इस सिलसिले के पिछले लेख में हमने जाना कि कैसे कैफ़ी साहब के वालिद ने उन्हें मौलवी बनने के लिये सुल्तानुलमदारिस में दाखिल करा दिया। सुल्तानुलमदारिस में दाखिल होने के कुछ अर्से बाद ही कैफ़ी साहब ने वहाँ के छात्रों की एक कमेटी गठित की और अपनी कुछ माँगे व्यवस्था-समिति के सामने रखीं. माँगें न माने जाने की सूरत में हड़ताल की गई. यहीं कैफ़ी साहब की इन्कलाबी शायरी की शुरुआत हुई. कमेटी की मीटिंगों में वे अपनी नज़्में पढ़ कर सुनाते और अपने साथियों में जोश पैदा करते. ऐसी ही एक नज़्म अचानक वहाँ से गुजरते हुये उर्दू के मशहूर साहित्यकार अली अब्बास हुसैनी ने सुनी तो उन्होंने कैफ़ी को अपने घर बुला कर नज़्म की तारीफ़ की. उन्हीं के ज़रिये न केवल वह नज़्म दैनिक ’सरफ़राज़’ में छपी बल्कि उनकी हड़ताल के समर्थन में सम्पादकीय भी छपा. यहीं उनकी मुलाकात अलीसरदार ज़ाफ़री साहब से हुई. आखिरकार छात्र-कमेटी की माँगें मान लीं गईं और हड़ताल खत्म हुई लेकिन कैफ़ी साहब को सुल्तानुलमदारिस से निकाल दिया गया. इसके बाद भी प्राइवेट विद्यार्थी के तौर पर उन्होंने उर्दू, अरबी और फ़ारसी की पढ़ाई जारी रखी.

रचनाकार परिचय:-


अजय यादव अजय यादव अंतर्जाल पर सक्रिय हैं तथा आपकी रचनायें कई प्रमुख अंतर्जाल पत्रिकाओं पर प्रकाशित हैं।

आप साहित्य शिल्पी के संचालक सदस्यों में हैं|

कुछ समय बाद लखनऊ छोड़ कर वे कानपुर आ गये. यहाँ उनकी पहचान मज़दूर-सभा के कार्यकर्ताओं से हुई जो उन्हें कम्युनिस्ट पार्टी का साहित्य देने लगे. और लखनऊ में कांग्रेस की प्रभात-फेरियों और सत्याग्रहों में शामिल रहने वाले युवा कैफ़ी क्म्युनिज़्म की तरफ झुकते गये. महज़ २४ की उम्र में वे कम्युनिस्ट पार्टी के सदस्य बन गये थे. पार्टी के दिशा-निर्देशों के अनुसार यहाँ कैफ़ी साहब ने पूर्णकालिक मज़दूर के रूप में काम करना शुरू कर दिय़ा. कुछ समय बाद, तत्कालीन बंबई को कार्यक्षेत्र बनाने का आदेश मिलने पर वे वहाँ चले गये.

इस सबके साथ-साथ देश भर में हो रहे मुशायरों में भी वे बराबर शिरकत करते रहे. ऐसे ही एक मुशाइरे के दौरान हैदराबाद में उनकी मुलाकात शौकत से हुई और जल्द ही उन्होंने शादी कर ली. शौकत कैफ़ी थियेटर करतीं थीं. बंबई आकर उन्होंने ’पृथ्वी थियेटर’ में काम करना शुरू कर दिया. ये शौकत ही थीं जिनकी वजह से कैफ़ी पारिवारिक दायित्वों की बहुत अधिक परवाह किये बिना समर्पित होकर अपने सामाजिक कार्यों में लगे रह सके.
शौकत को समर्पित उनकी एक नज़्म देखें:

ऐसा झोंका भी इक आया था के दिल बुझने लगा
तूने इस हाल में भी मुझको संभाले रक्खा

कुछ अंधेरे जो मिरे दम से मिले थे मुझको
आफ़रीं तुझ को, के नाम उनका उजाले रक्खा

मेरे ये सज़्दे जो आवारा भी बदनाम भी हैं
अपनी चौखट पे सजा ले जो तिरे काम के हों

बात शौकत कैफ़ी की आई है तो आइये देखें कि कैफ़ी साहब ने औरत की अहमियत को क्या स्थान दिया है; उनकी मशहूर नज़्म ’औरत’ में:

उठ मेरी जान! मेरे साथ ही चलना है तुझे

कल्ब-ए-माहौल में लरज़ाँ शरर-ए-ज़ंग हैं आज
हौसले वक़्त के और ज़ीस्त के यक रंग हैं आज
आबगीनों में तपां वलवला-ए-संग हैं आज
हुस्न और इश्क हम आवाज़ व हमआहंग हैं आज
जिसमें जलता हूँ उसी आग में जलना है तुझे
उठ मेरी जान! मेरे साथ ही चलना है तुझे

ज़िन्दगी जहद में है सब्र के काबू में नहीं
नब्ज़-ए-हस्ती का लहू कांपते आँसू में नहीं
उड़ने खुलने में है नक़्हत ख़म-ए-गेसू में नहीं
ज़न्नत इक और है जो मर्द के पहलू में नहीं
उसकी आज़ाद रविश पर भी मचलना है तुझे
उठ मेरी जान! मेरे साथ ही चलना है तुझे

गोशे-गोशे में सुलगती है चिता तेरे लिये
फ़र्ज़ का भेस बदलती है क़ज़ा तेरे लिये
क़हर है तेरी हर इक नर्म अदा तेरे लिये
ज़हर ही ज़हर है दुनिया की हवा तेरे लिये
रुत बदल डाल अगर फूलना फलना है तुझे
उठ मेरी जान! मेरे साथ ही चलना है तुझे

क़द्र अब तक तिरी तारीख़ ने जानी ही नहीं
तुझ में शोले भी हैं बस अश्कफ़िशानी ही नहीं
तू हक़ीक़त भी है दिलचस्प कहानी ही नहीं
तेरी हस्ती भी है इक चीज़ जवानी ही नहीं
अपनी तारीख़ का उनवान बदलना है तुझे
उठ मेरी जान! मेरे साथ ही चलना है तुझे

तोड़ कर रस्म के बुत बन्द-ए-क़दामत से निकल
ज़ोफ़-ए-इशरत से निकल वहम-ए-नज़ाकत से निकल
नफ़स के खींचे हुये हल्क़ा-ए-अज़मत से निकल
क़ैद बन जाये मुहब्बत तो मुहब्बत से निकल
राह का ख़ार ही क्या गुल भी कुचलना है तुझे
उठ मेरी जान! मेरे साथ ही चलना है तुझे

तोड़ ये अज़्म शिकन दग़दग़ा-ए-पन्द भी तोड़
तेरी ख़ातिर है जो ज़ंजीर वह सौगंध भी तोड़
तौक़ यह भी है ज़मर्रूद का गुल बन्द भी तोड़
तोड़ पैमाना-ए-मरदान-ए-ख़िरदमन्द भी तोड़
बन के तूफ़ान छलकना है उबलना है तुझे
उठ मेरी जान! मेरे साथ ही चलना है तुझे

तू फ़लातून व अरस्तू है तू ज़ोहरा परवीन
तेरे क़ब्ज़े में ग़रदूँ तेरी ठोकर में ज़मीं
हाँ उठा जल्द उठा पा-ए-मुक़द्दर से ज़बीं
मैं भी रुकने का नहीं वक़्त भी रुकने का नहीं
लड़खड़ाएगी कहाँ तक कि संभलना है तुझे
उठ मेरी जान! मेरे साथ ही चलना है तुझे

इस नज़्म को आइये सुनते हैं खुद क़ैफ़ी साहब की आवाज़ में:


और अंत में सुनते हैं क़ैफ़ी साहब की लिखी एक खूबसूरत गज़ल जिसे 1970 में आई फिल्म ’हँसते ज़ख्म’ के लिये लता जी ने मदन मोहन जी के संगीत-निर्देशन में गाया था.

ग़ज़ल के बोल हैं:

आज सोचा तो आँसू भर आए
मुद्दतें हो गईं मुस्कुराए

हर कदम पर उधर मुड़ के देखा -२
उनकी महफ़िल से हम उठ तो आए
आज सोचा ...

दिल की नाज़ुक रगें टूटती हैं -२
याद इतना भी कोई न आए
आज सोचा ...

रह गई ज़िंदगी दर्द बनके -२
दर्द दिल में छुपाए छुपाए

तो आइये सुनें ये ग़ज़ल:



इस श्रंखला के पिछले लेख:
1) कैफ़ी आज़मी : ज़िन्दगी और शायरी [भाग-१], 2) दोशीज़: मालिन (कैफ़ी साहब की एक खूबसूरत नज़्म)

12 comments:

  1. अजय जी कैफ़ी जी पर जो जानकारी और संकलन आपने जुटाया है वह तारीफ के काबिल है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. जब भी आप कोई लेख सिरीज में देते हैं तो पिछले लेखों को जरूर लिंक के रूप में भी दें। इससे पाठक को सुविधा रहती है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत अच्छा संकलन और लेख।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आजमी साहब के व्‍यक्तित्‍व एवं कृतित्‍व के विभिन्‍न पहलुओं के बारे में जानकर अच्‍छा लगा।

    -Zakir Ali ‘Rajnish’
    { Secretary-TSALIIM & SBAI }

    उत्तर देंहटाएं
  5. कैफ़ी आजमी जी पर जानकारी प्रद लेख के संकलन के लिये अजय जी का आभार. एक जगह पर इस तरह की सामाग्री नेट पर मिलना नामुमकिन है.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत खूब प्रस्तुति अजय भाई | कैफी साहब जैसे क़दीम और इंकलाबी शायर को एक दो आलेख में बाँध पाना संभव नहीं है | आलेख माला सही दिशा में जा रही है |
    "औरत" नज़्म का उल्लेख भी अच्छा रहा | ( गौर ए तलब है कि महिला आरक्षण बिल की नुमाइंदगी जोर पकड़ रही है :-) ) कहते हैं हैदराबाद में एक मुशायरे में कैफेई साहब कि इस नज़्म को सुन कर एक लड़की ने अपनी मंगनी तोड़ ली थी ... यही लड़की आगे जा कर कैफी साहब की बीवी बनी ... :-)

    उत्तर देंहटाएं
  7. क़ैफ़ी आज़मी साब के बारे में इतना कुछ जानना...शुक्रिया अजय जी। उनके इस शेर को गुनगुनाकर जाने कितनी ही इश्क की दुश्वार रातें आसान हो गयीं "दिल की नाज़ुक रगें टूटती हैं
    याद इतना भी कोई न आए"

    उत्तर देंहटाएं
  8. अजाओ मे बहते होगे आन्सू, यहा लहू तो नही,
    ये कोई और जगह होगि, लखनऊ तो नही॥

    वाह साहब, अच्छे याद दिलाये आपने उनके शेर…
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  9. आज सोचा तो आंसू भर आये............वाह अजय जी....लाजवाब जानकारी शाएरी के स्तम्भ के बारे में.......... अच्छा लेख

    उत्तर देंहटाएं
  10. दिलचस्प.....आपने मेहनत से उनकी सामग्री जुटाई है.....

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget