4 जून 1958 को सुलतानपुर (उ.प्र.) में जन्मे देवमणि पांडेय हिन्दी और संस्कृत में प्रथम श्रेणी एम.ए. हैं। अखिल भारतीय स्तर पर लोकप्रिय कवि और मंच संचालक के रूप में सक्रिय हैं। अब तक आपके दो काव्यसंग्रह प्रकाशित हो चुके हैं- "दिल की बातें" और "खुशबू की लकीरें"। मुम्बई में एक केंद्रीय सरकारी कार्यालय में कार्यरत पांडेय जी ने फ़िल्म 'पिंजर', 'हासिल' और 'कहाँ हो तुम' के अलावा कुछ सीरियलों में भी गीत लिखे हैं। फ़िल्म 'पिंजर' के गीत "चरखा चलाती माँ" को वर्ष 2003 के लिए 'बेस्ट लिरिक आफ दि इयर' पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। आपके द्वारा संपादित सांस्कृतिक निर्देशिका 'संस्कृति संगम' ने मुम्बई के रचनाकारों को एकजुट करने में अहम भूमिका निभाई है।

आप साहित्य शिल्पी पर भी नियमित प्रकाशित होते रहे हैं। आज आपके जन्म-दिवस पर साहित्य शिल्पी परिवार आपको हार्दिक शुभकामनायें देता है।


प्रस्तुत हैं देवमणि पाण्डेय जी की दो गज़लें:

**********

दिल ने चाहा बहुत पर मिला कुछ नहीं
ज़िन्दगी हसरतों के सिवा कुछ नहीं

उसने रुसवा सरेआम मुझको किया
उसके बारे में मैंने कहा कुछ नहीं

इश्क़ ने हमको सौग़ात में क्या दिया
ज़ख़्म ऐसे कि जिनकी दवा कुछ नहीं

पढ़ के देखीं किताबें मोहब्बत की सब
आँसुओं के अलावा लिखा कुछ नहीं

हर ख़ुशी मिल भी जाए तो क्या फ़ायदा
ग़म अगर न मिले तो मज़ा कुछ नहीं

ज़िन्दगी ये बता तुझसे कैसे मिलें
जीने वालों को तेरा पता कुछ नहीं

***************

नही और कोई कमी ज़िन्दगी में
चलो मिल के ढ़ूंढ़ें ख़ुशी ज़िन्दगी में

हज़ारों नहीं एक ख़्वाहिश है दिल में
मिले काश कोई कभी ज़िन्दगी में

अगर दिल किसी को बहुत चाहता है
उसे कर लो शामिल अभी ज़िन्दगी में

मोहब्बत की शाख़ों पे गुल तो खिलेंगे
अगर होगी थोड़ी नमी ज़िन्दगी में

निगाहों में ख़ुशबू क़दम बहके बहके
ये दिन भी हैं आते सभी ज़िन्दगी में

मिलेंगे बहुत चाहने वाले तुमको
मिलेगा न हमसा कभी ज़िन्दगी में

बिछड़कर किसी से न मर जाए कोई
वो मौसम न आए किसी ज़िन्दगी में

28 comments:

  1. इश्क़ ने हमको सौग़ात में क्या दिया
    ज़ख़्म ऐसे कि जिनकी दवा कुछ नहीं

    पढ़ के देखीं किताबें मोहब्बत की सब
    आँसुओं के अलावा लिखा कुछ नहीं

    नही और कोई कमी ज़िन्दगी में
    चलो मिल के ढ़ूंढ़ें ख़ुशी ज़िन्दगी में

    मोहब्बत की शाख़ों पे गुल तो खिलेंगे
    अगर होगी थोड़ी नमी ज़िन्दगी में

    बिछड़कर किसी से न मर जाए कोई
    वो मौसम न आए किसी ज़िन्दगी में

    एक से बढ कर एक शेर। देवमणि जी, जन्मदिवस की बहुत बहुत बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  2. देवमणि पाण्डेय जी को जन्मदिवस पर शुभकामनाएँ।
    दोनों ग़ज़लें सुन्दर हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  3. देवमणि जी आपको जन्मदिवस की शुभकामनायें। दोनों ही गज़लें अच्छी हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. देवमणि जी,
    जन्म दिन की बहुत - बहुत बधाई.
    दोनों ही ग़ज़लें लाजवाब, उत्तम.
    किस शे'र को कम यह अधिक कहूँ --सिर्फ वाह
    पर फिर भी--
    ज़िन्दगी ये बता तुझसे कैसे मिलें
    जीने वालों को तेरा पता कुछ नहीं

    हज़ारों नहीं एक ख़्वाहिश है दिल में
    मिले काश कोई कभी ज़िन्दगी में

    अगर दिल किसी को बहुत चाहता है
    उसे कर लो शामिल अभी ज़िन्दगी में

    नाज़ुक भावों की बेहतरीन अभिव्यक्ति
    बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  5. देवमणि जी जन्मदिवस मुबारक। ग़ज़लें साहित्य शिल्पी को सौगात हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  6. दिल ने चाहा बहुत पर मिला कुछ नहीं
    ज़िन्दगी हसरतों के सिवा कुछ नहीं
    ग़ज़लें खूब हैं। जन्मदिन की बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  7. Nice GaZals. Happy B' Day.

    Alok Kataria

    उत्तर देंहटाएं
  8. बधाई देवमणि पाण्डेय जी को।

    उत्तर देंहटाएं
  9. देवमणि जी की रचनायें मुझे प्रिय रही हैं। साहित्य शिल्पी पर उन्हे पढना सुखद लगता है। देवमणि जी को जन्मदिन की शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  10. जन्म दिन की हार्दिक शुभकामनायें. सुन्दर गजलें पढवाने के लिये धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  11. ज़िन्दगी ये बता तुझसे कैसे मिलें
    जीने वालों को तेरा पता कुछ नहीं
    bahut khoob kaha aapne
    मोहब्बत की शाख़ों पे गुल तो खिलेंगे
    अगर होगी थोड़ी नमी ज़िन्दगी में
    kya baat hai..wahwa!!
    janam din ki mubarakbaad kabool kareN.

    उत्तर देंहटाएं
  12. devmaniji ko janmdin ki badhai aur behatareen ghazaloN ke liye aabhar.

    उत्तर देंहटाएं
  13. हर ख़ुशी मिल भी जाए तो क्या फ़ायदा
    ग़म अगर न मिले तो मज़ा कुछ नहीं

    निगाहों में ख़ुशबू क़दम बहके बहके
    ये दिन भी हैं आते सभी ज़िन्दगी में

    बहुत कम ऐसा होता है की जो शख्श खूबसूरत शेर कहता हो वो खुद भी उतना ही दिलकश हो...देवमणि जी ऐसे ही खूबसूरत इंसान हैं जिनसे मिल कर तबियत खुश हो जाती है..और जिनकी बातों की खुशबु देर तक आपके साथ रहती है...मैं खुश नसीब हूँ की मुझे उनसे मिलने के एक आध मौके मिले हैं और हर बार उन्होंने ने अपनी शख्शियत और रचनाओं से प्रभावित किया है..इश्वर उन्हें लम्बी स्वस्थ ज़िन्दगी दे...
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  14. भाई देवमणि

    जन्मदिन की शुभकामनाएं। हमेशा की तरह तुम्हारी ग़ज़लें संवेदनाओं से भरपूर हैं। हम तुम्हें हमेशा एक युवा कवि एवं संचालक के तौर पर देखते रहे। पता ही नहीं चला कि पचास पूरे हो चुके हैं। बस इसी तरह युवा बने रहो।

    तेजेन्द्र शर्मा
    कथा यू.के. (लंदन)

    उत्तर देंहटाएं
  15. हार्दिक शुभकामनायें देवमणि जी। बहुत अच्छी ग़ज़लें भी हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  16. devmaniji,
    sabse pahle toh aapko hardik badhai aapke janm divas k liye aur phir badhaaiyan aapki behtareen ghazlon k liye ..bahut umda hain bhai dono ghazlen.......main bahut kuchh in par likhne k mood men hoon lekin abhi k abhi mujhe ahemdabad se baroda jana hai isliye ....sirf aur sirf badhaai..lekin badhaai dil se...............
    -albela khatri
    www.albelakhatri.com

    उत्तर देंहटाएं
  17. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  18. देवमणि जी को जन्मदिवस की मुबारकबाद।

    उत्तर देंहटाएं
  19. जन्मदिन की बहुत बहुत शुभकामनाए.. अच्छी गज़ल बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  20. BHAI DEVMANI JEE,
    AAPKE JANMDIVAS PAR
    AAPKO DHERON BADHAAEEYAN
    AAPKEE DONO GAZALEN
    KHOOB HAIN.EK BAAR AUR
    DHERON BADHAAEEYAN.

    उत्तर देंहटाएं
  21. ज़िन्दगी ये बता तुझसे कैसे मिलें
    जीने वालों को तेरा पता कुछ नहीं

    ***************

    नही और कोई कमी ज़िन्दगी में
    चलो मिल के ढ़ूंढ़ें ख़ुशी ज़िन्दगी में

    क्या बात कही आपने.....
    प्रशंसा क्या करूँ शब्दहीन हो गयी....

    अद्भुद !! अद्वितीय !!

    उत्तर देंहटाएं
  22. मुबारक हो भाई बधाई हमारी.
    हँसो फूल बनकर सदा ज़िन्दगी में.

    उत्तर देंहटाएं
  23. देवमणि साब को पढ़ना हमेशा से बेमिसाल अनुभव रहा है...
    जन्म-दिन की बधाईयां

    उत्तर देंहटाएं
  24. janm din pr aap ne humsabhi ko itni sunder gazalon ka tohfa diya .aap ko janmdin ki dheron subhkamnayen
    saader
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  25. पहली गजल ख़ास पसंद आयी

    वीनस केसरी

    उत्तर देंहटाएं
  26. बधाई हो देवमणि पाण्डेय जी को जन्मदिवस पर ये दोनों ग़ज़लें लाजवाब हैं........सुन्दर हैं ................

    उत्तर देंहटाएं
  27. मेरा एक शेर है-

    झमेले बहुत ज़िंदगानी के हैं
    तुझे भूल जाऊँ ख़ुदा न करे

    यही हुआ । आज आप सबसे मिलने का अवसर मिला । इस मोहब्बत के लिए शुक्रगुज़ार हूँ । जन्मदिन के इस ख़ूबसूरत उपहार के लिए साहित्य शिल्पी का कृतज्ञ हूँ ।

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget