांज के ......फिर गलियों का सिलसिला शुरू हो जाता है| कजरी ने भी सोचा की चलो ४ ,५ घंटे के यदि १०० रूपया और धोती मिल जायेगी तो अच्छा ही रहेगा न| कई दिन से बचवा को बुखार है दावा भी ख़तम होने को है और डाक्टर ने कहा है की खून की कमी भी है कुछ फल खिलाओ| जितना वो कमाती है उस में दो जून का खाना ही बहुत मुश्किल से हो पता है फल कहाँ से लाये? यही सब सोच के वो राजी हो गई थी पर मन ही मन डर बहुत रही थी| 

बचवा को ऊषा ताई के पास छोड़ के शन्नो के साथ हो ली 
"ये धोती भी देंगे न पैसे के सात वों तसल्ली कर लेना चाहती थी"
"हाँ बड़ी पार्टी है बहुत बड़ी सभा है ज्यादा ही मिलेगा कम नहीं"
ट्रक आधा भर चुका था बिचौले बाबू गिनती करने में लगे थे| "आ गई शन्नो रानी बड़ी देर लगा दी चल चल बैठ जा गाड़ी में" 

शन्नो के पीछे पीछे कजरी भी गाड़ी में आके बैठ गई| ट्रक भर गया तो चल पड़ा बिचौले बाबू ने कहा हाँ सुनो मुन्ना भैया की जय बोलना है ये बहुत बड़ी .....वो क्या बोल रहे थे कजरी को उस से कोई मतलब नहीं थी वो तो बस मिलने वाली रुपयों की सोच रही थी....और साडी भी रह रह के दिमाग में आरही थी|२ घंटे में सभा स्थल पर पहुँच गए सभी जय जय कह रहे थे कजरी भी उनकी आवाज में आवाज मिला रही थी| वो शन्नो की धोती पकडे एसे चल रही थी जैसे बच्चे ऊँगली पकड़ के चलते हैं उसको डर था कहीं भीड़ में खो न जाये| करीब २ घंटे में सभा खत्म हो गई| बिचौले बाबू ने गिनती कर सब को एक किनारे किया और कजरी से कहा तुम ने बड़े उत्साह से नारा लगाया है तुम अलग से भी पैसा मिलेगा आओ मेरे साथ आप लोग यहीं रहिये आप को यहीं मिल जायेगा| कजरी इधर उधर देखने लगी की उस की नज़रें शन्नो को खोज रहीं थी पर वो कहीं नहीं दिखी| 

"आओ ...क्या हुआ .?"

कजरी बिचौले बाबू के पीछे चलने लगी पास के गेस्ट हाउस में पहुँच के उन्होंने एक कमरा खोला और अंदर चले गए कजरी बाहर खडी रही| बिचौले बाबू ने कहा अंदर आ जाओ| कजरी डरते डरते अंदर चली गई| बिचौले बाबू ने दरवाजा बंद कर दिया| थोडी देर तक कजरी की गुहार अंदर से आती रही पर कुछ समय बाद वो भी आना बंद होगई ..........एक विजयी मुस्कान के साथ बिचौले बाबू बड़े शान से कमरे से बाहर आये और लोगों की गिनती कर के उनको ट्रक में चढाने लगे| कजरी अपनी आत्मा समेटती हुई अपने हाथों में रखे १००० रुपये को देख रही थी| समझ नहीं पा रही थी वो खुश हो की अब बचवा के लिए बहुत दिनों तक फल ला सकेगी या दुखी क्यों की उस ने जो कुछ खोया है उसका दर्द सिर्फ वो ही समझ सकती थी| कपडों को ठीक करती बिखरी मानसिकता के साथ बाहर निकली तो देखा शन्नो दूसरे कमरे से निकल रही थी| शन्नो को देखते है कजरी शन्नो के ठाठ बाट और चुनाव आने पर उसकी ख़ुशी का सारा माजरा समझ गई| उफ़ तो सब कुछ जानती थी शन्नो .....बिचौले बाबू ने कजरी औए शन्नो को दो दो धोती दी शन्नो उछलती कूदती ट्रक में बैठ गई| कजरी के एक एक पैर मनो भरी हो रहे थे| अपनी बर्बादी का दर्द खुद ही उठाये वों ट्रक में आ के बैठ गई| 

15 comments:

  1. लिखती रहिए रचना। बहुत सुन्दर।

    उत्तर देंहटाएं
  2. जीवन की एक कटु सच्चाई को बताती है, आपकी कहानी ! यकायक याद आया पिछला दिसम्बर, जब प्रधानमंत्री के ख्वाब सजोये एक महिला नेता दिल्ली में विधान सभा चुनावों के दौरान अपनी तूफानी रेलिया कर रही थी, चमचे लोग झुग्गी झोपडियों से ५०-५० रूपये देकर लोगो की भीड़ इकठ्ठा कर रहे थे ! मेरे ऑफिस जाने वाले रस्ते में कुछ सजी -धजी महिलावो को टेंपो में चड़ते देखता था और सोचता था, वाह मेरे लोकतंत्र !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. रचना की रचना कहे नंगे सच की बात।
    बिना जागरण के नहीं बदलेंगे हालात।।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com
    shyamalsuman@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  4. yu to shoshan ab hamari sans kriti banti ja rahi hai apki kahani is sanskriti par ek kara prahar karne ka jajba dikha rahi hai

    उत्तर देंहटाएं
  5. aapki kahani sahitya aur samaj ko ek nae disha de rahi hai. aapko aur aapki nae kalam ko salam

    उत्तर देंहटाएं
  6. नग्न सच्चाई आपकी लघुकथा में उजागर हुई है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. सच्चाई लिखी है आपने बहूत सुन्दर ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. रचना,
    यथार्थ का बखूब चित्रण किया है. लिखती रहो.

    उत्तर देंहटाएं
  9. रचना जी सच को जिस तालत से आपकी कहानी दिखा रही है किसी को भी झकझोरने में सक्षम है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. मानवता के शोषण में लिप्त आम आदमी के मुंह से नकाब उत्तारती एक सुंदर लघु कथा. लिखते रहिये

    उत्तर देंहटाएं
  11. सच है। कडवा। सधी हुई लघुकथा।

    उत्तर देंहटाएं
  12. rachana ji ;

    aapne bahut kadavi sacchai ko apni kahani me chitrit kiya hai .. desh ab aida hi ban chuka hai .. mujhe aapki is katha ne bahut prabhavit kiya hai ..

    badhai
    vijay

    उत्तर देंहटाएं
  13. aap sabhi dil se dhnyavad .me thoda der se aap ka dhyavad kar rahi hoon mujhe maf kijiyega .apna sneh isi tarah banaye rakhiyega .
    dhnyavad

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget