आओ एक परिवार बनाएँ,
रिश्ते खून से नहीं दर्द से बना करते हैं.
तुम मेरी आँखों के आँसू पोंछ देना,
मैं तुम्हारे होठों पर मुस्कान सजा दूँ.
हम लड़ें अपनी परिस्थितियों से,
और एक दूसरे की जीत का महोत्सव मनाएँ,
बँटवारा जमीन नहीं, हमारे सुख - दुःख का हो,
क्योंकि जमीन पर खिंछी हुई लकीर,
हृदय को भी बाँटती है.

आओ अर्जित करें सम्मान का धन,
संचित करें अपनापन,
विस्मृत करें वैमनस्य,
स्थापित रहे सामंजस्य,
शमित हो अंहकार,
बस प्रेम का हो संचार,
बस प्रेम का हो संचार.

12 comments:

  1. हम लड़ें अपनी परिस्थितियों से,
    और एक दूसरे की जीत का महोत्सव मनाएँ,
    बँटवारा जमीन नहीं, हमारे सुख - दुःख का हो,
    क्योंकि जमीन पर खिंछी हुई लकीर,
    हृदय को भी बाँटती है.

    सोच से भरी कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  2. किरण जी, साहित्य शिल्पी पर आपका स्वागत। उम्मीद से भरी कविता अच्छी लगी -

    तुम मेरी आँखों के आँसू पोंछ देना,
    मैं तुम्हारे होठों पर मुस्कान सजा दूँ.
    हम लड़ें अपनी परिस्थितियों से,
    और एक दूसरे की जीत का महोत्सव मनाएँ,

    उत्तर देंहटाएं
  3. तुम मेरी आँखों के आँसू पोंछ देना,
    मैं तुम्हारे होठों पर मुस्कान सजा दूँ

    आज के ज़रुरत है ये..........ऐसे समाज का निर्माण होना चाहिए ..अच्छी रचना है..........

    उत्तर देंहटाएं
  4. किरण जी आपकी पंक्तियाँ गद्य अधिक हो गयी हैं। एक स्वस्थ सोच है आपकी कविता में।

    उत्तर देंहटाएं
  5. पंकज सक्सेना2 जून 2009 को 3:51 pm

    कविता और अच्छी हो सकती थी। भाव अच्छे लगे।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत अच्छी कविता है, बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  7. ये कविता पढ़ कर , ख़ास तौर पर दूसरा पद , बचपन में होने वाली स्कूली प्रार्थना याद आ गयी | जो कि सुखद रहा | सन्देश स्पष्ट और सामयिक है |
    कविता कि शुरुआत मुक्त छंद से हुई और ख़त्म होते होते तुकांत शैली दिखाई देने लगी जो कि कविता के ढांचे को ज़रा confused सा बनाता है ...
    फिर भी एक सुन्दर भाव से परिपूर्ण कविता लिखने के लिए बधाई |

    उत्तर देंहटाएं
  8. आप की कविता पर कमेन्ट करने औकात ही नहीं है मैं तो इतना ही कहूँगा बेहतरीन ये लेनी दिल, को छू गयी रिश्ते खून से नहीं दर्द से बना करते हैं.
    सादर
    प्रवीण पथिक
    9971969084

    उत्तर देंहटाएं
  9. किरन जी बहुत अच्छी कविता है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. प्रेरणा देती कविता के लिए किरण जी को बहुत-बहुत बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  11. एक आशावादी साकारात्मक भाव लिये कविता.. किरण सिन्धु जी को अच्छी कविता के लिये बधाई

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget