साहित्य शिल्पीरचनाकार परिचय:-

सालासर में ६ नवम्बर, १९७३ को जन्मे राजाभाई कौशिक अजमेर के डी.ए.वी. कालेज से स्नातक की उपाधि प्राप्त करने के उपरांत आयुर्वेद की ओर उन्मुख हुये और इस क्षेत्र में सुयश प्राप्त किया।
वर्तमान में राजस्थान के चुरू में निवास कर रहे राजाभाई ने अनेक कविताएं, लेख, व्यंग्य आदि लिखें हैं और कई सम्मान प्राप्त किये हैं। आप एक अच्छे चित्रकार भी हैं।
धरणी यौवन की
सुगन्ध से भरा हवा का झौंका
वो बारिश की बूंद
दिल में सिहरती तरंगे
धुलती प्रकृति, खिलती कलियाँ
बोली कोयल
भीगे बच्चे
फूटी घमोरी
कम्पित हुआ रोम-रोम कि....
तडप से बिजली गिरी कुछ दूर
एक आर्तनाद सुना गई
परनाले के नीर में
एक नीड बह गया
टीटहरी का वो बिलखना
कहीं पहाड से टकरा के रह गया
डर के बच्ची भी
माँ के आँचल से मुँह
ढक कर सो गई
न जाने उस गहन अंधेरे व
भावप्रवाह में
मेरी लेखनी भी कहीं खो गई............

17 comments:

  1. सुगन्ध से भरा हवा का झौंका
    वो बारिश की बूंद
    दिल में सिहरती तरंगे
    धुलती प्रकृति, खिलती कलियाँ
    एक आर्तनाद सुना गई
    परनाले के नीर में
    एक नीड बह गया
    टीटहरी का वो बिलखना
    बहुत खूब मित्र क्या बात है कितनी अच्छी तरह से आप ने प्रक्रति की सुन्दरता और उसकी भयानकता भयाबहता का चित्रण किया है अतुलनीय है मेरी बधाई स्वीकार करे
    सादर
    प्रवीण पथिक
    9971969084

    उत्तर देंहटाएं
  2. सब सह जाएंगे
    पर आपकी लेखनी का
    खोना सह न पाएंगे

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह !! क्या चित्र खींचा है आपने शब्दों के माध्यम से.....वाह वाह वाह !!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. भाव्प्रवाह मे अगर लेख्नी बह जाये तो ऐसी रचना घतती है बहुत सुन्दर आभार्

    उत्तर देंहटाएं
  5. कुछ भी हो जाये लेखनी की धार बनी रहनी चाहिये वहीं से तो भावों की वर्षा होगी और फ़िर से एक नीड बनेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  6. चित्र उत्पन्न करती हुई कविता है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. डर के बच्ची भी
    माँ के आँचल से मुँह
    ढक कर सो गई
    न जाने उस गहन अंधेरे व
    भावप्रवाह में
    मेरी लेखनी भी कहीं खो गई....

    सुन्दर चित्रण।

    उत्तर देंहटाएं
  8. शब्द चयन तारीफ के काबिल है। सुन्दर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  9. टीटहरी का वो बिलखना
    कहीं पहाड से टकरा के रह गया
    डर के बच्ची भी
    माँ के आँचल से मुँह
    ढक कर सो गई
    न जाने उस गहन अंधेरे व
    भावप्रवाह में
    मेरी लेखनी भी कहीं खो गई............
    सुन्दर भावाभिव्यक्ति है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. राजाभाई कौशिक जी का साहित्य शिल्पी पर हार्दिक अभिनंदन।

    उत्तर देंहटाएं
  11. बेहद खूबसूरत ...सीधे दिल पर असर छोड़ने वाली रचना | कुछ समय पहले शिल्पी पर ही इसी तर्ज़ , " बादल को घिरते देखा था " भी पढी थी |
    प्रकृति में हर वस्तु हर भावः का अपना एक विलोम है और कई बार ये विलोम भाव एक साथ नज़र आते हैं .... बारिश में धुले हुए पत्तो के बीच बिलखती टिटहरी ऐसा ही कुछ आभास दे जाती है ...
    बहुत पसंद आयी आप की ये रचना .. बधाई ..

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुंदर चित्रात्मक प्रस्तुति! बधाई स्वीकारें!

    उत्तर देंहटाएं
  13. सुन्दर कविता....

    साहित्य शिल्पी पर आपका स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं

आपका स्नेह और प्रस्तुतियों पर आपकी समालोचनात्मक टिप्पणियाँ हमें बेहतर कार्य करने की प्रेरणा प्रदान करती हैं.

पुस्तकालय

~~~ साहित्य शिल्पी का पुस्तकालय निरंतर समृद्ध हो रहा है। इन्हें आप हमारी साईट से सीधे डाउनलोड कर के पढ सकते हैं ~~~~~~~

डाउनलोड करने के लिए चित्र पर क्लिक करें...

आइये कारवां बनायें...

साहित्य शिल्पी, हिन्दी और साहित्य की सेवा का मंच, एक ऐसा अभियान.. जो न केवल स्थापित एवं नवीन रचनाकारों के बीच एक सेतु का कार्य करेगा अपितु अंतर्जाल पर हिन्दी के प्रयोग और प्रोत्साहन का एक अभिनव सोपान भी है, अपने सुधी पाठको के समक्ष कविता, कहानी, लघुकथा, नाटक, व्यंग्य, कार्टून, समालोचना तथा सामयिक विषयो पर परिचर्चाओं के साथ साहित्य शिल्पी समूह आपके समक्ष उपस्थित है। यदि राष्ट्रभाषा हिदी की प्रगति के लिए समर्पित इस अभियान में आप भी सहयोग देना चाहते हैं तो अपना परिचय, तस्वीर एवं कुछ रचनायें हमें निम्नलिखित ई-मेल पते पर प्रेषित करें।
sahityashilpi@gmail.com
आइये कारवां बनायें...

Followers

Google+ Followers

Get widget