भावो में मेरे थोडा रस लिया होता,
आंसुओ की आहट को, जब सुन लिया होता,
भूलता न हर ख़ुशी,संजोता न कोई गम,
तुम छू लेती अंतर्मन,में सिहर लिया होता।

साहित्य शिल्पीरचनाकार परिचय:-


मध्य प्रदेश के खंडवा जिले में जन्मे अमन दलाल एमिटी विश्वविद्यालय, नोएडा में बी.टेक. के विद्यार्थी हैं।

लेखन में बहुत अर्से से रूचि है। विद्यालयीन स्तर पर लेखन, वाद-विवाद आदि के लिये कई बार पुरुस्कृत भी हुये हैं। अंतरजाल पर भी सक्रिय हैं।

तुम सुन न सकी किसी आह को,
मन की पवित्र,पावन चाह को,
इसी बीचोबीच मन बात करते हैं,
तुम क्यों न देख सकी, मुझमे तेरी परवाह को.

अब तो बैठे हैं, सहजकर हरे घावो को,
तुम फिर आती हो लिए, उन खुदगर्ज भावो को,
छू लूँ कैसे, फिर लौ फिर वहीं..
परवाना था, डरता हूँ अब उन हवाओ को।

आज दीप लिए, तुम खड़ी हो वही,
कदम ठहरे, जब मेरे कहीं,
कैसी फरियाद,किसके लिए,
रोशनी जो ना गलत,न सहीं।

यहीं बद्लोबदल की, एक बदल हैं,
नए वक़्त की नयी ग़ज़ल हैं,
तुम लिए भले हो,अमर सादगी,
मेरे मनोभाव अब ,बैठे तल हैं।

मन में डर हे,उस मधुमास का,
तुम बिन मेरे, जग-हास का,
अब मुझे वो सिहरन,मंजूर नहीं,
जाकर छू लो, काबा कोई पास का।

मैं बस यह कह, चुप होता हूँ,
सच, तुम बिन रोता हूँ,
बख्श दो ना दो! व्यर्थ नए उल्लास, क्षमा
मैं अब चैन की नींद सोता हूँ.

7 comments:

  1. uski batt sune bina kaise maan le? tharo jara puri hakikat jaan le? yadi sach me wo bevafa hi nikle to ek baat meri jarur maan le dil us ko date hi kyon ho? jo nadan ki jaan le

    उत्तर देंहटाएं
  2. परवाना था, डरता हूँ अब उन हवाओ को।

    yah pankti kuchh adhuri lagi aman mere taur se yaHAAN hawaaon se....likhnA sahi hai kintu isse tumhaari oopar ki panktiyaan ladkhada jaayengi.....aur shesh kavita sundR hai waqai prashaNshneey

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget