हिन्दी के आह्वान से उपजे सब में प्यार |
हिन्दी की पूजा करो, औरों पर अधिकार ||

दुनिया में चलता नहीं एक भाषा से काम |
हिन्दी है सोना अगर, अन्य सुहागा समान ||

केवल हिंदी से नहीं, प्राप्त हो रोजगार |
अंग्रेजी अपनाइए, होवे बेड़ा पार ||

अंग्रेजी स्कूल में, हिंदी पावे ध्यान |
मिटे छत्तीस आंकड़ा, दुनिया दे सम्मान ||

हिंदी पूरे विश्व में, बंधा सकल परिवार |
मराठी तमिल तेलगू, सबमें होवे प्यार ||

सांस्कृतिक अवतार ये , सबको दे सम्मान |
भाषाओं के बीच में, हिंदी हो बलवान ||

हिंदी बंगाली सभी, बाकी सबके संग |
मराठी सहित सब करें आपस में सत्संग ||

11 comments:

  1. िअम्बरीश जी बहुत बहुत धन्य्वद इस कवित के लिये और हिन्दी के आह्वाहन के लिये शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  2. हिन्दी की महत्ता को उजागर करती अच्छी कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  3. अम्बरीश जी
    हिंदी जागरण के लिए आपके इस आह्वान में हम आपके साथ हैं. हिंदी की स्थापना के लिए आपका यह प्रयास सराहनीय है. सरल एवं बोधगम्य भाषा आपकी रचना का आकर्षण है.
    ---किरण सिन्धु.

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर भाव। मेरे हिसाब से कुछ संपादन की आवश्यकता है क्योंकि दोहे के नियम कहीं कहीं अवरुद्ध हो रहे हैं। अवसर निकालकर देख लीजियेगा। जहाँ तक हिन्दी के मान सम्मान की बात है इसमें तो शुरू से गलतियाँ हो रहीं हैं-

    किसी भी देश के नाम का न देखा अनुवाद।
    भारत इन्डिया बना हुआ है नहीं कोई प्रतिवाद।

    व्यक्तिवाचक संज्ञा के अनुवाद का नियम नहीं है।
    इन्डिया भारत बन न पाया इतनी बात सही है।।

    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com
    shyamalsuman@gmail.com

    उत्तर देंहटाएं
  5. श्यामल सुमन जी की बात से पूरी तरह सहमत हूँ। दोहों के भाव अच्छे हैं पर कुछ संपादन प्रस्तुतिकरण को भी बेहतर कर सकता था।
    काश! इन्डिया भारत बन पाता!

    उत्तर देंहटाएं
  6. हिन्दी की महत्वता पर एक सुन्दर काव्य रचना

    उत्तर देंहटाएं
  7. आदरणीय श्यामल सुमनजी, व अतुल्यजी,
    सुन्दर सी टिप्पणियों हेतु धन्यवाद |
    तथा श्यामल सुमनजी को इस सुन्दर से दोहे के लिए बधाई |

    १२ २१ २ २१ २, २ २२ ११२१
    किसी देश के नाम का, ना देखा अनुवाद।
    भारत बनता इन्डिया, ना कोई प्रतिवाद।
    २११ ११२ २१२, २ २२ ११२१

    आपसे सादर अनुरोध है कि उपरोक्त हिन्दी आह्वान से सम्बंधित दोहों का संपादन दोहे के नियमों के हिसाब से कर के मुझे ambarishji@gmail.com पर मेल कर दें ताकि प्रस्तुतिकरण को और भी बेहतर बनाया जा सके।
    साभार,
    अम्बरीष श्रीवास्तव
    वास्तुशिल्प अभियंता, सीतापुर

    उत्तर देंहटाएं
  8. आप सभी को सुन्दर सी टिप्पणियों हेतु धन्यवाद |

    साभार,
    अम्बरीष श्रीवास्तव
    वास्तुशिल्प अभियंता, सीतापुर

    उत्तर देंहटाएं
  9. desh aur hindi ki jaagruti ke upar likhi gayi is kavita ke liye meri badhai sweekar kijiye

    aapka

    vijay

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget