अब नहीं कोई सवाल, अब जवाब चाहिये
मुझे मेरे आँसुओं का, अब हिसाब चाहिये

चनाकार परिचय:-


मोहिन्दर कुमार का जन्म 14 मार्च, 1956 को पालमपुर, हिमाचल प्रदेश में हुआ। आप राजस्थान यूनिवर्सिटी से पब्लिक- एडमिन्सट्रेशन में स्नातकोत्तर हैं।

आपकी रचनायें विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित होती रही हैं साथ ही साथ आप अंतर्जाल पर भी सक्रिय हैं। आप साहित्य शिल्पी के संचालक सदस्यों में एक हैं। वर्तमान में इन्डियन आयल कार्पोरेशन लिमिटेड में आप उपप्रबंधक के पद पर कार्यरत हैं।

खो गया जो कहीं,वादियों में इन्तज़ार की
मुझे फिर वही मेरा, खोया शबाब चाहिये

वर्क़ा-वर्क़ा, रो-रो के, आँसुओं से है लिखी
है ख़्वाबों की तामीर जो, वो किताब चाहिये

बिसरे किसी ख़्याल ने,फिर मुझे रुला दिया
भूल जाऊँ माजी को मैं, इक अजाब चाहिये

चांदनी खिली हुई, हम गम से सराबोर हैं
ढक ले मुक्कमिल वज़ूद,वो हिजाब चाहिये

था शाख से तोड़ कर, ख़ाक में मिला दिया
चमन की दरकार है, न एक गुलाब चाहिये

अब नहीं कोई सवाल, अब जवाब चाहिये
मुझे मेरे आँसुओं का, अब हिसाब चाहिये


शब्दार्थः-
शबाब = खूबसूरती, सुन्दरता (beauty)
वर्का-वर्का =वरक़, एक एक पन्ना, सफ़ा (page)
ख्वाबों = सपनों (dream)
तामीर = इमारत, पूर्णता, (completion, building)
अजाब= अज़ायब, अनोखा, अजूबा, चमत्कार (Rare, Strange, Wonder)
माजी= भूतकाल, बीता हुआ समय (past)
मुक्कमिल = मुक़म्मल, पूरा, पूर्ण (complete)
हिजाब = पर्दा, रात (curtain, night, shyness)
दरकार = आवश्यकता, ज़रूरत (needed)

10 comments:

  1. PRIY MOHINDER KUMAAR JEE,
    AAPKEE GAZAL PADHEE
    HAI.BHAAV HRIDAY KO CHHONE WAALE
    HAIN LEKIN BAHAR PAR AAPKEE VAESEE
    PAKAD NAHIN HAI JAESEE CHAAHIYE .
    KOEE-KOEE MISRA HEE VAZAN MEIN
    HAIN.AAPSE GUZAARISH KARUNGA ,AGAR
    AAPKO GAZAL KE MAIDAN MEIN AANAA HAI TO PAHLE DO-TEEN BAHRON KAA
    BHALEE-BHANTI ABHYAAS KIJIYE.YE
    BAAT AAPKEE BHALAAEE KE LIYE LIKH
    RAHAA HOON MAIN.ASHA KARTAA HOON
    KI AAP ANYATHA NAHIN LENGE.

    उत्तर देंहटाएं
  2. माफ़ कीजियेगा! मज़ा नहीं आया.

    उत्तर देंहटाएं
  3. था शाख से तोड़ कर, ख़ाक में मिला दिया
    चमन की दरकार है, न एक गुलाब चाहिये
    bahut khub likha hai.

    उत्तर देंहटाएं
  4. बिसरे किसी ख़्याल ने,फिर मुझे रुला दिया
    भूल जाऊँ माजी को मैं, इक अजाब चाहिये

    bahut hi achhe khyaal. aapki gazal bahut dino ke baad padhne mili

    उत्तर देंहटाएं
  5. अब नहीं कोई सवाल, अब जवाब चाहिये
    मुझे मेरे आँसुओं का, अब हिसाब चाहिये

    वाह लाजवाब ग़ज़ल................ बागी तेवर............जिंदगी से हिसाब मांगती ग़ज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  6. चांदनी खिली हुई, हम गम से सराबोर हैं
    ढक ले मुक्कमिल वज़ूद,वो हिजाब चाहिये

    था शाख से तोड़ कर, ख़ाक में मिला दिया
    चमन की दरकार है, न एक गुलाब चाहिये

    भावपूर्ण है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. प्रभावी कविता है।
    अब नहीं कोई सवाल, अब जवाब चाहिये
    मुझे मेरे आँसुओं का, अब हिसाब चाहिये

    उत्तर देंहटाएं
  8. अच्छे भाव हैं। सुन्दर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  9. priy mohinder ji

    aapki gazal padhkar man bhar aaya .. har sher kuch alga si kahani pesh karta hai .. specially

    बिसरे किसी ख़्याल ने,फिर मुझे रुला दिया
    भूल जाऊँ माजी को मैं, इक अजाब चाहिये

    aur

    अब नहीं कोई सवाल, अब जवाब चाहिये
    मुझे मेरे आँसुओं का, अब हिसाब चाहिये

    ye dono sher lajawab hai .. aapki kalam ko salaam hai sir ji ..


    itni acchi gazal ke liye badhai sweekar karen...

    vijay
    http://poemsofvijay.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget