वरिष्ठ कवि एवं साहित्य कार महेन्द्र भटनागर का जन्म 26 जून 1926 को हुआ था। इतने लम्बे समय से साहित्य की सेवा में रत आदरणीय महेन्द्र भटनागर जी का आज जन्मदिवस है। साहित्य शिल्पी परिवार उन्हें शुभकामनायें देता है तथा उनके दीर्घायु होने की कामना करता है।

आज आदरणीय महेन्द्र भटनागर जी के जन्मदिवस के अवसर पर प्रस्तुत है उनकी ही दो कवितायें:-

*****

निष्कर्ष

ज़िन्दगी में प्यार से सुन्दर
कहीं
कुभी भी नहीं !
कुछ भी नहीं !

रचनाकार परिचय:-


महेन्द्र भटनागर जी वरिष्ठ रचनाकार है जिनका हिन्दी व अंग्रेजी साहित्य पर समान दखल है। सन् 1941 से आरंभ आपकी रचनाशीलता आज भी अनवरत जारी है। आपकी प्रथम प्रकाशित कविता 'हुंकार' है; जो 'विशाल भारत' (कलकत्ता) के मार्च 1944 के अंक में प्रकाशित हुई। आप सन् 1946 से प्रगतिवादी काव्यान्दोलन से सक्रिय रूप से सम्बद्ध रहे हैं तथा प्रगतिशील हिन्दी कविता के द्वितीय उत्थान के चर्चित हस्ताक्षर माने जाते हैं। समाजार्थिक यथार्थ के अतिरिक्त आपके अन्य प्रमुख काव्य-विषय प्रेम, प्रकृति, व जीवन-दर्शन रहे हैं। आपने छंदबद्ध और मुक्त-छंद दोनों में काव्य-सॄष्टि की है। आपका अधिकांश साहित्य 'महेंद्र भटनागर-समग्र' के छह-खंडों में एवं काव्य-सृष्टि 'महेंद्रभटनागर की कविता-गंगा' के तीन खंडों में प्रकाशित है। अंतर्जाल पर भी आप सक्रिय हैं।

जन्म यदि वरदान है तो
इसलिए ही, इसलिए !
मोह से मोहक सुगंधित
प्राण हैं तो इसलिए !

ज़िन्दगी में प्यार से सुखकर
कहीं
कुछ भी नहीं !
कुछ भी नहीं !

प्यार है तो ज़िन्दगी महका
हुआ इक फूल है !
अन्यथा; हर क्षण, हृदय में
तीव्र चुभता शूल है !

ज़िन्दगी में प्यार से दुष्कर
कहीं
कुछ भी नहीं !
कुछ भी नहीं !

*****

यथार्थ

राह का
नहीं है अंत
चलते रहेंगे हम!

दूर तक फैला
अँधेरा
नहीं होगा ज़रा भी कम!

टिमटिमाते दीप से
अहर्निश
जलते रहेंगे हम!

साँसें मिली हैं
मात्र गिनती की
अचानक एक दिन
धड़कन हृदय की जायगी थम!

समझते-बूझते सब
मृत्यु को छलते रहेंगे हम!

हर चरण पर
मंज़िलें होती कहाँ हैं?
ज़िन्दगी में
कंकड़ों के ढेर हैं
मोती कहाँ हैं?

20 comments:

  1. महेन्द्र भटनागर जी को जन्मदिवस की शुभकामनायें।

    समझते-बूझते सब
    मृत्यु को छलते रहेंगे हम!

    हर चरण पर
    मंज़िलें होती कहाँ हैं?
    ज़िन्दगी में
    कंकड़ों के ढेर हैं
    मोती कहाँ हैं?

    उत्तर देंहटाएं
  2. महेन्द्र जी की रचनायें उनक विशिष्ठ शिल्प और कथ्य के लिये मुझे प्रिय हैं। जन्मदिवस की शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  3. महेन्द्र बटनागर चौरासी वर्षीय युवा है। उनकी कविता आज भी समय से कदम मिला कर चल रही है और उसमें नयापन ही है।

    आज जन्मदिवस पर शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  4. जन्मदिवस पर शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  5. जन्मदिन पर महेन्द्र भटनागर जी शुभकामनायें और उनकी काव्य-प्रतिभा को प्रणाम!

    उत्तर देंहटाएं
  6. महेन्द्र जी को जन्मदिन की ढेरों शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  7. शुभकामनायें महेन्द्र जी।

    उत्तर देंहटाएं
  8. जन्मदिवस की शुभ व मँगल कामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  9. भटनागर जी को जन्मदिन की ढेरों शुभकामनायें.
    सुन्दर रचनाये पढवाने के लिये आभार.

    कंकडों के ढेर में से जो मोती चुन ले वही तो "हंस" है..

    उत्तर देंहटाएं
  10. हर चरण पर
    मंज़िलें होती कहाँ हैं?
    ज़िन्दगी में
    कंकड़ों के ढेर हैं
    मोती कहाँ हैं?

    अनुभव से परिपूर्ण रचनायें। शुभकामनायें महेन्द्र भटनागर जी।

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत अच्छी कवितायें, जन्मदिवस की शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  12. आदरणीय भटनागर जी को जन्म दिन की बहूत बहूत बधाई ..... प्यार को बांटती .......... प्यार को ही जीवन का सार मानती लाजवाब रचना है उनकी..... आप का आभार रचना पढ़वाने के लिए

    उत्तर देंहटाएं
  13. सुन्दर कवितायेँ .. वाकई प्यार जितना सुन्दर है उतना ही दुष्कर भी ...

    "साँसें मिली हैं
    मात्र गिनती की
    अचानक एक दिन
    धड़कन हृदय की जायगी थम!

    समझते-बूझते सब
    मृत्यु को छलते रहेंगे हम!"

    ये पंक्तियाँ युधिष्ठिर से पूछे गए यक्ष प्रश्न का स्मरण करा गयीं , जिसमें पूछा गया था कि "सब से बड़ा आश्चर्य क्या है ?" और युधिष्ठिर ने उत्तर दिया था कि "ये जानते हुए भी कि प्रतिदिन असंख्य लोग मरते हैं , अमरत्व की लालसा जीवित है , यही सब से बड़ा आश्चर्य है " ...
    बहुत सरल और बहुत गहरी कविता जो बताती हैं की महेंद्र भटनागर इतने सफल साहित्यकार क्यूँ हैं |
    जन्मदिन की बधाई भी प्रेषित करता हूँ |

    उत्तर देंहटाएं
  14. BHATNAGAR JEE,
    APNE JANM DIWAS PAR MEREE
    BADHAAEE SWEEKAAR KIJIYE.
    AAPKEE DONO KAVITAYEN BHEE
    ACHCHHEE LAGEE HAIN.UNKEE BHEE
    BADHAAEE.

    उत्तर देंहटाएं
  15. आदरणीय महेन्द्र भटनागर जी को मेरी ओर से तथा साहित्य शिल्पी परिवार की ओर से जन्मदिवस की हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  16. aap ko janm din ki shubhkamnayen.ap ki rachnaye sada man mohti hai
    saader
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  17. जन्म दिन की शुभ कामनाएँ-
    बहुत -बहुत बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  18. bhatnaagarji,

    janm divas ki
    hardik shubh kaamnaayen

    aapki kavitaayen padh kar man aur aatmaa bheetar tak tript ho gaye

    abhinandan !

    उत्तर देंहटाएं
  19. 'साहित्य-शिल्पी' के जागरूक और सुधी पाठकों के प्रति कृतज्ञ हूँ।
    *महेंद्रभटनागर
    [सेवानिवृत्त प्रोफ़ेसर]
    फ़ोन : ०७५१-४०९२९०८

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget