साहित्य शिल्पीरचनाकार परिचय:-


आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल' नें नागरिक अभियंत्रण में त्रिवर्षीय डिप्लोमा. बी.ई.., एम. आई.ई., अर्थशास्त्र तथा दर्शनशास्त्र में एम. ऐ.., एल-एल. बी., विशारद,, पत्रकारिता में डिप्लोमा, कंप्युटर ऍप्लिकेशन में डिप्लोमा किया है। आपकी प्रथम प्रकाशित कृति 'कलम के देव' भक्ति गीत संग्रह है। 'लोकतंत्र का मकबरा' तथा 'मीत मेरे' आपकी छंद मुक्त कविताओं के संग्रह हैं। आपकी चौथी प्रकाशित कृति है 'भूकंप के साथ जीना सीखें'। आपनें निर्माण के नूपुर, नींव के पत्थर, राम नम सुखदाई, तिनका-तिनका नीड़, सौरभ:, यदा-कदा, द्वार खड़े इतिहास के, काव्य मन्दाकिनी २००८ आदि पुस्तकों के साथ साथ अनेक पत्रिकाओं व स्मारिकाओं का भी संपादन किया है। आपको देश-विदेश में १२ राज्यों की ५० सस्थाओं ने ७० सम्मानों से सम्मानित किया जिनमें प्रमुख हैं : आचार्य, २०वीन शताब्दी रत्न, सरस्वती रत्न, संपादक रत्न, विज्ञानं रत्न, शारदा सुत, श्रेष्ठ गीतकार, भाषा भूषण, चित्रांश गौरव, साहित्य गौरव, साहित्य वारिधि, साहित्य शिरोमणि, काव्य श्री, मानसरोवर साहित्य सम्मान, पाथेय सम्मान, वृक्ष मित्र सम्मान, आदि। वर्तमान में आप म.प्र. सड़क विकास निगम में उप महाप्रबंधक के रूप में कार्यरत हैं।

एकलव्य का अद्वितीय धनुर्विद्या अभ्यास देखकर गुरुवार द्रोणाचार्य चकराए कि अर्जुन को पीछे छोड़कर यह श्रेष्ठ न हो जाए। उन्होंने गुरु दक्षिणा के बहाने एकलव्य का बाएँ हाथ का अंगूठा मांग लिया और यह सोचकर प्रसन्न हो गए कि काम बन गया। प्रगत में आशीष देते हुए बोले- 'धन्य हो वत्स! तुम्हारा यश युगों-युगों तक इस पृथ्वी पर अमर रहेगा।'

'आपकी कृपा है गुरुवर!' एकलव्य ने बाएँ हाथ का अंगूठा गुरु दक्षिणा में देकर विकलांग होने का प्रमाणपत्र बनवाया और छात्रवृत्ति का जुगाड़ कर लिया। छात्रवृत्ति के रुपयों से प्लास्टिक सर्जरी कराकर अंगूठा जुड़वाया और द्रोणाचार्य एवं अर्जुन को ठेंगा बताते हुए 'अंगूठा' चुनाव चिन्ह लेकर चुनाव समर में कूद पड़ा।

तब से उसके वंशज आदिवासी द्रोणाचार्य से शिक्षा न लेकर अंगूठा लगाने लगे।

19 comments:

  1. aadarniya aacharya ji ,

    I must say , its amazing story .. the way it turned into a political sattaire..

    waah saheb , aapki lekhni ko naman hai ..

    itni acchi vyangya rachna jo likh di hai aapne ..ye aaj ke bhaarat ki ek sacchai hai ..

    meri dil se badahi kabool kijiyenga .

    vijay

    उत्तर देंहटाएं
  2. गहरा कटाक्ष, गंभीर लघुकथा है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. पौराणिक घटना का कलात्मकता से आधुनिकीकरण हुआ है :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. मैंने इस से बेहतर लघु कथा आज तक नहीं पढी .. आचार्य को नमन |
    वैसे आचार्य का परिचय और लघुकथा दोनों की लम्बाई समान है... जो कि काफी दिलचस्प है . :-)

    उत्तर देंहटाएं
  5. सटीक कटाक्ष कम शब्दों में बहुत कुछ कह दिया आपने आचार्य जी.

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस लघुकथा के बारे में क्‍या कहा जाए !! गजब !!

    उत्तर देंहटाएं
  7. VICHAARPRADHAN KATHA MEIN VYANGYA
    HO TO USKAA MAHATTAV AUR BHEE BADH
    JAATAA HAI.UTTAM LAGHUKATHA KE LIYE
    ACHARYA "SALIL" JEE KO BADHAAEE.

    उत्तर देंहटाएं
  8. One of the best short story i have ever read. Thanks.

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  9. लघुकथा में गजब की काव्यात्मकता है। व्यंग्य की धार पैनी है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. तीखा कटाक्ष लिए गहरी लघु कथा.
    बधाई..

    उत्तर देंहटाएं
  11. kya hi tikha vyang .bahut khoob .
    saader
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  12. हमारे टीवी जगत में एक जुमला बड़ा आम है... फुटेज वेस्ट मत करो... जितने कम फुटेज में जितना ज्यादा काम की बात की जा सके, वो किया जाय... आगे का आशय आप समझ गए होंगे...
    दिव्यांशु जी से पूरी तरह सहमत... इससे बढ़िया लघुकथा मैंने भी नहीं पढी...
    सादर,
    खबरी

    उत्तर देंहटाएं
  13. कम शब्द...गहरी बात...
    तीखा व्यंग्य...

    एक शब्द में कहें तो...'ज़बरदस्त'

    ऐसी पलटी खाती कहानी मैँने आज तक नहीं पढी ....

    बहुत ही बढिया

    उत्तर देंहटाएं
  14. आदरणीय सलिल जी, अन्य पाठकों की तरह मैं भी इस लघुकथा को अपनी पढी लघुकथाओं में बहुत उँचा दर्जा प्रदान करता हूँ। इस लघुकथा को कहने का तरीका भी अनूठा है। व्यंग्य का पैनापन है, कविता के उपमान हैं और कथानक भी।

    उत्तर देंहटाएं
  15. verma jee
    bahut dino baad kuch accha padhne ko mila . etihas aur vyang ka jo mishran aapne hamare samne pesh kiya kabile gour hai.....
    aapko mil rahi subh kamnao ke dher me mujhe meri subhkamna ke gum hone ka dar sata raha hai par aapka ye hak hai jise chinne wala koe nahin.....
    meri badhae swikar karen
    vivekanand yadav

    उत्तर देंहटाएं
  16. आचार्य संजीव सलिल साहित्य शिल्पी का गौरव हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  17. किया आपने प्रदर्शित, मुझ अकिंच-प्रति प्रेम।
    आभारी हूँ ह्रदय से, चाहूँ सबकी क्षेम॥

    उत्तर देंहटाएं
  18. very nise ! bina anguthe ke kya teer mara hai jo sidha dronacharya ke dadaon ke laga hai..........

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget