मैं वाकिफ हूं
नाबीना तो नहीं हूं
तुम्हारे हांथों को देखा है मैंने

रोज धूप में सिके सिकाए हाँथ
जब सर में फेरते हो तो
पथरीली आँखों को बोझिल कर जाते हो

सुबह-सुबह की वो गरमा-गरम चाय
तुम्हारे बाद भी जीभ जलाती रहेगी

साहित्य शिल्पीरचनाकार परिचय:-


धीरेन्द्र सिंह का जन्म १० जुलाई १९८७ को छतरपुर जिले के चंदला नाम के गाँव में हुआ था| आपने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा चंदला में ही पूरी की। वर्तमान में आप इंदौर में अभियन्त्रिकी में द्वितीय वर्ष के छात्र हैं| कविताएँ लिखने का शौक आपको अल्पायु से ही था, किन्तु पन्नो में लिखना कक्षा नवीं से प्रारंभ किया| आप हिंदी और उर्दू दोनों भाषाओं में रचनाएं लिखते हैं। आपका 'काफ़िर' तखल्लुस है|

15 comments:

  1. रोज धूप में सिके सिकाए हाँथ
    जब सर में फेरते हो तो
    पथरीली आँखों को बोझिल कर जाते हो

    ..........मर्म स्पर्शी

    शुभकामना

    उत्तर देंहटाएं
  2. मैं वाकिफ हूं
    नाबीना तो नहीं हूं
    तुम्हारे हांथों को देखा है मैंने

    ये पंक्तियाँ अच्छी लगीं।
    थोड़ी और बड़ी होती तो मज़ा आ जाता।

    बधाई स्वीकारें।
    -विश्व दीपक

    उत्तर देंहटाएं
  3. पिता को समर्पित अच्छी रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  4. रोज धूप में सिके सिकाए हाँथ
    जब सर में फेरते हो तो
    पथरीली आँखों को बोझिल कर जाते हो

    अच्छे मनोभाव।

    उत्तर देंहटाएं
  5. छोटी किंतु अच्छी

    अनुज कुमार सिन्हा

    भागलपुर

    उत्तर देंहटाएं
  6. रोज धूप में सिके सिकाए हाँथ
    जब सर में फेरते हो तो
    पथरीली आँखों को बोझिल कर जाते हो
    ...
    ..
    .

    पिता के लाड़ सी अधूरी रचना...

    खबरी

    उत्तर देंहटाएं
  7. कविता बहुत अच्छी है इसे इस रौ में आगे बढाईये। मुझे भी यह अभी अधूरी लग रही है।

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुबह-सुबह की वो गरमा-गरम चाय
    तुम्हारे बाद भी जीभ जलाती रहेगी
    सच में मित्र बहुत ही बेहतरीन कविता वो दिन भुलाये ही नहीं जा सकते

    उत्तर देंहटाएं
  9. pathrili aankhon ko bojhil karne ki baat seedhe dil me utar gayi
    waah waah waah
    kya baat hai !

    उत्तर देंहटाएं
  10. nishabd kar diya dheerendra ji aapne to ... itni shashakt rachna padhne ke baad ab kya kahun .. mere paas shabd nahi hai ...

    salaam karunga aapki lekhni ko ...


    vijay

    उत्तर देंहटाएं
  11. रोज धूप में सिके सिकाए हाँथ
    जब सर में फेरते हो तो
    पथरीली आँखों को बोझिल कर जाते हो

    दिल को choone wali कविता.............

    उत्तर देंहटाएं
  12. PRIY DHEERENDRA JEE,
    AAPKEE KAVITA"TUMHARE
    BAAD BHEE" CHHOTEE HOTE HUE BHEE
    BADEE LAGEE HAI.MEREE BADHAAEE
    SWEEKAAR KIJIYE.

    उत्तर देंहटाएं
  13. priy jyeshth paathako aapne meri rachna saraahi.......bahut-ahut aabhari hun...

    pran ji aapne bhi saraaha aapka bhi bahut ahut shukriya....

    उत्तर देंहटाएं
  14. धीरेन्द्र जी आपकी रचनाएँ हमेसा से ही एक गहराई लिए होती है जहाँ तक पहुँच पाना सभी के बस की बात नहीं !आपकी वही छवि इस रचना में भी है,बहुत कम लोग है जो पिता के बारे में लिखते है आपने इस रचना से पिता के प्रेम और उनकी नयी छवि पेस की है जिसके लिए आपको उन सभी लोगो की तरफ से धन्यवाद् जो पिता से प्रेम करते है हम आपसे आंगे भी ऐसी कामना रखते है! आपका मित्र -शिवम् द्विवेदी

    उत्तर देंहटाएं
  15. सँक्षिप्त किँतु, ह्र्दयग्राही रचना
    - लावण्या

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget