रचनाकार परिचय:-


आकांक्षा यादव अनेक पुरस्कारों से सम्मानित और एक सुपरिचित रचनाकार हैं।
राजकीय बालिका इंटर कालेज, कानपुर में प्रवक्ता के रूप में कार्यरत आकांक्षा जी की कवितायें कई प्रतिष्ठित काव्य-संकलनों में सम्मिलित हैं।
आपने "क्रांति यज्ञ: 1857 - 1947 की गाथा" पुस्तक में संपादन सहयोग भी किया है।

खत्म होती वृक्षों की दुनिया
पक्षी कहाँ पर वास करें
किससे अपना दुखड़ा रोयें
किससे वो सवाल करें

कंक्रीटों की इस दुनिया में
तपिश सहना भी हुआ मुश्किल
मानवता के अस्थि-पंजर टूटे
पृथ्वी नित् हो रही विकल

सिर्फ पर्यावरण के नारों से
धरती पर होता चहुँ ओर शोर
कैसे बचे धरती का जीवन
नहीं सोचता कोई इसकी ओर।

29 comments:

  1. बहुत अच्छा अकान्छा जी किसी के पास ये सोचने की फुर्शत ही कहाँ है याद तो तब आएगी जब सब ख़त्म हो जायेगा
    सादर
    प्रवीण पथिक

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. पर्यावरण संरक्षण को प्रेरित करना आज की जरुरत है.अन्यथा मानव-जीवन खतरे में पड़ जायेगा.आपकी कविता समयानुकूल है..बधाई !!

    उत्तर देंहटाएं
  4. आकांक्षा जी! पर्यावरण को बचाने और लोगों को जागरूक करने की ओर मैं भी जुडा हुआ हैं. साहित्याशिल्पी पर इस सम्बन्ध में आपकी इतनी लाजवाब कविता देखकर टिपण्णी करने से रोक नहीं पाया....बहुत-बहुत आभार आपके इस सदप्रयास के लिए.

    उत्तर देंहटाएं
  5. साहित्याशिल्पी पर लम्बे समय बाद आकांक्षा जी की रचना पढ़ रहा हूँ. कम शब्दों में बड़ी बात....हर किसी का प्रयास ही अंतत: रंग लायेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  6. खत्म होती वृक्षों की दुनिया
    पक्षी कहाँ पर वास करें
    किससे अपना दुखड़ा रोयें
    किससे वो सवाल करें
    .....आज के परिवेश में बेहद सार्थक सवाल उठती कविता..इस पर चिंतन की जरुरत है.आकांक्षा जी को ऐसी सुन्दर प्रस्तुति के लिए बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  7. सिर्फ कविता ही नहीं सुन्दर सन्देश भी....बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  8. साहित्याशिल्पी पर पहली बार आया हूँ. आकांक्षा यादव जी की लेखनी प्रभावित करती है....

    उत्तर देंहटाएं
  9. साहित्याशिल्पी पर पहली बार आया हूँ. आकांक्षा यादव जी की लेखनी प्रभावित करती है....

    उत्तर देंहटाएं
  10. यदि अभी नहीं चेते तो धरा को विकल होने से कोई नहीं बचा पायेगा....सभी लोगों को कदम उठाने की जरुरत है.

    उत्तर देंहटाएं
  11. लाजवाब कविता....इससे आपके सामाजिक सरोकारों की झलक मिलती है.

    उत्तर देंहटाएं
  12. खुले स्थानों पर गन्दगी फैलाना,कचरा डालना और जलाना,प्लास्टिक की थैलियों का प्रयोग करना,भूमिगत जल को गन्दा करना आदि अनेक ऐसे कार्य है जिन पर हम स्वत रोक लगा सकते है!लेकिन हम. ऐसा ना करके सरकार के कदम का इंतजार करते है! आज हम ये छोटे किंतु महत्त्व पूरण कदम उठा कर पर्यावरण सरंक्षण में अपना अमूल्य योगदान दे सकते है !!
    _______________________________
    ....यही है युवा का सन्देश. आप भी शरीक हों !!

    उत्तर देंहटाएं
  13. अतिसुन्दर आकांक्षा जी. पर्यावरण पर आपकी कविता पढ़कर मन प्रफुल्लित हो उठा.

    उत्तर देंहटाएं
  14. सिर्फ पर्यावरण के नारों से
    धरती पर होता चहुँ ओर शोर
    कैसे बचे धरती का जीवन
    नहीं सोचता कोई इसकी ओर।
    ____________________________
    वर्तमान दौर में पर्यावरण के नाम पर हो रहे मजाक को उकेरती पंक्तियाँ....आपकी कविता भावों से भरी है और विचारों से भी.

    उत्तर देंहटाएं
  15. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  16. खत्म होती वृक्षों की दुनिया
    पक्षी कहाँ पर वास करें
    किससे अपना दुखड़ा रोयें
    किससे वो सवाल करें
    EXCELLENT
    REALLY, HUM BIRDS KE BARE MEIN NA SOCH KAR SAWARTHI BA GAYE H.
    SHUKRIYA.
    DHANYAVAD.

    उत्तर देंहटाएं
  17. आज जरुरत है कि भारत समेत पूरे विश्व को एक पवित्र अभियान से जोड़ते हुए न सिर्फ वृक्षारोपण की तरफ अग्रसर होना चाहिए बल्कि ग्रीन हाउस गैसों के उत्सर्जन को कम करने की दिशा में भी प्रभावी कदम उठाने होंगे। तो आइये हम संकल्प लें कि इस दिन हम एक वृक्ष अवश्य लगायेंगे, न सिर्फ लगायेंगे बल्कि इसके फलने-फूलने की जिम्मेदारियों का भी निर्वाह करेंगे।....तभी पृथ्वी विकल होने से बचेगी.

    उत्तर देंहटाएं
  18. खत्म होती वृक्षों की दुनिया
    पक्षी कहाँ पर वास करें
    किससे अपना दुखड़ा रोयें
    किससे वो सवाल करें
    EXCELLENT
    REALLY, HUM BIRDS KE BARE MEIN NA SOCH KAR SAWARTHI BAN GAYE H.
    SHUKRIYA.
    DHANYAVAD.
    hpsshergarh@gmail.com
    RAMESH SACHDEVA
    DIRECTOR,
    HPS DAY-BOARDING SENIOR SECONDARY SCHOOL,
    "A SCHOOL WHERE LEARNING & STUDYING @ SPEED OF THOUGHTS"
    SHERGARH (M.DABWALI)-125104
    DISTT. SIRSA (HARYANA) - INDIA
    HERE DREAMS ARE TAKING SHAPE
    +91-1668-230327, 229327

    उत्तर देंहटाएं
  19. सुनहरा सन्देश देती सुन्दर कविता.......... आज की ज़रुरत है पर्यावरण की समस्या को समझने की

    उत्तर देंहटाएं
  20. कविता के माध्यम से आपने सही बात कही. दुर्भाग्यवश आजकल पर्यावरण कि रक्षा और वृक्षारोपण के नाम पर तमाम NGO और सरकारी विभाग अपनी जेबें भर रहे हैं. उन्हें शायद एहसास नहीं कि जीवन ही नहीं रहेगा तो इस करतूत का क्या करेंगे. आपकी अन्य रचनाएँ पढना चाहूँगा.

    उत्तर देंहटाएं
  21. पर्यावरण और उससे जुड़े मुद्दों के प्रति आम धारणा बदलने में साहित्यकार/समाजसेवी महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं। आप कविताओं से यूँ ही अलख जगाती रहें आकांक्षा जी....शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  22. पर्यावरण और उससे जुड़े मुद्दों के प्रति आम धारणा बदलने में साहित्यकार/समाजसेवी महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं। आप कविताओं से यूँ ही अलख जगाती रहें आकांक्षा जी....शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  23. पर्यावरन पर अच्छी रचना... badhai Sweekaare.
    अच्छा लगा आपको पढना...!

    उत्तर देंहटाएं
  24. अच्छी सामयिक रचना है।बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  25. न सावन के झुले होंगें, न बालू के टीले होंगें नदियो के नाम ही होंगें, पथ पथरीले ही होंगें कुछ करें वक्त रहते,अपने लिये गिद्द मंडराते होंगें आकांक्षा जिवन की मिटे, यदि पेड युं ही कटे

    उत्तर देंहटाएं
  26. बहुत अच्छी कविता.....सन्देश भी सटीक....पर्यावरण के साथ खिलवाड़ करके मनुष्य न केवल अपने लिए अपितु भोले-भाले पशु-पक्षियों के लिए भी संकट पैदा कर रहा है......लेकिन स्वार्थी मनुष्य ये कब समझेगा??

    साभार
    हमसफ़र यादों का.......

    उत्तर देंहटाएं
  27. आकांक्षा जी,

    कविता एक सवाल उठाती है हमारी सामूहिक जिम्मेवारी पर और उत्तरदेहिता पर। हम सभी महिमा मंडन के संस्कारों से बाहर आ ही नही पा रहे हैं, सिर्फ नारा नही चलेगा, यह जीवन की बात है कुछ करना पड़ेगा हम से हर एक को।

    बधाईयाँ।

    सादर,

    मुकेश कुमार तिवारी

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget