साहित्य शिल्पीरचनाकार परिचय:-
१५ जुलाई १९८४ को फर्रुखाबाद में जन्मे प्रवीण कुमार शुक्ल रसायन विज्ञानं में स्नातक हैं और फिलहाल बवाना में नोकिया सेल्लुलर में बतौर ऍम.आई.एस. कार्यरत हैं।

कवितायें लिखने का शौक बचपन से है। कुछ ऐसा देख कर या सुन कर या महसूस कर जिससे हृदय की भावनाएं उद्वेलित होने लगें तो उन्हें शब्द देने का प्रयास करते रहते हैं।

वो पत्थर तोड़ती थी तो क्या हुआ?
आखिर वो मेरी माँ ही तो थी
नहीं आती थी उसको मेरी भाषा
मौन में ही सही बात करती तो थी
उसके पास गहने नहीं थे
उसके पास कपडे भी नहीं थे
पर वो था जो नारी को नारीत्व देता है...
माँ को ममत्व देता है
उसके पास थी लज्जा

वो बिस्तर पर शायद कभी ही सोई हो
कुछ पाने की चाह में शायद कभी ही रोई हो
हर व्यथित दिन की शुरुआत
वो मुस्करा कर करती थी
तल्लीन हो जाती थी अपने काम में
जेठ के भरे घाम में
जिसके बदले उसे मिलते थे पैसे..
जिससे बमुश्किल खरीदती थी
दो जून की रोटी
मेरे व मेरे भाईयो के लिए

मुझे याद नहीं कभी भी
कि हो उसने कोई फरमाइश।
क्या नहीं रही होगी
उसके दिल में कोई ख्वाइश?
आखिर वो नारी ही तो थी?
वो पत्थर तोड़ती थी तो क्या हुआ
आखिर वो मेरी माँ ही तो थी।

रात की आड़ में मैंने उसे नहाते देखा था
शर्मिंदगी में आंसू बहाते देखा था
हर आहट पर
लपेट लेती थी चीथडो को,
अपने वदन के चारो ओर
चेष्टा थी खुल ना जाए
पाँव का कोई पोर
सुन्दरता क्या है सुन्दर क्या
क्या वो यह नहीं जानती थी?
कपड़ो से उसका सम्बन्ध
बमुश्किल शरीर ढकने का ही था।

उसे नहीं मालूम था
शिक्षा और साक्षरता के बारे में
पर उसमे मानवीयता थी।
वो दयनीयता की देवी थी
क्या फर्क पड़ता है
वो भूंख से तड़प तड़प कर मरी
दर्द और अवसाद में डूव कर मरी
इंसानियत का ढोंग करने वालों के लिए
वो एक भिखारिन ही तो थी...

वो पत्थर तोड़ती थी तो क्या हुआ।
आखिर वो मेरी माँ ही तो थी...

14 comments:

  1. वो बिस्तर पर शायद कभी ही सोई हो
    कुछ पाने की चाह में शायद कभी ही रोई हो
    हर व्यथित दिन की शुरुआत
    वो मुस्करा कर करती थी
    तल्लीन हो जाती थी अपने काम में
    जेठ के भरे घाम में
    जिसके बदले उसे मिलते थे पैसे..
    जिससे बमुश्किल खरीदती थी
    दो जून की रोटी
    मेरे व मेरे भाईयो के लि
    बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति है प्रवीन जी को बहुत बहुत मुबारक्

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्रवीण जी माँ पर जितना लिखा जाये बहुत कम है माँ वो अनुभव है वो शक्ति है जिसे शब्द दिए ही नहीं जा सकते जितना लिखा जाये कम है हम सब की माँ है और हमें उनसे स्नेह भी है पर संसार में कुछ ऐसी भी माये है जो माँ शब्द में अपने आस्तित्व को तलाशती है ,,
    बहुत अच्छी अभिव्यक्ति है मेरी शुभ कामनाये आप के साथ है

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत अच्छी तरह से एक यैसे तबके की स्त्री की स्तिथि को दिखाने का प्रयाश किया है जिनकी तरफ हम ध्यान ही नहीं देते बहुत ही अच्छी है

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत खूब प्रवीण जी माँ के ऊपर बहुत ही अच्छी कविता है दो शब्द मैं भी कहूँगा उंगली थामे नन्हे हाथ
    पंख पसारे माँ का साथ
    बदले संगी
    पर मंजिल का पंथ न बदला
    बदला जीवन
    मगर प्यार का रंग न बदला

    उत्तर देंहटाएं
  5. bahut achhi kavita hai praveen ji maine aap ka blog bhi dekaha aapki maa ko lekar asri kavitaye bahut hi achhi hai aur is kavita ki to baat hi alag hai

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहूत ही भावोक, मार्मिक रचना............ पर माँ की कोई भी रचना.......... माँ पर लिखी कोई भी रचना नये विशवास का संचार करती है........... माँ जैसे भी हो............. जैसी भी हो........... बस माँ ही है ......... बहुत बहुत दिल को छूने वाली

    उत्तर देंहटाएं
  7. very good praveen ji bhaut chha likha aapne maa ke bare me bahut accha aage bhi ham ummed karte hai ki aap aur rishto ke bare me likhte rahenge hamari duaye aapke sath hai ,wasim

    उत्तर देंहटाएं
  8. प्रवीन जी, आपकी हर नई रचना और परिपक्व हो रही है... बेहद भावुक रचना...
    खबरी
    +91-9953717705
    -
    Visit and leave comments on-
    http://deveshkhabri.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  9. भावुकता से भरी कविता. निश्चय ही मां तो मां ही होती है उसका स्थान सबसे ऊपर है शायद ईश्वर से भी पहले. सुन्दर कविता के लिये बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  10. bahut hi bhavna prdhan kavita hai

    उत्तर देंहटाएं
  11. praveen ji ,

    hats off to you for this wonderful poem ..itni shashkat rachna is visay par bahut dino ke baad padhne ko mili hai ...

    aapko dil se badhai deta hoon

    उत्तर देंहटाएं
  12. तल्लीन हो जाती थी अपने काम में
    जेठ के भरे घाम में
    जिसके बदले उसे मिलते थे पैसे..
    जिससे बमुश्किल खरीदती थी
    दो जून की रोटी
    मेरे व मेरे भाईयो के लि
    bhaut hi behtreen badhayi swikaar kare

    उत्तर देंहटाएं
  13. आप सब लोगो का इतना प्यार और स्नेह दिखने के लिए मैं आप का आभार व्यक्त करता हूँ और आप का ऋणी महशुश करता हूँ आप अपना प्यार और स्नेह यो ही बनाये रखे
    सादर
    प्रवीण पथिक
    9971969084

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget